You are here

जंगलराज: ग्राम प्रधान रामश्री यादव के घर पर फायरिंग, ग्रामीणोंं की पिटाई से 5 हमलावरों की मौत

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

रायबरेली के ऊँचाहार थाना क्षेत्र के इटौरा गांव में उस वक्त सनसनी मच गई जब ग्राम प्रधान रामश्री यादव पत्नी संतराम यादव के घर कुछ अज्ञात हमलावरों ने फायरिंग शुरू कर दी,जिसके बाद ग्रामीणों ने हमलावरों को दौड़ा लिया। ग्रामीणों से बच कर भाग रहे हमलावरों की गाड़ी बिजली के पोल से टकरा गई, जिसके बाद ग्रामीणों ने हमलावरों को पीट कर मार डाला और गाड़ी में आग लगा दी।

इसे भी पढ़ें-मोदी-अंबानी के चक्कर में बीएसएनएल का घाटा भूले योगी, सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों में लगेगा jio का वाई-फाई

रायबरेली जिले में पांच लोगों की हत्या के बाद एक बार फिर कानून व्यवस्था पर सरकार निशाने पर आ गयी। वारदात के बाद जिले से लेकर राजधानी लखनऊ में बैठे अधिकारियों के होश उड़ गए। आनन फानन में एडीजी लखनऊ जोन अभय कुमार प्रसाद इटौरा बुजुर्ग गाँव पॅहुचे और घटना स्थल का निरीक्षण किया। पांचों मृतक मौजूदा सपा विधायक मनोज पांडेय के समर्थक बताए जा रहे हैं.

एडीजी की माने तो ग्रामीणों ने 3 लोगो की पीट कर हत्या की है जबकि 2 हमलावरों की जल कर मौत हुई है। एडीजी का दावा है कि घटना का खुलासा जल्द किया जाएगा। सभी मृतक भरतपुर पुरेपंडित गाँव प्रतापगढ़ के रहने वाले है । प्रतापगढ़ जिले से मौके पर पॅहुचे मृतक के परिजन का मानना है कि इटौरा गांव में रिश्तेदार हैं जिनका जमीन का विवाद चल रहा है। वहीँ आये थे मौत कैसे हुई हमे नही मालूम।

वहीं पुलिस ने इस माामले में ग्राम प्रधान के दो बेटों समेत तीन लोगो कोो गिरफ्तार कर लिया है. मामले में 4 नामजद और 5 अज्ञात पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है.

इसे भी पढ़ें- विश्व की सबसे पत्रिका का दावा, चापलूसी भरी व्यक्तिव पूजा का केन्द्र बन चुके हैं मोदी

मामला क्या है – 

दरअसल ग्राम सभा इटौरा बुजुर्ग के अपटा गाँव की प्रधान रामश्री के पति पत्नी संतपाल यादव और उनके बेटे विजय उर्फ़ राजा यादव, कृष्ण कुमार यादव, प्रदीप यादव का जमीन संबंधी कुछ विवाद गांव के ही रोहित शुक्ला से चल रहा है. विवाद जब बढ़ा तो रोहित ने प्रतापगढ़ से अपने रिश्तेदारों को असलहों समेत रायबरेली बुलवा लिया जिनमें अनूप मिश्रा, अंकुश मिश्रा निवासी पुरे पंडित, करमचंद्र मिश्रा भरतपुर, बच्चा शुक्ला शामिल थे. दो गाड़ियों से असलहों से लैस होकर देर रात पांचों प्रधान के घर पहुंचे और फारिंग शुरू कर दी.

इसे भी पढ़ें- सेल्फी की नौटंकी तक सिमटा स्वच्छ भारत अभियान, पीएम आवास से महज 50 मीटर दूर नारकीय जीवन जी रहे हैं लोग

फायरिंग की आवाज से ग्रामीण इकट्ठे हो गए और हमलावरों को दौड़ा लिया. भागते हुए हमलावरों की गाड़ी बिजली के पोल में टकरा गई.  जिसके बाद ग्रामीणों ने हमलावरों को पीट -पीट कर मार डाला और गाड़ी में आग लगा दी। हालांकि पूरे मामले में प्रधान पक्ष का कहना है कि गाड़ी बिजली पोल में टकराने के बाद इन हमलावरों की जलकर मौत हुई है.

Related posts

Share
Share