You are here

नीतीशराज: भगवा गठजोड़ का असर, नहर में गायों के शव मिलने के बाद हिंसा, 7 जिलों में धारा 144 लागू

नई दिल्ली/पटना। नेशनल जनमत ब्यूरो 

बिहार में नीतीश कुमार की जेडीयू का भगवा ब्रिगेड यानि बीजेपी के साथ गठबंधन होते ही गाय को लेकर होने वाले बवाल शुरू हो गए हैं। कुछ ही दिन पहले आरा इसके बाद सुपौल में गौगुंडों ने बवाल किया था। अब उससे कई कदम आगे बढ़ते हुए नफरत की मानसिकता वालों ने बिहार के कई जिलों में हालात असमान्य कर दिए हैं।

दरअसल बिहार में एक नहर में गाय समेत दर्जनों मवेशियों के शव मिलने के बाद पूरे इलाके मे सांप्रदायिक तनाव का महौल है। स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए राज्य प्रशासन ने कर्फ्यू और धारा 144 लागू कर दी है।

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, घटना बिहार के मधेपुरा जिले के मुरलीगंज थाना क्षेत्र के तिनकोनमा गांव के पास बहकर निकलने वाली जेबीसी नहर में ग्रामीणों ने 50 कटी हुई गायों के शवों के नहर में बहते हुए देखा। जिसके बाद आस पास के क्षेत्रों में अफरा तफरी फैल गई।

घटना की सूचना मिलने पर एएसपी राजेश कुमार, एसडीएम संजय कुमार निराला, सदर थानाध्यक्ष मनीष कुमार, बीडीओ ललन कुमार चौधरी, थानाध्यक्ष राजेश कुमार आदि दल-बल के साथ पहुंचे. इसी दौरान लोग आक्रोशित हो गए।

इस दौरान गुस्साए लोगों ने एक निजी चैनल के ओबी वैन को निशाना बनाते हुए गाड़ी के शीशे तोड़ दिये। वैन को बचाने और भीड़ को खदेड़ने के लिए आरएएफ के जवानों ने आंसू गैस के गोले दागे। ग्रामीणों ने भी पुलिस और आरएएफ पर पथराव कर दिया.

लोगों ने एसडीएम के वाहन को क्षतिग्रस्त कर नहर में फेंक दिया। बाद में डीएम मोहम्मद सोहैल, एसपी विकास कुमार ने पहुंचकर लोगों को समझाया। साथ ही मामले में अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया। इस बीच प्रशासन ने एहतियातन शहर और आस-पास इंटनेट पर अगले आदेश तक पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है।

सात जिलों में धारा 144 लागू- 

सांप्रदायिक दंगे को रोकने के लिए घटना स्थल पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। बिहार के 7 जिलों, मधेपुरा, सुपौल, सहरसा, पूर्णिया, अरेरिया, किशनगंज और कटिहार में धारा 144 लागू है।

प्रमुख सचिव गृह आमिर सुभानी ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया, मुरलीगंज में स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। इंटरनेट सेवाओं को जल्द ही बहाल कर दिया जाएगा।

यह पूछे जाने पर कि हो सकता ये जानवर बिहार में आई भीषण बाढ़ से मरे हों इस सवाल के जवाब में प्रमुख सचिव ने कहा, पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

आपको बता दें, प्रशासन ने नहर को बंद करा दिया है ताकि लगातार बहकर आ रहे शवों को रोका जाए और उन्हें बाहर निकाला जा सके फिलहाल बवाल पूरी तरह से शांत नहीं है स्थिति पर प्रशासन अंकुश लगाने की कोशिश में है लेकिन हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं।

इसे भी पढ़ें- 

आधा दर्जन केस वाले सांसद को PM ने बनाया केन्द्रीय मंत्री, लोग बोले ‘साफ छवि’ भी मोदी जी का जुमला है

राजस्थान: गौगुंडों को नहीं दिखता गाय और गधे में फर्क, वाहन में गधा ले जा रहे शख्स को बुरी तरह पीटा

फर्रुखाबाद: बच्चों की मौत मामले में DM-CM आमने सामने, DM ने योगी सरकार के खिलाफ दर्ज कराई FIR

आखिर अपने स्टूडेंट की ही थीसिस चुराने वाले शिक्षक की याद में कौन मनाता है शिक्षक दिवस ?

मरते दम तक रामस्वरूप वर्मा के साथ ब्राह्मणवाद की कब्र खोदते रहे बिहार लेनिन बाबू जगदेव कुशवाहा

 

Related posts

Share
Share