You are here

प्रतीक्षा में ही रह गई शहीद के नाम की गली, निगम पार्षद चौबे जी ने बना डाली पांडे गली

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

रायपुर नगर निगम आजकल चर्चा में हैं. दरअसल नगर के डीडी नगर इलाके में बाल आयोग की अध्यक्ष शताब्दी पांडे का आवास है. यहां की स्थानीय पार्षद मीनल चौबे ने यहां एक सड़क का निर्माण कराया और एक गली के लैंडमार्क पर ‘ शताब्दी पांडे गली ‘ लिखवा दिया. ये पत्थर शताब्दी पांडे के घर से 50 मीटर की दूरी पर लैंडमार्क के तौर पर लगाया गया है. जबकि रायपुर के ही एक शहीद के परिवार का नामकरण का आवेदन तीन- चार साल से नगर निगम में लंबित पड़ा है। उस पर फैसला नहीं हो सका है।

ये भी पढ़ें…जन्मजात श्रेष्ठता का दंभ तोड़ती है देश के सबसे सफल कोचिंग संस्थान के फाउंडर आंनंद की कहानी

शहीद का परिवार वर्षों से कर रहा है बेटे के नाम पर सड़क बनने का इंतजार- 

समता कॉलोनी स्थित शहीद राजीव पांडेय के परिवार ने अपने बेटे के नाम पर मार्ग की मांग को लेकर निगम को 3-4 साल पहले प्रस्ताव दिया था। लेकिन आजतक उनके नाम पर सड़क का नाम नहीं हो सका। प्रस्ताव से संबंधित जानकारी सबको है, लेकिन पहल किसी भी स्तर पर नहीं हो रही है। यह अकेला उदाहरण नहीं हैं, ऐसे कई आवेदन निगम, जोन कार्यालयों और पार्षदों के पास लंबित हैं. हैरत की बात यह है कि एक शहीद के परिवार का नामकरण का आवेदन तीन- चार साल से नगर निगम में लंबित पड़ा है. उस पर फैसला नहीं हो सका है.  नामकरण का निर्णय महापौर परिषद् (एमआईसी) करती है, जिस तक यह प्रस्ताव पहुंचा ही नहीं।

ये भी पढ़ें…स्टेशन बेचने के बाद आरक्षण खात्मे की ओर प्रभू का अगला कदम , खत्म होंगे 10 हजार 900 पद

जानिए क्या कहना है नगर आयुक्त हेमंत शर्मा का- 

रायपुर नगर निगम के नगर आयुक्त हेमंत शर्मा इस मामले में  कहते हैं कि ‘ किसी भी गली, सड़क का नाम एमआईसी से मंजूरी के बाद ही रखा जाता है। ‘शताब्दी पांडे गली” मैंने भी पढ़ा है, नियमानुसार यह गलत ही है। इसे लेकर जोन से कोई अनुमति नहीं दी गई है। निगम के नियमों के तहत जो भी उचित होगा करेंगे।’

क्या कहती हैं वार्ड पार्षद मीनल चौबे- 

शताब्दी पांडे जहां रहती हैं उस वार्ड की पार्षद मीनल चौबे हैं. मीनल चौबे ने ही शताब्दी पांडे का नाम खुदा हुआ पत्थर वार्ड में लगवाया है. अब इस पर सफाई देते हुए मीनल कहती हैं कि ‘ वार्ड स्मार्ट दिखे, इसलिए मैंने पीडब्ल्यूडी से कहकर पत्थर लगवाए हैं। शताब्दी पांडे बाल आयोग की अध्यक्ष हैं फेमस हैं, अब लोग पूछते थे कि उनका घर कहां है, इसलिए पत्थर लगवा दिया और गलियों के नाम भी रखे हैं। यह जनसुविधा के लिए है, राजनीतिक नहीं. अगर आपत्तियां हैं तो हटवा दूंगी।’

शताब्दी पांडे ने दी सफाई- 

अपनी और से दी गई सफाई में शताब्दी पांडे कहती हैं कि ‘ गली का नाम मेरे नाम पर किसने रखा, क्यों रखा, जानकारी नहीं है न ही कोई पूछने आया। मेरे लिए भी यह आश्चर्य था, लेकिन हो गया तो गलत क्या है… समस्या किसे है? इससे मेरा कहीं कोई लेना-देना नहीं है।’

ये भी पढ़ें…यूपी बोर्ड – नियमों को ताक पर रखकर टॉप कर गईं मिश्रा जी की बेटी, अब एफआईआर की तैयारी

रायपुर नगर निगम में ब्राह्मणों की है भरमार

रायपुर नगर निगम में सारे महत्वपूर्ण पदों पर ब्राह्मण जाति का कब्जा है. इस नगर निगम के आयुक्त हेमंत शर्मा जाति से ब्राह्मण हैं. इसी तरह इस नगर निगम के महापौर प्रमोद दुबे भी जाति से ब्राह्मण हैं. इसी तरह इस नगर निगम की पार्षद और इस खबर से जुड़ी मीनल चौबे भी ब्राह्मण हैं. इसी तरह इस खबर से जुड़ी शताब्दी पांडे भी जाति से ब्राह्मण है जिनके नाम का पत्थर गाढ़ा गया है. इसी तरह इसी खबर से जुड़े शहीद सैनिक राजीव पांडे भी जाति से ब्राह्मण हैं. कह सकते हैं कि भाजपा शासित राज्य छत्तीसगढ़ में ब्राह्मणों का काफी दबदबा है. खबर देखकर तो ऐसा ही लगता है कि सारे रायपुर में महत्वपूर्ण पदों पर ब्राह्मण जाति का कब्जा है.

Related posts

Share
Share