You are here

छापेमारी के बाद सशक्त नेता बनकर उभरे हैं लालू, 27 की रैली में शामिल होंगी मायावती

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और उनके समर्थक इनकम टैक्स विभाग की छापेमारी को पिछड़ों-दलितों के सम्मान के साथ जोड़ने में सफल होते दिख रहे हैं. छापेमारी के तुरंत बाद लालू प्रसाद यादव ने एक के बाद एक ट्विट करके छापों को बीजेपी की साजिश करार दिया और सत्ता के दुरुपयोग का हवाला देते संदेश दिया कि लालू इन गीदड़ भभकियों से डरने वाला नहीं. लालू के इस रवैये से कार्यकर्ताओं और लालू समर्थकों के बीच स्पष्ट संदेश गया कि लालू यादव को राजनैतिक साजिश में फंसाया जा रहा है.

इस बात से उग्र कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए और बीजेपी कार्यालय पर हमला बोल दिया.पटना में कई जगहों पर बीजेपी और आरजेडी समर्थकों में झड़प भी हुई.आरजेडी कार्यकर्ताओं पर बीजेपी ने दौड़ा दौड़ाकर पीटने का आरोप भी लगाया. अब लालू यादव ने इस माहौल में पूरी तरह से विपक्ष को एकजुट करने के लिए 27 अगस्त को पटना में रैली आयोजित कर दिग्गजों क एक मंच पर जुटाने का ऐलान किया है. बहरहाल इस पूरे घटनाक्रम में लालू खुद की छवि को बीजेपी के विरोध में एक सामाजिक न्याय के योद्धा के रूप में ज्यादा मजबूत कर पाए हैं.

मोदी को बताया झांसों का राजा-

एक बार फिर लालू प्रसाद ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि ‘मोदी सरकार रूपी लंका को भस्म कर दूंगा, ये झांसो के राजा हैं.हमारे बाप-दादाओं को भी ये लोग गाली देते थे.समझ लो, मैं डरने वालों मे से नहीं हूं.उन्होंने कहा कि ‘अमित शाह जब जेल में थे तो मोदी फोन पर बात करते थे. मोदी देश का बंटावारा चाहता हैं, अभी हम जिंदा है ऐसा होने नहीं दूंगा’

छापे की कार्रवाई पर दिया करारा जवाब-

इनकम टैक्स के छापों पर उन्होंने कहा ‘छापा..छापा…छापा…छापा..छापा…किसका छापा? किसको छापा? छापा तो हम मारेंगे 2019 में. मैं दूसरों का हौसला डिगाता हूँ, मेरा कौन डिगाएगा.

27 अगस्त की रैली में मायावती भी रहेंगी मौजूद  –      

लालू ने कहा कि आगामी 27 अगस्त की रैली भयावह और ऐतिहासिक होगी. बिहार और देश की जनता देख रही है, जो भी धर्मनिरपेक्ष दल इनके खिलाफ मुंह खोलता है, ये उसके खिलाफ साजिश शुरू कर देते हैं. ‘जंग’ और ‘जिहाद’ का ऐलान कर दिया है और 2019 में इनको उखाड़ फेंकेंगे तथा इनके सपने को कभी साकार नहीं होने देंगे. आरजेडी सूत्रों की मानें तो  रैली के लिए बसपा अध्यक्ष मायावती ने स्वीकृति दे दी है. इसके अलावा कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी, ममता बनर्जी, करुणानिधि, एचडी देवेगौड़ा, चौधरी अजित सिंह, दुष्यंत चौटाला और मुलायम सिंह यादव को बुलाया जाएगा.

Related posts

Share
Share