You are here

वसुंधराराज- पीसीएस परीक्षा में बड़ा खेल, छात्रा को फेल करने के लिए उसकी कॉपी ही बदल दी गई

जोधपुर/नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

राजस्थान पीसीएम में जमकर धांधली चल रही है. यहां छात्रों की कॉपियां बदलकर लाखों के बारे – न्यारे करने का खेल खेला जा रहा है. आरटीआई से हुए खुलासे में ये बात सामने आई है.

आरटीआई डालने पर हुआ खुलासा, छात्रा को कॉपी बदल कर दे दी

आपको बता दें कि सन् 2013 की पीसीएस मुख्य परीक्षा देने वाली एक और अन्तिम परिणाम में चयनित न होने वाली छात्रा नेहा वैष्णव ने जब अपनी मुख्य परीक्षा की कॉपी दिखाने के लिए आऱटीआई डाली तो आयोग ने छात्रा को द्वितीय मुख्य परीक्षा की कॉपी किसी औऱ की दे दी. जिसे कम अंक मिले थे. अपनी लेखनी से छात्रा समझ गई कि वो कॉपी उसकी नहीं है. और उसके साथ राजस्थान पीएससी ने कोई जालसाजी की है.

इसे भी पढ़ें…जस्टिस कर्णन की गिरफ्तारी के बाद छिड़ी बहस, देश क्या आज भी मनु के संविधान से चल रहा है

छात्रा ने हाई कोर्ट में वाद दायर किया

अपने साथ राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा की गई जालसाजी से पीड़ित छात्रा नेहा वैष्णव ने ने न्याय के लिए राजस्थान हाई कोर्ट में आयोग के खिलाफ वाद दायर किया. छात्रा के इस मामले को देखते हुए राजस्थान हाईकोर्ट के अवकाश कालीन न्यायधीश पुष्पेन्द्र सिंह भाटी ने राजस्थान लोक सेवा आयोग और राज्य सरकार दोनों को नोटिस जारी कर जबाब तलब किया है.

इसे भी पढ़ें…जस्टिस कर्णन ने चुकाई भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की कीमत , काटेंगे 6 महीने जेल में

नेहा के वकील ने लगाया आयोग पर धोखाधड़ी का आरोप

याचिकाकर्ता के वकील कैलाश जांगिड ने हाई कोर्ट को दी अपनी दलील में बताया कि राजस्थान लोक सेवा आयोग ने वादी के साथ धोखाधड़ी करके हुए उसकी मुख्य परीक्षा के कॉपी बदलकर कम पाने वाले किसी छात्र की कॉपी के अंक जोड़कर वादी को पीसीएस में चयन होने से रोक दिया. जब वादी का पीसीएस में चयन नहीं हुआ तो उसने आरटीआई के माध्यम से अपनी मुख्य परीक्षा की कॉपी निकलवाई जिससे पता चला कि वादी की द्वतिय मुख्य परीक्षा की कॉपी बदल दी गई है.

इसे भी पढ़ें…जिस जज पर लगाए थे जस्टिस कर्णन ने भ्रष्टाचार के आरोप, उसी को सौंप दिया कर्णन का केस

Related posts

Share
Share