You are here

पार्टी पर दावे के बीच शरद यादव ने रखी पार्टी की नींव, घोषित की राष्ट्रीय कार्यकारिणी, देखें लिस्ट

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

जेडीयू पर दावे और शरद यादव की राज्यसभा सदस्यता के खत्म होने की खबरों के बीच जेडीयू के शरद यादव गुट ने अपनी एक नई टीम बना ली है। जदयू में लंबे समय से चली आ रही खींचतान के बीच शरद यादव ने अपनी नई पार्टी की नींव रख दी।

शरद यादव के इस नए गुट की घोषणा शनिवार को की गई। इसमें चार उपाध्यक्ष, 10 महासचिव और छह सचिव शामिल हैं। शरद गुट की राष्ट्रीय परिषद की बैठक 8 अक्टूबर को हुई थी, जिसमें सर्वसम्मति से  गुजरात के विधायक छोटूभाई वसावा को कार्यकारी अध्यक्ष चुना गया था।

शरद यादव ने इसके लिए 19 राज्यों में अपने पदाधिकारियों की लिस्ट जारी की है। बिहार में उन्होंने रमई राम को प्रदेश अध्यक्ष चुना है। पदाधिकारियों के नाम का एलान करते हुए शरद यादव ने कहा कि हम साझी विरासत के कार्यक्रम को आगे बढ़ाएंगे और इसकी तैयारी चल रही है। मुंबई में इसका अगला आयोजन होगा।

कार्यकारी अध्यक्ष छोटू भाई वसावा ने शरद यादव से परामर्श करके पार्टी पदाधिकारियों की नियुक्ति की है। यह नियुक्तियां अगले साल 11 मार्च तक के लिए की गई हैं। पार्टी महासचिव अरुण कुमार श्रीवास्तव ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि सांसद अली अनवर, पूर्व सांसद राजवंशी महतो, डॉ. एस.एन. गौतम और सुशीला मोरारे को उपाध्यक्ष बनाया गया है।

शरद यादव के इस कदम के बाद नीतीश खेमे से जेडीयू के दो नेताओं प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और जेडीयू संसदीय दल के अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने प्रेस कांफ्रेस कर मोर्चा खोला और शरद पर हमला बोला।

जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने शरद यादव पर चुटीले अंदाज में हमला बोलते हुए कहा कि शरद जी अपनी सदस्यता बचाने के लिए वकीलों की मदद ले रहे हैं इसी वजह से उन्होंने अपनी पार्टी में वकीलों को रख लिया है।

झारखंड के रामराज में ‘भुखमरी’ से मरने वाली लड़की की मां की मदद की जगह मारा पीटा

गुजरात: BJP को जिन 3 युवा तुर्कों का है खौफ, राहुल गांधी ने तीनों की तरफ बढ़ाया दोस्ती का हाथ

मौर्य काल से लेकर ब्राह्मणराज की स्थापना तक, शत्रु की हत्या के जश्न में दीप जलाने का रिवाज है ?

राजस्थान के रामराज्य में नेताओं-अफसरों को FIR से बचाने की अनोखी तरकीब निकाली बीजेपी सरकार ने

गुजरात में BJP का प्लान B: भूख, बेरोजगारी, मंहगाई के जवाब देने के बदले पूरी राजनीति को धर्म से रंग दो

AU छात्र संघ: समाजवादी छात्रसभा की जीत सामाजिक न्याय की जीत है, 1 यादव, 1 पटेल, 1 दलित, 1 ठाकु

 

 

Related posts

Share
Share