You are here

पल्लवी पटेल और कुर्मी संगठनों के संघर्ष के आगे झुका प्रशासन, बांकेलाल पटेल की सारी मांगे मानी

नई दिल्ली/ प्रतापगढ़। नेशनल जनमत ब्यूरो 

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में हुई अपना दल के नेता बांकेलाल पटेल के बेटे की हत्या ने पिछड़े कुर्मियों को एक बड़ा सबक दिया है। सबक ये है कि समाज की भलाई जमींदारी के झूठे आडंबर को ओढ़े रहने में नहीं पिछड़े वर्ग की एकता को मजबूत करने और सड़क पर उतरकर संघर्ष करने में है।

इतना ही नहीं इससे बड़ा एक सबक ये मिला कि अन्याय के खिलाफ समाज को सत्ताधारी दलों की ओर देखना बंद कर देना चाहिए। ये सिर्फ और सिर्फ अपने महिमामंडन के लिए जीते हैं। ऐसे लोगो को समाज और न्याय-अन्याय की कोई फिक्र नहीं।

से भी पढ़ें-आरक्षण दिवस पर विशेष : आरक्षण खत्म करके शाहूजी महाराज के हिस्सेदारी आंदोलन की हत्या कर रही है BJP

प्रतापगढ़ में पटेल समाज ने जिस तरह से सत्ता का समर्थन ना होते हुए भी एकता दिखाई वो काबिले तारीफ है। इसी सामाजिक एकता को भांपकर बुधवार सुबह ही प्रशासन बांकेलाल पटेल के घर पर पहुंच गया और अनुरोध किया कि आपकी सारी मांगे माने ली गई हैं। धरना प्रदर्शन को रुकवा दीजिए।

कल से ही प्रतापगढ़ में डेरा डाले हैं पल्लवी पटेल- 

अपना दल की अध्यक्ष कृष्णा पटेल और उपाघ्यक्ष पल्लवी पटेल कल बांकेलाल पटेल के घर पहुंची थी और आज बड़े प्रदर्शन की घोषणा की थी।  पल्लवी पटेल इस आंदोलन के लिए प्रतापगढ़ में ही रुक गईं थीं और सारी स्थिति पर नजर बनाए हुए थीं।

आज सुबह पल्लवी पटेल एवं अपना दल के संस्थापक सदस्य मानसिंह पटेल कार्यकर्ताओं के साथ मुरारपुर पट्टी पहुँचे। देखते ही देखते सूरज  पटेल की निर्मम हत्या के विरोध में हजारों की तादात में लोग इकट्ठे हो गए।

इसे भी पढ़ें-सत्ता वालों ने नहीं ली सुध, बांकेलाल के घर पहुंची अपना दल नेता कृष्णा-पल्लवी पटेल, प्रदर्शन आज

डीएम-एसपी समेत पूरा प्रशासन पहुंचा बांकेलाल के घर- 

मौके की नजाकत को भांप स्वयं डीएम शरद कुमार सिंह और एसपी शगुन गौतम ने गांव पहुंचकर परिवार की सुरक्षा हेतु 2 सशस्त्र सुरक्षा के जवान,  एक रिवाल्वर और एक रायफल का लाइसेंस बांकेलाल पटेल को उपलब्ध कराया। साथ ही मुआवजे के लिए सीएम से बात करने का आश्वासन दिया।

इसे भी पढ़ें-नगर विकास मंत्री के जिले में EO अनिरुद्ध पटेल को पीटने वाले BJP नेता मनोज तिवारी की गिरफ्तारी नहीं

इस दौरान बांकेलाल पटेल ने कहा कि बेटे की हत्या करने वाले दोनों भाई विजय कमार मिश्र और राजेन्द्र कुमार मिश्र मेरी राजनीतिक सक्रियता से जलते है। मेरे विद्यालय को लेकर तमाम कुचक्र रचे जा रहे हैं। मेरे बेटे की तरह ही ये लोग मेरी हत्या भी करा सकते हैं।

इस बारे में पुलिस अधीक्षक सगुन गौतम ने आश्वासन दिया कि दोनों आरोपी पुलिस हिरासत में उनकी भूमिका की जांच हो रही है दोषी होंगे तो कोई नहीं बचा पाएगा। मांगे माानने के बाद सूरज पटेल का पार्थिव शरीर अंतिम संस्कार के लिए इलाहाबाद ले जाया गया।

कुर्मी स्वाभिमान महासंघ की टीम मौके पर थी मौजूद- 

इसे भी पढ़ें-चल रहा मौतों का खेल, मारे जा रहे बेगुनाह पटेल….शायर मुज़म्मिल अय्यूब की झकझोर देने वाली नज़्म

इस दौरान कूर्मि स्वाभिमान महासंघ की संयोजक साधना सचान, अवधेश कटियार, शिवधारी सिंह पटेल,  अपना दल के नेता अशोक पटेल, जिलाध्यक्ष बृजेश पटेल, पूर्व विधायक मुन्ना यादव सहित बड़ी संख्या में लोग प्रदर्शन के लिए पहुंच गए थे।

ईंट से कूचकर हुई थी हत्या- 

अपना दल विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य बांकेलाल  पेशे से वकील हैं। पटेल के इकलौते पुत्र सूरज की कोचिंग से लौटते समय रविवार सुबह सिर कूचकर हत्या कर दी गई थी। तीन दिन से शव को बर्फ में रखकर बांकेलाल पटेल अपनी मांगे मानने की जिद पर अड़े थे।

Related posts

Share
Share