You are here

नीतीश कुमार की BJP को दो टूक, साथ आ गए हैं तो बिहार के लिए फंड ज्यादा देना होगा

नई दिल्ली/पटना। नेशनल जनमत ब्यूरो 

बिहार में नीतीश कुमार ने महागठबंधन से नाता क्या तोड़ा? नीतीश पर भरोसा जताने वाले ही उन पर हमलावर हो गए। लेकिन अब जबकि सरकार बने कई दिन हो गए हैं तो नीतीश कुमार अपनी विकासवादी छवि को बचाए  रखने के लिए बीजेपी को ही खरी-खरी सुनाने से नहीं चूक रहे हैं। खबर है कि नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से मिल रहे अनुदान को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा है।

नीतीश कुमार ने केंद्रीय न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद से एक कार्यक्रम में कहा कि अब तो हम आप साथ आ गए हैं। अब बिहार के विकास लिए ज्यादा पैसा मिलना चाहिए। नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से प्रदेश की अधीनस्थ अदालतों को सुदृढ बनाकर त्वरित न्याय दिलाने के लिए उदारतापूर्वक राशि का आवंटन करने को कहा।

पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में न्याय विभाग, भारत सरकार के विधि एवं न्याय मंत्रालय एवं बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आयोजित कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए नीतीश कुमार ने मोदी सरकार में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद से कहा, ‘हम साथ साथ आ गए हैं तो अब यह दिखना भी चाहिए।

नीतीश कुमार ने रविशंकर प्रसाद से कहा कि बिहार में कुल 38 जिले और 101 अनुमंडल हैं और आप कह रहे हैं कि बिहार में अधिनस्थ अदालतों को सुदृढ़ बनाने के लिए 50, 60 या 70 करोड़ रूपये दिए जाएंगे। नीतीश ने कहा कि इससे उद्देश्य की पूर्ति नहीं होगी।

उन्होंने कहा कि 2005-06 में उनके सत्ता में आने के समय बिहार बजट जो 25-26 हजार करोड़ रुपये था, आज बढकर 1.40 लाख करोड़ रूपये अधिक हो गया है। अगर आप देना चाहते हैं तो उतनी राशि का आवंटन करें, जिससे यह काम हो सके।

बिहार के मुख्यमंत्री ने बताया कि वह अधीनस्थ अदालतों को सशक्त बनाने के बारे में बातें कर रहे हैं। पटना उच्च न्यायालय के भवन के विस्तार के लिये राज्य सरकार द्वारा 169 करोड़ रूपये की योजना स्वीकृत की गयी तथा इस पर कार्य हो रहा है।

टेली लॉ के माध्यम से गरीब एवं जरूरतमंदों को कानूनी सहायता मिलने में सुविधा होगी। इससे पारदर्शिता आने वाली है। टेली लॉ के माध्यम से जरूरतमंद लोगों को जल्दी न्यायिक सहायता मिल जायेगी।

Related posts

Share
Share