You are here

नोटबंदी के बाद PM के ‘मित्र’ उद्योगपतियों की संपत्ति में भारी इजाफा, अडानी की 125,अंबानी की 80 फीसदी बढ़ी

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

2017 में नोटबंदी को खूब महिमामंडित किया गया। सत्ता पक्ष के अंधभक्तों द्वारा बताया गया कि नोटबंदी से अमीरों का काला धन बाहर आ जाएगा। गरीबों ने इस बात का खूब जश्न मनाया कि हम तो डूबे ही हैै सनम अब तुम भी डूब जाओगे।

लेकिन हुआ क्या ये किसी से छिपा नहीं है, सरकार अब खुद अपने बड़बोलेपन से पीछे कदम खींचती नजर आ रही है। भाषणों से नोटबंदी और उससे जुड़े जुमले गायब हो चुके हैं।

अब हालात ये है कि देश की जीडीपी घट रही है, विकास दर नीचे जा रही है, पूंजीपतियों के कारण बैंकों का घाटा बढ़ता ही जा रहा है, देश मे बेरोजगारी और आर्थिक मंदी दोनों बढ़ी है लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मित्र पूंजीपतियों का मुनाफा 100 गुने से भी ज्यादा तक बढ़ा है।

मित्र अडानी का मुनाफा 2017 में सर्वाधिक तेजी से बढ़ा है- 

जहां एक तरफ देश का आम इंसान नोटबंदी, जीएसटी जैसे तमाम सरकार द्वारा लादी गई योजनाओं के कारण दो जून की रोटी के लिए भी मोहताज हो रहा है, वहीं मोदी सरकार के चहेते पूंजीपतियों की संपत्ति में बेतहाशा वृद्धि हुई है।

साल 2017 में देश नोटबंदी से जूझ रहा था, मगर भारत के बड़े कारोबारियों में शुमार और नरेंद्र मोदी के खासमखास गौतम अडानी की संपत्ति सबसे तेजी से बढ़ रही थी। इस दौरान अडानी की संपत्ति में 125 फीसदी का इजाफा हुआ है।

अडानी ही नहीं मोदी के प्रिय पूंजीपतियों में शुमार रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी की संपत्ति में भी 80 फीसदी की भारी वृद्धि हुई है। यह खुलासा ब्लूमबर्ग मीडिया ने अपनी एक रिपोर्ट में किया है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत के सबसे बड़े पोर्ट ऑपरेटर, बंदरगाह संचालक और अडानी समूह के सर्वेसर्वा गौतम अडानी की संपत्ति पिछले साल 124.6 फीसदी की गति से बढ़ी है। जनवरी 2017 में जहां उनकी संपत्ति 4.63 अरब डॉलर थी, वो दिसंबर 2017 के अंत तक पहुंचते-पहुंचते 10.4 अरब डॉलर (करीब 660 अरब रुपये) हो गई।

अन्य पूंजीपतियो का हाल देखिए- 

2017 में अडानी के बाद डी-मार्ट के मालिक राधाकृष्ण दमानी की संपत्ति में लगभग 80 फीसदी का उछाल आया। मार्च 2017 में दमानी की संपत्ति 3.88 अरब डॉलर थी जो दिसंबर में 6.96 अरब डॉलर (करीब 441.30 अरब रुपये) पहुंच गई।

इस मामले में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी भी पीछे नहीं रहे। उनकी संपत्ति 2017 में 77.53 फीसदी बढ़ी। जनवरी 2017 में जहां उनकी संपत्ति 22.70 अरब डॉलर थी, वो दिसंबर 2017 में बढ़कर 40.30 अरब (करीब 2536 अरब रुपये) का आंकड़ा पार कर गई। दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची में अंबानी फिलहाल 20वें स्थान पर हैं।

2017 में कुमार बिड़ला, अजीम प्रेमजी, उदय कोटक, विक्रम लाल और लक्ष्मी मित्तल की संपत्ति में क्रमश: 50.41, 46.72, 44.87, 44.03 फीसदी और 36.11 फीसदी का उछाल आया।

मोदी सरकार के मंत्री बोले, भीमा-कोरेगांव हिंसा के लिए जिग्नेश मेवाणी जिम्मेदार नहीं

2019 में मुकाबला छद्म हिन्दुत्व और जातीय स्वाभिमान के बीच होगा, यानि फिर होगा कमंडल पर मंडल का वार !

जेल की सलाखें भी हौसला डिगा नहीं पाईं लालू समर्थकों का, जेपी की तर्ज पर ‘एलपी’ आंदोलन का ऐलान

धर्म की चासनी में लपेटकर योगी सरकार ने दिया OBC को धोखा, सचिवालय के 465 पदों में OBC की 0 वैकेंसी

जातिवाद के खिलाफ एक PCS अधिकारी के क्रोध को दर्शाती कविता-“ये कौन तय करेगा कि सच क्या है” ?

भीमा कोरेगांव एवं मनुवादी बौखलाहट पर साथी सूरज कुमार बौद्ध की कविता: 56 इंची परिभाषा

 

 

Related posts

Share
Share