You are here

पीएम के रोने पर भी नहीं मानी हत्यारी भीड़,झारखंड में फिर मुस्लिम युवक की पीट-पीटकर हत्या

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

एक तरफ पीएम मोदी गौरक्षको को चेता रहे हैं और दूसरी तरफ गौरक्षकों हैं कि पीएम मोदी की बातें को कान पर ही नहीं धर रहे हैं और गौभक्ति के नाम पर मुसलमानों की हत्या की जा रही है। हालत ये है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जिस दिन देश में गौरक्षा के नाम पर लोगों की हत्या करने वालों को चेतावनी दे रहे थे उसी दिन झारखंड में गौरक्षा के नाम पर एक व्यक्ति की सरे आम हत्या कर दी गई।

बीफ ले जाने के आरोप में भीड़ ने अलीमुद्दीन अंसारी को पीट-पीटकर मार डाला

इसे भी पढ़ें…मंत्री प्रतिनिधि के उत्पीड़न से नाराज मंत्री राजभर करेंगे योगी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

गुरुवार (29 जून) को रामगढ़ जिले में एक व्यक्ति को बीफ ले जाने के आरोप में पीट-पीटकर मार डाला गया। पुलिस सूत्रों ने कहा कि अलीमुद्दीन उर्फ असगर अंसारी एक मारुति वैन में ‘प्रतिबंधित मांस’ ले जा रहा था। सूत्रों ने कहा कि लोगों के एक समूह ने बाजरटांड गांव में उसे रोका और उस पर बेरहमी से हमला किया। उसके वैन को आग के हवाले कर दिया गया। पुलिसकर्मियों ने उसे भीड़ से बचाया और अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

पुलिस के मुताबिक बीफ के कारोबार से जुड़े लोगों ने साजिश रचकर करा दी हत्या

इसे भी पढ़ें…म.प्र. में शमशान पर भी ब्राह्मणों का कब्जा, दलितों को शमशान में अंतिम संस्कार करने से रोका

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आरके मलिक ने कहा, “यह सुनियोजित हत्या है।” अधिकारी ने कहा, “असगर के खिलाफ बच्चे को अगवा करने और हत्या करने का आरोप पत्र दाखिल किया गया था।” उन्होंने कहा कि बीफ के व्यापार में शामिल कुछ लोगों ने उसकी हत्या की साजिश रची। अधिकारी के मुताबिक, “हत्यारों की पहचान कर ली गई है।” बता दें गुरुवार को ही गुजरात के साबरमती में पीएम मोदी ने महात्मा गांधी के गुरु श्रीमद राजचंद्रजी की 150वीं जयंती के मौके पर कहा था कि गौरक्षा के नाम पर लोगों की हत्या को देश बर्दाश्त नहीं करेगा।

इसे भी पढ़ें…अमरीका में लगे मोदी गो बैक के नारे, लोगों ने कहा भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि देश में कानून हाथ में लेने की किसी को इजाजत नहीं

पीएम ने चेतावनी देते हुए कहा था कि देश में कानून हाथ में लेने की इजाजत किसी को नहीं है। अगर कोई भी व्यक्ति ऐसा करता है तो कानून उससे अपने तरीके से निपटेगा। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी और विनोबा भावे सबसे बड़े गौरक्षक थे लेकिन गौरक्षा के नाम पर ऐसी हिंसा वो भी स्वीकार नहीं करते। बीते तीन दिनों के भीतर झारखंड में इस तरह का यह दूसरा मामला है। गिरिडीह जिले में एक भीड़ ने एक घर में गाय का सिर पाए जाने के बाद घर के मालिक की पिटाई की थी और घर में आग लगा दी थी।

Related posts

Share
Share