You are here

किसानों का दिमाग खेत-खलिहान-खाद-पानी-बिजली से भटकाकर, पाकिस्तान-चीन में उलझा दिया गया है !

नई दिल्ली/ बुंदेलखंड, नेशनल जनमत ब्यूरो।

राजनीतिक दल या सरकार कोई भी हो किसानों के खेत-खलिहान, खाद, पानी, बिजली के मुद्दे सभी सरकारों के एजेंडे से पीछे छूटते जा रहे हैं। किसान शब्द सिर्फ वोट बैंक बनकर रह गया है इसलिए किसानों को अपने अधिकारों के लिए जागरूक होकर एकजुट होने की जरूरत है।

उक्त बातें वक्ताओं द्वारा बुंदेलखंड के उरई में आयोजित किसान मसीहा, पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चऱण सिंह की जयंती के अवसर पर कही गईं। उन्नतशील कृषक प्रवेश कुमार पटेल के फैक्ट्री एरिया स्थित मटर प्लांट पर किसान दिवस के उपलक्ष्य में किसान जागरूकता गोष्ठी आयोजित की गई।

जागरूकता गोष्ठी का शुभारंभ चौधरी चऱण सिंह और सरदार पटेल के चित्रों पर पुष्पार्चन के साथ किया गया। इस दौरान जेडीयू के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुरेश निरंजन भैयाजी ने कहा कि किसान देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं किसानों की दशा और दिशा सुधारे बिना देश की उन्नति संभव नहीं।

भैयाजी ने कहा कि आजादी के इतने सालों बाद भी किसान दुर्दशाग्रस्त है उसके जिम्मेदार कहीं ना कहीं हम खुद हैं। उन्होंने कहा चौधरी चरण सिंह हमेशा कहते थे कि देश की खुशहाली का रास्ता किसानों के खेतों और खलिहानों से होकर गुजरता है।

देखिए सुरेेश निरंजन भैयाजी के साथ किसानों के मुद्दे पर बातचीत- 

संचालन कर रहे नेशनल जनमत के संपादक नीरज भाई पटेल ने कहा कि किसान और आम आदमी आज भटकाव की स्थिति में है। उन्नतिशील किसानों और कृषि व्यवसायों से जुड़े व्यक्ति को चाहिए कि वो अपने पास आने वाले किसानों को उनके वास्तविक मुद्दों को प्रति जागरूक करें।

देश में आज जिस तरह का माहौल है उसमें किसानों को उनके जरूरी मुद्दों खेत-खलिहान, सिंचाई के पानी, खाद, पानी, बिजली से ध्यान भटाककर छद्म राष्ट्रवाद और भारत-पाकिस्तान मे उलझा दिया गया है। किसान भाईयों को चाहिए कि वो सरकारो से अपने हक के लिए संघर्ष करें तभी देश की तरक्की संभव है।

डीडी बीज प्रमाणीकरण सोबरन सिंह यादव

उपनिदेशक बीज प्रमाणीकरण सोबरन सिंह यादव ने किसानों से जुड़ी तमाम जरूरी योजनाओं और बीज की गुणवत्ता परखकर कृषि आय बढ़ाने की जानकारी दी।

डीपीआरओ राजकिशोर सिंह

जिला पंचायत राज अधिकारी (DPRO) राजकिशोर सिंह ने कहा कि गांव स्तर पर प्रधान, बीडीसी, जिला पंचायत सदस्य अगर गांव के विकास के लिए ईमानदारी से कार्य करें तो गांव के विकास के लिए शासन से पर्याप्त धनराशि आवंटित की जाती है।

इस दौरान जिला सूचना अधिकारी कृष्ण मोहन ने कहा कि किसानों में जागरूकता की कमी से कई कल्याणकारी योजनाएं उन तक पहुंच ही नहीं पाती। इसके लिए सरकारी विभागों के अलावा जागरूक किसानों को भी एक दूसरे में जागरूकता फैलाने का प्रयास करना चाहिए।

डीआईओएस भगवत प्रसाद पटेल

जिला विद्यालय निरीक्षक भगवत पटेल ने कहा कि गांव के प्राथमिक विद्यालयों और इंटर कॉलेज के माध्यम से किसानों में जागरूकता लाने का प्रयास किया जा सकता है, इसके लिए विभागीय स्तर पर प्रयास करके इंटर कॉलेज में गोष्ठी आयोजित करवाने की आवश्यकता है।

एक गोष्ठी में शामिल होने के कारण देरी से पहुंचे अपर जिलाधिकारी गुलाबचंद्र और सनराईज रेस्टोरेंट के मालिक रमेश पटेल ने सरदार बल्लभ पटेल और चौधरी चऱण सिंह के चित्रों पर पुष्प अर्पित किए।

इस मौके पर बीज प्रमाणीकरण के निरीक्षक आदेश कुमार, रामनारायन वर्मा, श्रीनारायन, डॉ. शिववीर सिंह के अलावा शिक्षक श्रवण निरंजन, गुलाब सिंह निरंजन दाऊ, विश्वास निरंजन, सर्वोदय इंटर कॉलेज के प्रबंधक अनिल निरंजन अटरिया, संजीव पांचाल, अनिल सारंगपुरा, सौरभ पटेल बड़ागांव, महेश वर्मा, शशि पटेल आदि मौजूद रहे।

किसानों का दिमाग खेत-खलिहान-खाद-पानी-बिजली से भटकाकर पाकिस्तान-चीन में उलझा दिया गया है !

पढ़िए ! मोदी के मंत्री हेगड़े के संविधान बदलने के बयान पर एक अंबेडकरवादी-मूलनिवासी का खुला खत

मोदी के मंत्री बोले-हम संविधान बदलने आए हैं, लोगों की पहचान धर्म और जाति के आधार पर होनी चाहिए

CM योगी द्वारा खुदके और केशव मौर्य के केस वापसी आदेश पर, लोग बोले क्या रामराज्य में ऐसा होता है ?

नजरिया: 2 G घोटाले के समय जैसी नैतिकता कांग्रेस ने दिखाई थी,अब वैसी नैतिकता की उम्मीद BJP से है

न्यायिक सेवा में हिन्दी माध्यम के प्रतियोगियों के साथ हो रहे भेदभाव के खिलाफ सड़क पर उतरे छात्र

 

 

 

 

 

 

Related posts

Share
Share