You are here

गुजरात: बदलते मूड के संकेत, PM मोदी के अपने ही गृह राज्य की रैली में खाली पड़ी रहीं कुर्सियां

नई दिल्ली/ अहमदाबाद, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर ने गुजरात में बीजेपी की नाक में दम कर रखा है। कांग्रेस से ज्यादा बीजेपी के लिए ये तिकड़ी मुसीबत का सबब बनी हुई है। जनता की सम्मिलित ताकत के कारण इस बार का विधानसभा चुनाव बीजेपी के लिए पहले की तरह आसान नहीं रह गया।

गुजरात चुनाव में चल रहे शह औऱ मात के खेल के बीच खबर आई थी कि यूपी के धार्मिक मुख्यमंत्री आदित्यनाथ और पीएम मोदी के रोड शो को लोगों ने सिरे से खारिज कर दिया। सोशल मीडिया पर रोड शो पर तंज कसते हुए लोगों ने कहा था कि लोगों से ज्यादा सड़क पर पीएम के सुरक्षाकर्मी थे।

अब सौराष्ट्र क्षेत्र की एक रैली में पीएम मोदी की रैली में खाली पड़ी कुर्सियां लोगों के बदलते मूड का संकेत दे रही हैं। गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ताबड़तोड़ रैल‍ियां कर रहे हैं। सोमवार (27 नवंबर) को उन्‍होंने सौराष्ट्र के जसदण में भी एक चुनावी रैली की थी।

बताया जाता है क‍ि इस सभा में ज्यादातर कुर्सियां खाली रह गईं। रैली स्थल पर पांच व‍िधानसभा क्षेत्रों के भाजपा प्रत्याशी ( जसदण, चोटिला, राजकोट ‘देहात’, जूनागढ़ और गधादा ) मौजूद थे।

भाजपा नेता डॉक्टर बोगरा ने इस बारे में पूछे जाने पर बताया, ‘कुछ सीटें इसलिए खाली थीं क्योंकि एसपीजी ने ऐसे लोगों को रैली स्थल पर नहीं आने दिया, जिनके पास तंबाकू, बीड़ी, सिगरेट जैसी चीजें थीं। रैली स्थल पर माचिस तक ले जाने की मनाही थी। इस कारण बहुत सारे लोगों को बाहर ही खड़ा रहना पड़ा।’

जसदण विधानसभा में मतदातों की संख्या करीब ढाई लाख है। यहां जनता को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘पिछले साठ सालों में आपने हमें सिर्फ तीन बार मौका दिया है। फिर भी हमने आपकी सेवा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी।’

बता दें कि‍ जसदण कांग्रेस का गढ़ रहा है और भाजपा नेताओं का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां बदलाव लाने के लिए मकसद से आए थे। भाजपा के एक सभास्‍थल में खाली पड़ी कुर्स‍ियों की तस्‍वीरें और वीड‍ियो सोशल मीड‍िया पर शेयर क‍िए जा रहे हैं।

एक वीडियो कांग्रेस नेता सलमान निजामी ने भी ट्विटर पर शेयर किया है। जिसमें दूर-दूर तक खाली कुर्सियां देखी जा सकती हैं।

सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है ‘मैंने चाय बेची है’, उद्योगपतियों के साथ फोटो पोस्ट कर यूजर्स ने कसा तंज

ट्रंप की बेटी के स्वागत में सजी हैदराबाद की सड़कों को देखकर लोग बोले, ‘प्लीज मेरी गली भी आ जाओ’

चुनाव के लिए ‘राष्ट्रवादियों’ ने बदल दिया भारत माता का रूप, अब त्रिपुरा में अलग रूप में दिखेंगी

पीएचडी प्रवेश प्रक्रिया में हो रहे भेदभाव के खिलाफ 30 नवंबर को आंदोलन का बिगुल फूंकेंगे BHU के छात्र

हिन्दू को वोट बैंक बनाए रखने के लिए नये दुश्मन गढ़े जा रहे हैं, इस काम पर इतिहास को लगाया गया है

 

 

Related posts

Share
Share