You are here

11000 करोड़ रु. के PNB बैंक घोटाले का आरोपी, मोदी देश छोड़कर भागा, अंबानी परिवार का है दामाद

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

ऊपर लिखी हेडलाइन आपको अखबारों में, न्यूज़ चैनलों की ब्रेकिंग न्यूज़ में नही दिखाई दे रही है इसका मतलब है कि मीडिया पूरा बिका हुआ है। जो ऊपर लिखा है वह 100 प्रतिशत सत्य है लेकिन कोई बताएगा नही !

कल जिस नीरव मोदी का नाम पीएनबी घोटाले में सामने आ रहा है उसके सगे भाई निशाल मोदी से, धीरूभाई अंबानी की बेटी, मुकेश ओर अनिल अंबानी की बहन दीप्ति सलगांवकर की बेटी इशिता की शादी हुई है सीबीआई ने एफआईआर में निशाल का भी नाम लिया है।

अमीर को अमीर बना रही है मोदी सरकार- 

कल पीएनबी बैंक में जो घोटाला सामने आया है उसने पूरे विश्व मे भारतीय बैंकिंग व्यवस्था की इज्जत की धज्जियाँ बिखेर दी है। वैसे पता नही मीडिया इसे किस तरह से दिखाएगा पर वास्तव में यह घोटाला बताता है कि हमारी बैंकिंग व्यवस्था की चाबी किस तरह के भ्रष्ट लोगो के हाथ मे आ गयी है।

आपकी जानकारी के लिए बता दूं पंजाब नेशनल बैंक देश में एसबीआई के बाद सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक है और जो रकम घोटाले की बताई जा रही है वह 11,330 करोड़ रुपए (1.8 अरब डॉलर) है।

पंजाब नेशनल बैंक की 2017 में 1320 करोड़ नेट इनकम थी यानी घोटाला सालभर की नेट इनकम का आठ गुना है. घोटाले के सामने आने के बाद शेयर बाजार में पीएनबी के शेयरों की कीमत 10 फीसद गिर गई हैं दूसरे बैंकों के शेयरों ने भी खूब गोता लगाया है।

अब पीएनबी तो अपना दामन बचाते हुए कह रहा है कि इस रकम से हुए लेन-देन अनिश्चित स्वरूप के हैं। लेकिन यदि लेन-देन की वैधता साबित हो जाती है तो बैंक को इतनी रकम का प्रावधान अपने बैलेंसशीट में करना होगा, यानी जिसकी आय 1320 करोड़ रुपये वार्षिक हो उसे 11330 करोड़ रुपये भरना ही होंगे यह रक़म बैंक के मार्केट कैप का एक तिहाई है।

घोटालेबाज के बारे में गोदी मीडिया चुप क्यों है?

अब जिसके बारे में मीडिया चुप होकर बैठ गया है वह भी सुन लीजिए कि यह घोटाला किया किसने है ? दरअसल भारत मे डायमंड ओर डायमंड ज्वेलरी से जुड़ा व्यापार 70 हजार करोड़ रुपए का है, इस व्यापार का मुख्य गढ़ सूरत ओर मुम्बई है।

कहते हैं कि इस इंडस्ट्री के छह बड़े बिजनेस टाइकून है जिनके आसपास यह सारा व्यापार घूमता है, उसमे से दो टाइकून इस घोटाले में संलिप्त पाए गए है पहले है नीरव मोदी और दूसरे हैं मेहुल चोकसी।

देश के 100 अमीरों में शुमार हैं नीरव मोदी- 

नीरव मोदी अमीरों के ज्वैलरी डिजाइनर कहे जाते हैं। 2.3 अरब डॉलर के फ़ायरस्टार डायमंड के संस्थापक हैं। यह साल 2013 में फ़ोर्ब्स लिस्ट ऑफ़ इंडियन बिलिनेयर में आए थे और तब से अपनी जगह बनाए हुए हैं।

नीरव देश के सबसे रईस लोगों की गिनती में 46वें पायदान पर खड़े हैं इनके खिलाफ एक हफ्ते पहले भी 280 करोड़ की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज हुआ नीरव की पत्नी एमी ओर भाई निशाल मोदी भी इस घोटाले में शामिल हैं।

दूसरे आरोपी हैं मेहुल चोकसी, आपने नक्षत्र, संगिनी और अश्मि जैसे ब्रांड का नाम सुना होगा मेहुल चोकसी इसे बनाने वाली कम्पनी गीतांजलि जेम्स के मालिक है ओर नीरव मोदी के चाचा है।

पर ऐसा नही है कि गीतांजली जेम्स इस से पहले बिल्कुल साफ सुथरी कम्पनी रही हो 2013 में ही सेबी ने इसके खिलाफ कुछ एक्शन लिया था उन पर आरोप थे कि गीतांजलि में ट्रेड करने के लिए चोकसी 25 शैल कंपनियों को फाइनैंस करते थे।

लेकिन 2013 भी छोड़िए आरोपी नीरव मोदी के यहाँ जनवरी 2017 में आयकर विभाग ने घर समेत 50 दफ्तरों पर छापेमारी की थी ओर उसी वक़्त इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने गीतांजली ग्रुप के दफ्तरों पर भी रेड मारी थी यह मामला तभी खुल सकता था लेकिन कुछ नही किया गया।

घोटाला हुआ कैसे है ?

अब आते हैं उस पक्ष की ओर जिसे समझना बहुत आवश्यक है कि यह घोटाला किया कैसे गया ? आपने कुछ दिन पहले यह सुना होगा कि अमित शाह के बेटे को एक प्राइवेट वित्तीय कम्पनी ने लेटर ऑफ क्रेडिट जारी किया था। यहाँ भी कुछ ऐसा ही मामला है।

दरअसल नीरव मोदी पीएनबी की मुम्बई कारपोरेट ब्रांच से हासिल एलओयू के आधार पर दूसरे देशों में कर्ज हासिल करता था यह काम वर्ष 2010 से ही चल रहा था।

एलओयू का अर्थ है “लेटर ऑफ अंडरटेकिंग” यह एक बैंक शाखा की तरफ से , दूसरे बैंक शाखा को जारी एक ऐसा प्रपत्र है जो निश्चित खाताधारकों के पक्ष में दी गई एक गारंटी होती है। इसके आधार पर दूसरे जगह स्थित बैंक शाखा उस ग्राहक को कर्ज की सुविधा देती है।

नीरव मोदी पीएनबी की उक्त शाखा से हासिल एलओयू के आधार पर दूसरे देशों में कर्ज हासिल करता था मोदी इस कर्ज को समय पर चुका देता था और बात दबी रहती थी लेकिन हाल ही में नीरव मोदी ने कर्ज का भुगतान नहीं किया।

मामला खुला कैसै ?

हुआ यूं कि गड़बड़ी में शामिल पीएनबी के अधिकारियों ने अधिक रिश्वत की मांग की। मोदी ने इसे देने से मना कर दिया इसके जवाब में उसे पीएनबी ने भी एलओयू जारी नहीं किया ओर वर्षों से चल रहा यह चक्र टूट गया ऐसे में एक विदेशी बैंक ने हांगकांग की नियामक एजेंसी के साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक को सूचना भेज दी।

आरबीआइ ने जब पीएनबी से जबाव तलब किया तो उसके पास इसे सार्वजनिक करने और मामला की जांच करवाने के अलावा कोई चारा नहीं बचा। लेकिन यह मामला अब सिर्फ पीएनबी तक ही सीमित नही रह गया है पता चला है कि यूनियन बैंक, इलाहाबाद बैंक और निजी क्षेत्र के एक्सिस बैंक ने भी पीएनबी की तरफ से गड़बडी करने वाले खाताधारकों को जारी एलओयू के आधार पर कर्ज दिए हैं

सबसे अधिक शर्मिंदगी की बात तो यह है कि विदेशी बैंकों को भी एक तरह से धोखा दिया गया है। यह मामला भारतीय बैंकिंग पर लग चुका बदनुमा दाग है। यह मामला टिप ऑफ द आइसबर्ग भी साबित हो सकता है क्योंकि जानकारों की मानें तो बैंक एलओयू जारी करने का यह धंधा अनाधिकृत तौर पर आयातकों के साथ मिल कर खूब करते हैं और इसे परोक्ष तौर पर उन्हें शीर्ष अधिकारियों से अनुमति होती है।

अब इस केस में अम्बानी के दामाद शामिल है इसीलिए मोदी सरकार के वित्त मंत्रालय के बैंकिंग विभाग में संयुक्त सचिव लोक रंजन जी कह रहे है कि ‘यह एक बड़ा मामला नहीं है और ऐसी स्थिति नहीं है जिसे कहा जाए कि हालात काबू में नहीं है।’

अम्बानी के दामाद का मामला हो तो हालात क्यो न काबू में बताए जाएंगे शायद यह घोटाला भी अच्छे दिनों की गिनती में आ जायेगा।

(सोशल मीडिया पर सक्रिय रेनू आनंद के फेसबुक पोस्ट से साभार)

 (भूतपूर्व मोदी भक्त, वर्तमान में मोदी पीड़ित… एक पत्रकार की लेखनी से निकला दर्द पढ़िए !

समाज के लिए बहुत काम करने हैं, लेकिन BJP सत्ता में रहते, मुझे जेल से बाहर आने नहीं देगी-चंद्रशेखर रावण

आतंकवाद को मिटाने की बात करने वाले, PM के 44 महीने के राज में, 286 जवान, 138 नागरिकों की मौत !

क्या कर्मकांड के सहारे देश चलाएगी BJP, कृषि मंत्री बोले हनुमान चालीसा पढ़ने से किसानों को राहत मिलेगी

CM के स्वजातीय गुंडों ने दलित छात्र की सरेआम पीट-पीटकर हत्या कर दी, विरोध में देश भर में प्रदर्शन

 

Related posts

Share
Share