You are here

पीरियड्स में महिला कर्मचारियों को मुंबई में मिलेगी छुट्टी, पूरे देश में लागू करने की मांग

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

पीरियड्स का नाम लेते ही भारतीय तथाकथित सभ्य समाज की भौंहे सिकुड़ जाती हैं। अरे बाप रे ! ये तो प्रबंधित शब्द का प्रयोग कर दिया। लेकिन कोई ये नहीं सोचता कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं को किस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है। कामकाजी महिलाओं के लिए इस परेशानी का सामना करना खासा मुश्किल होता है।

आमतौर पर कहा जाता है कि बाजार में उपलब्ध सेनेटरी नैपकिन के इस्तेमाल से महिलाएं इस समस्या से खुद को बचाने में कामयाब हो जाती हैं। लेकिन महिला विशेषज्ञों के अनुसार ये सच नहीं है। क्योंकि पीरियड्स के पहले दिन महिलाओं को असहाय पीड़ा झेलनी पड़ती है। इस दौरान महिलाएं चाहती हैं कि कुछ पल के लिए उन्हें काम से मुक्ति मिले। लेकिन कामकाजी महिलाओं को ऑफिस से छुट्टी ना मिलने की वजह से पीरियड्स में भी ऑफिस जाना पड़ता है।

 पढ़ें- पिछड़ों को डॉक्टर नहीं बनने देगी मोदी सरकार, मेडीकल की पहली सूची में ओबीसी को मिला सिर्फ दो फीसदी आरक्षण

मुंबई की एक कंपनी की पहल- 

मगर मुंबई की एक कंपनी ने कामकाजी महिलाओं की समस्या को ध्यान में रखते हुए एक बड़ा फैसला लिया है। कंपनी ने महिलाओं के लिए इस मामले में कुछ छूट दी है, जिसे दुनियाभर की महिलाएं अपनी कंपनी में लागू होने की कामना करेंगी। दरअसल मुंबई की कल्चर मशीन फर्म ने फीमेल कर्मचारियों के लिए पीरियड्स के पहले दिन छुट्टी देने का ऐलान किया है।

कंपनी में काम करने वाली महिलाओं का एक वीडियो भी बनाया गया है जिसमें कल्चर मशीन के इस फैसले से महिलाएं बहुत खुश नजर आ रही हैं। महिलाओं को जब बताया कि गया कंपनी की नई पॉलिसी के तहत पीरियड्स के पहले दिन फीमेल कर्मचारी को छुट्टी देने का प्रावधान रखा गया है, तो इसे कैमरे में कैद कर लिया गया। वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि इस दौरान महिला कर्मचारी कंपनी के फैसले से काफी खुश नजर आ रही हैं।

इसे भी पढ़ें- जीएसटी से नाराज केरल की छात्राओं ने अरुण जेटली को भेजे सेनिटरी पैड, बोलीं स्वच्छता अभियान दिखावा है

देखिए वीडियो- 

पूरे देश में लागू करने की मांग- 

कंपनी की एचआर प्रेसिडेंट देवलीना एस मजूमदार ने बताया कि उन्होंने महिलाओं की  पीरियड्स से जुड़ी परेशानी को ध्यान में रखते ये फैसला लिया है। कंपनी ने इसके साथ ही महिला एवं बाल विकास मंत्रालय में पत्र लिखकर सरकार से इस पॉलिसी को देशभर में लागू करने का आग्रह किया गया है।

Related posts

Share
Share