You are here

राजस्थान के रामराज में स्कूल भी सुरक्षित नहीं, 6 साल की बच्ची के साथ केंद्रीय विद्यालय में रेप !

नई दिल्ली/राजस्थान, नेशनल जनमत ब्यूरो।

इंसान के दिमाग की गंदगी किसी की उम्र, बदन उघाड़ू कपड़े या रात में घूम रही लड़कियों को देखकर बाहर नहीं आती। ये गंदगी एक निर्दयी और क्रूर दिमाग की उपज होती है। ऐसा दिमाग जो बच्ची से लेकर अधेड़ उम्र की किसी महिला को भी सेक्स उत्पाद की नजरों से देखता है।

हाल के दिनों में ऐसी कई घटनाए हुईं जिसके कारण स्कूल में बच्चों की सुरक्षा पर सवाल उठने लगे है। अभी हरियाणा के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुई प्रद्युम्न की दर्दनाक हत्या का आक्रोश कम नहीं हुआ था कि राजस्थान के एक स्कूल में दिल दहला देने वाली घटना सामने आ गई।

घटना राजस्थान के बाड़मेर जिले की है। जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय विद्यालय जालीपा कैंट में दूसरी कक्षा में पढ़ने वाली एक मासूम को शुक्रवार शाम पेट दर्द की शिकायत पर एक निजी अस्पताल लाया गया, जहां बच्ची के निजी अंगों में दर्द होने पर डॉक्टर ने मामले को संदिग्ध मानते हुए परिजनों को बच्ची के साथ ग़लत काम होने का अंदेशा जताया था। जिसके बाद पुलिस को मामले की जानकारी दी गई.

पुलिस को दी गई शिकायत में बच्ची ने परिजनों ने कहा कि, कक्षा दो में पढ़ने वाली बच्ची को स्कूल के अंदर टेबल से बांधकर रेप किया गया है। पुलिस ने आगे कहा, इस मामले में स्कूल के दो चपरासियों को हिरासत में ले लिया गया है।

बाड़मेर थाना की महिला पुलिस अधिकारी अनीता रानी के मुताबिक, दोनों अभियुक्तों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 376 डी, और 376-2 और बच्चों के खिलाफ यौन शोषण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। वहीं पीड़िता को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसकी हालत स्थिर है।

पुलिस अधीक्षक गगनदीप सिंगला के मुताबिक, मेडिकल परीक्षण के दौरान बच्ची के शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं मिले हैं। फिर भी हमने बच्ची के प्राइवेट पार्ट की फॉरेंसिक जांच कराने को कहा है। उन्होंने आगे कहा, मैंने डिप्टी एसपी से इस मामले की जांच करने को कहा

है।
यह घटना उस समय पता चली जब बच्ची ने अपने माता-पिता से निजी अंग में हो रहे दर्द के बारे में बताया। जिसके बाद पीड़िता के परिजन उसे लेकर तुरंत हॉस्पटिल पहुंचे जहां डॉक्टर को बच्ची के साथ यौन उत्पीड़न की शंका हुई। इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई।

आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले तीन वर्षों में राजस्थान के स्कूलों में अध्यापकों द्वारा लड़कियों के साथ की गई यौन हिंसा के 56 मामले दर्ज हुए हैं। जिनमें से 55 अध्यापक लड़कियों के खिलाफ यौन हिंसा में दोषी साबित हुए हैं।

BJP सांसद बोले महाराष्ट्र की BJP सरकार के तीन सालों में किसानों की आत्महत्याएं बढ़ी हैं

संयुक्त राष्ट्र संघ ने गाय के नाम पर हिंसा और पत्रकारों की हत्या पर पीएम मोदी की आलोचना की

शिवराज का रामराज: प्राइमरी शिक्षक महेन्द्र यादव निलंबित, आरोप-खुले में शौच

आप लिपटे रहिए धर्म की चासनी में, यहां देश में पहली बार जाति के नाम पर बन गया ‘ब्राह्मण आयोग’

जापानी PM से गुजरात के विकास मॉडल की हकीकत छुपाने के लिए, झुग्गी-झोपड़ी को कपड़े से ढका गया

योगी का रामराज: सोशल मीडिया पर विचारों से डरी भगवा सरकार ने, एक दलित शिक्षक को किया निलंबित

 

Related posts

Share
Share