You are here

जब गठबंधन कर रहे थे तब पता नहीं था क्या हमारे ऊपर भ्रष्टाचार के आरोप हैं- लालू यादव

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

नीतीश के इस्तीफे के बाद लालू यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार में सबकुछ पहले से ही सेट था। लालू यादव ने नीतीश पर पलटवार करते हुए कहा- ये कैसी ईमानदारी है, नीतीश पर भी तो हत्या का आरोप है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के आरोप से हत्या का आरोप बड़ा है।

इसे भी पढ़ें-बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिया इस्तीफा, बोले तेजस्वी से कभी नहीं मांगा गया इस्तीफा

लालू यादव ने कहा, ‘नीतीश कुमार के खिलाफ मर्डर केस दर्ज है, जिसमें उन्हें उम्र कैद की सजा भी हो सकती है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने खुद चुनावी हलफनामे में 302 और 307 की धारा के तहत केस की बात स्वीकारी थी। नीतीश को पता था कि वे बचेंगे नहीं, वह उम्रकैद और फांसी की सजा से डर गए, इसलिए उन्होंने इस्तीफा दिया।’

डीयू कोई थाना नहीं है और उसके प्रवक्ता सीबीआई नहीं हैं- 

तेजस्वी यादव पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों पर जेडीयू की तरफ से सार्वजनिक सफाई मांगे जाने के सवाल पर आरजेडी सुप्रीमो ने कहा, जेडीयू कोई थाना नहीं और जेडीयू के प्रवक्ता सीबीआई नहीं हैं। हमने संबंधित जांच एजेंसी को सफाई देने की बात कही थी। बता दें कि पिछले 15 दिन से बिहार में सियासी खींचतान चल रही थी। लालू यादव के बेटे और बिहार में डिप्टी सीएम तेजस्वी पर करप्शन के आरोपों के चलते विवाद चल रहा था।

इसे भी पढ़ें-क्यों बनता है कोई फूलन या ददुआ? बुंदेलखंड के बीहड़ और सामंतवाद की दास्तान

हमारे ऊपर आरोप तो पहले से ही थे- 

गठबंधन बचाने के लिए लालू यादव का नया फॉर्मूला-

इस बीच ऐसे संकेत हैं कि नीतीश कुमार अब बीजेपी के साथ मिलकर राज्य में सरकार गठन कर सकते हैं। वहीं, आरजेडी की तरफ से गठबंधन सरकार बचाने की कवायद शुरू हो गई है और आरजेडी सुप्रीमो ने एक नया फॉर्मूला रखा है।

इसे भी पढ़ें-जन्मजात कमजोरी को ताकत बनाने वाले ‘गूंगे पहलवान’ वीरेन्दर यादव, सुशील कुमार भी जिसे कभी नहीं हरा पाए

लालू यादव ने कहा कि महागठबंधन अकेले नीतीश कुमार का फैसला नहीं था। उन्होंने कहा, हम बिहार में राष्ट्रपति शासन नहीं चाहते।आरजेडी, जेडीयू और कांग्रेस मिलकर नया नेता चुने। ना तेजस्वी, ना नीतीश कोई तीसरा राज्य का मुख्यमंत्री बने।

 

Related posts

Share
Share