You are here

PM 16 को फर्जी सांता क्लॉज बनकर गुजरात जाएंगे, इसलिए इलेक्शन कमीशन ने नहीं किया तारीख का ऐलान

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

चुनाव आयोग द्वारा हिमांचल प्रदेश के चुनाव घोषित करने के बाद भी गुजरात चुनाव की तारीख ना बताने को लेकर विपक्षी दल चुनाव आयोग की भूमिका पर सवाल उठा रहे हैं। वही सोशल मीडिया पर लोग पीएम मोदी को बाजीगर की संज्ञा दे रहे हैं।

कांग्रेस ने चुनाव आयोग की ओर से हिमाचल प्रदेश और गुजरात विधानसभा चुनावों के कार्यक्रम एक साथ घोषित नहीं करने पर गुरुवार को सवाल उठाए और आरोप लगाया कि सरकार ने आयोग पर “दबाव” बनाया है।

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि गुजरात चुनाव के कार्यक्रम घोषित करने में देरी इसलिए की गई ताकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 अक्तूबर को अपने गृह राज्य के दौरे के दौरान लोकलुभावन घोषणाएं कर “फर्जी सांता क्लॉज” के तौर पर पेश आएं और “जुमलों” का इस्तेमाल करें।

चुनाव आयोग पर दवाब डालने का आरोप- 

पार्टी ने कहा कि यदि गुजरात चुनाव के कार्यक्रम अभी घोषित कर दिए गए होते तो राज्य में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई होती ।
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने अपने टि्वटर अकाउंट पर डाले एक वीडियो संदेश में आरोप लगाया, ‘अब यह साफ है कि हिमाचल के साथ गुजरात चुनाव के कार्यक्रमों की घोषणा टालने के लिए मोदी सरकार और भाजपा चुनाव आयोग पर दबाव डाल रहे हैं ताकि उनके राजनीतिक हित पूरे हो सकें।’

साथ ही उन्होंने ट्वीट किया, ‘कारण यह है कि प्रधानमंत्री एक फर्जी सांता क्लॉज के तौर पर 16 अक्तूबर को गुजरात जा रहे हैं ताकि ऐसी लोक लुभावन घोषणाएं कर सकें और ऐसे जुमलों का इस्तेमाल कर सकें जो उन्होंने 22 साल से लागू नहीं किए।’

गुजरात, हिमांचल चुनाव साथ कराने की मांग- 

कांग्रेस नेता ने कहा कि गुजरात चुनाव की तारीखें घोषित कर और तत्काल आदर्श आचार संहिता लागू कर सभी को समान अवसर मुहैया कराने की जिम्मेदारी अब चुनाव आयोग पर है। उन्होंने कहा, ‘सवाल यह है कि क्या चुनाव आयोग सरकार के ऐसे दबाव में घुटने टेक सकता है। क्या यह परंपरा सही है और चुनाव आयोग को इस बाबत लोगों को विस्तार से जवाब देना चाहिए।’

सुरजेवाला ने दावा किया कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से भाजपा की पिछली 22 साल की नाकामियों की पोल खोल देने के बाद मोदी को हार का भान हो गया है। उन्होंने दावा किया कि भाजपा को हार का डर सता रहा है और वह आखिरी समय में वोटरों को ललचाने की कोशिश में जुटी है ।

सुरजेवाला ने कहा, ‘हम मांग करते हैं कि गुजरात और हिमाचल में नवंबर में चुनाव कराए जाएं और आदर्श आचार संहिता तत्काल लागू की जाए। यह दोनों राज्यों के लोगों की मांग भी है और संवैधानिक दायित्व भी है। आप चाहे जो भी करें, लोगों ने अपना मन बना लिया है और वे भाजपा को हराएंगे।’

EVM के साथ हुआ VVPAT का इस्तेमाल तो BJP शासित राज्य में कांग्रेस को मिला प्रचंड बहुमत, 81 में से 71 पर जीत

योगीराज: 4 महिला डॉक्टर्स का आरोप, BJP नेता शराब पीकर अभद्रता करते हैं, निलंबन की धमकी देते हैं

BJP के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा का वार, पीयूष गोयल रेल मंत्री हैं या जय अमित शाह की कंपनी के CA

छात्र-नागरिक ज्वाइंट एक्शन कमेटी ने BHU प्रशासन की गुंडागर्दी के खिलाफ किया आंदोलन का शंखनाद

बार बाला संग JDU विधायक का वीडियो, BJP मंत्री का बताकर सोशल मीडिया पर हो रहा है वायरल

मुस्लिम गायक के भजन से नहीं आईं ‘देवी’ तो सवर्णों ने कर दी हत्या, 200 मुस्लिमों को छोड़ना पड़ा गांव

 

 

 

Related posts

Share
Share