You are here

धार्मिक पाखंड का चीरहरण करती कविता…ये कैसा करवाचौथ…?

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

बाबा साहेब अंबेडकर ने भारत की महिलाओं को ब्राह्मणवाद के चंगुल से मुक्त कराया। उठने-बैठने, पढ़ने-लिखने, चलने-फिरने की आजादी दिलाई। इतना ही नही आज महिलाएं पुरुषो के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं इसके लिए भी बाबा साहेब ने जीवन पर्यंत संघर्ष किया।

अफसोस आज वही महिलाएं ज्योतिबा फुले, सावित्री बाई फुले, फातिमा शेख, बाबा साहेब अंबेडकर जैसे महान लोगों के संघर्ष को नजरअंदाज कर रही हैं। बाबा साहेब ने हमे तीन मूलमंत्र दिए- शिक्षित हो ,संगठित हो ,और संघर्ष करो।

इसलिए अपने महापुरुषों को पहचानों ! पहचानों की तुम्हें मनुस्मृति केंद्रित ब्राह्मणवादी चंगुल से आजाद किसने कराया? क्या तुम भूल गईं जब तुमको सती प्रथा के नाम पर जिंदा जलाया जाता था?

शोषण तथा पाखंड की इसी कड़ी में करवाचौथ प्रमुख है। करवाचौथ की इसी साजिश का पर्दाफाश करती उदय कुमार की कविता – ये है कैसा करवाचौथ..?

ये है कैसा करवाचौथ…???
ये है कैसा करवाचौथ…???

पति के हाथों पिटती जाए…
कोख़ में अजन्मी मारी जाए…
फिर भी बेकार की उम्मीदों में…
नारी तू क्यू है मदहोश…???

बेमतलब है ये करवाचौथ…
ये है कैसा करवाचौथ..????

नारी अब ना कर तू करवाचौथ…
ये है कैसा करवाचौथ…???

नारी तुझे अपनीं बातें कहना है…
अब ना यूँ चुप रहना है…
छोड़ ढोना कुरीति-पाखण्ड…
अब ना कर तू कोई संकोच…।।

छोड़ दे दोहरे मापदंड का करवाचौथ…
ये है कैसा करवाचौथ…???

पंचशील पथ का जीवनसाथी हो…
नारी हो साथी के माथे का तिलक…
जो पंचशील की राह नहीं…तो…
किस बात का करवाचौथ…???

बंद करो यह करवा चौथ….
बोलो ! कैसा करवाचौथ…???
नहीं चाहिए खोखला करवाचौथ…।।

मेंहदी-चूड़ी-बिछुआ-कंगन के…
साज-श्रृंगार में…सजी हुई
ना गवां तू अपना जीवन…
साथी संग कर तू बुद्ध को नमन…।।

ऐसा सजीला हो करवाचौथ…
हाँ; ऐसा ही हो करवाचौथ…।।

माफ़ करना मेरे जीवनसाथी…
हैं हम-तुम दोनों “दीया-बाती”.
पर न करना तुम मेरे लिये…
अब तो कोई व्रत-प्रदोष…।।

छोड़ दो अब करवाचौथ…
मत करना तुम करवाचौथ…।।

अब समझो मेरे जीवनसाथी…
पथरीले रास्ते पर तेरे संग…
जीवन भर तेरे साथ चलूंगा..
धूप में ठंढी हवा बनूँगा …।।

पर;अब…मत करना…मत करना…
आडम्बरयुक्त ये करवाचौथ…।।

तेरे राहों के काँटों को…
अपनीं पलकों से चुन लूंगा…
पंचशील पथ पर तेरे संग चलूंगा…
मानवता की ख़ातिर मैं खुद को अर्पण कर दूँगा…।

पर;अब…मत करना…मत करना…
आडम्बरयुक्त ये करवाचौथ…।।

– (रचनाकार उदय कुमार गौतम, भारतीय मूलनिवासी संगठन में फैजाबाद के जिला महासचिव हैं)

शाह के बेटे की दौलत में बेतहाशा वृद्धि पर कांग्रेस का वार, क्या इस बार खुलेगा प्रधानसेवक का मुंह?

नरेन्द्र मोदी के PM बनते ही घाटे में चल रही अमित शाह के बेटे की कंपनी का टर्नओवर 16 लाख गुना बढ़ा

CM नीतीश का सख्त फैसला, बिहार में करवाया बाल विवाह तो पंडित की खैर नहीं !

हड़तालों की सरकार: GST के विरोध में कल से 80 लाख ट्रकों का चक्का जाम, 13 को 54000 पेट्रोल पंप बंद

अक्सर ‘पहुंच से बाहर’ रहते हैं CM योगी, UP के भाजपाई नाराज, निकाय चुनावों में जनता के मूड से चिंतित

मोदी ‘भक्त’ ने AIIMS के डॉक्टर को दी धमकी, मोदी-योगी के खिलाफ कुछ भी लिखा तो घर में घुसकर मारूंगा

करवाचौथ: PM के साथ शादी के लिए 1 महीने से दिल्ली में धरना दे रही महिला बोली, मिले बिना हटूंगी नहीं

 

Related posts

Share
Share