You are here

तिवारी-पांडेय के खेल में फंसे रहे CM योगी, वहां पैसे के अभाव में गवाह अमृतलाल प्रजापति ने दम तोड़ा

रायबरेली। नेशनल जनमत ब्यूरो

रायबरेली के अपटा कांड में मारे गए पांच ब्राह्मण हमलावरों की तरफ से कांग्रेस के सांसद प्रमोद तिवारी, सपा के विधायक मनोज पांडेय मोर्चा खोले हुए थे। किसी भी हाल में यादव पक्ष के लोगों को जेल भिजवाना चाहते थे सरकार में बैठे पूर्व बसपाई अब कानून मंत्री ब्रजेश पाठक का जनेऊ नेक्सस काम करने लगा तो सरकार भी इनके सुर में सुर मिलाने लगी।

इस पूरी कवायद के बीच ब्राह्मण महासभा और तथाकथित हिन्दुवादी ब्राह्मण महासभा के पांच छह लोगों के गुस्से को सवर्ण मीडिया ने छापना शुरू किया। हाल ये हुआ कि घटना के चश्मदीद बुरी तरह से घायल अमृतलाल प्रजापति के इलाज पर सरकार ने कोई ध्यान नहीं दिया आकिरकार सोमवार को यानि कल देर रात प्रजापति ने दम तोड़ दिया।

पढ़ें-दर्जनों मामलो में आरोपी योगी और शिवराज के इस्तीफे की मांग तेज, लोग बोले सफाई का ठेका तेजस्वी ने ले रखा है क्या

रिजन इलाज के लिए आर्थिक सहयोग और रिपोर्ट दर्ज करने की कर रहे थे मांग-

परिवार के लोग लगातार आरापी पर मुकदमा दर्ज करने और इलाज के लिए मुआवजे की मांग कर रहे थे लेकिन पुलिस प्रशासन और सरकार तो ब्राह्मण-यादव खेलने में लगी थी उसे गरीब अमृतलाल प्रजापति की चिंता क्यों होने लगी भला।

इसे भी पढ़ें-सरकारी बैंकों को खत्म करके बैंकिग सेक्टरो की नौकरियां के साथ ही आरक्षण खत्म करेगी मोदी सरकार

पुलिस की घोर लापरवाही-

अपटा-इटौरा बुजुर्ग हत्याकांड में शुरू से ही लापरवाही को लेकर घिरी यूपी पुलिस सबक लेने को तैयार नहीं है। रुपये के अभाव में वारदात के चश्मदीद अमृतलाल प्रजापति का इलाज नहीं हो सका और सोमवार को वह जिंदगी की जंग हार गए। अमृतलाल ही वह शख्स है जिनकों गाड़ी से भाग रहे हमलावरों ने टक्कर मार दी थी और वह बुरी तरह से घायल हो गए थे।

पुलिस की लापरवाही का आलम तो देखिए। 26 जून तक से पुलिस ने अमृतलाल की खोज खबर नहीं ली। उसके बयान तक दर्ज नहीं किए। अचानक जब उनकी हालत बिगड़ी तो पुलिस जांच के लिए जिला अस्पताल पहुंच गई, लेकिन तब तक उसे लखनऊ ट्रॉमा सेंटर रेफर किया जा चुका था। रुपये न होने पर परिजन अमृतलाल को लेकर लखनऊ के बजाय घर ले आए जहां उसने दम तोड़ दिया।

इसे भी पढ़ें- यादवों को जेल भेजने के विरोध में दलितों-पिछड़ों-अल्पसंख्यकों का मनोज पांडे के खिलाफ प्रदर्शन

एएसपी व सीओ ने अप्टा गांव में डाला डेरा-

अपटा- इटौरा बुजर्ग कांड के चश्मदीद गवाह अमृतलाल प्रजापति की मौत के बाद कहीं लोग भड़क न उठे, इसको लेकर न सिर्फ पुलिस प्रशासन चौकन्ना हो गया, बल्कि एएसपी शशिशेखर सिंह, सीओ सलोन चरन सिंह के साथ कई थानों की पुलिस ने गांव में डेरा डाल दिया है। अप्टा में पीएसी पहले से ही तैनात है। ग्रामीणों की हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है।

अब दर्ज किया है मुकदमा-

वहीं पुलिस ने मृतक की पत्नी रामावती की तहरीर पर सफारी नंबर यूपी 32 एफ सी 9000 के चालक के खिलाफ केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। थानेदार धनंजय सिंह ने बताया कि अमृतलाल प्रजापति की मौत के बाद उसकी पत्नी रामावती की तहरीर पर सफारी चालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।

Related posts

Share
Share