You are here

पाठ्यक्रम में परशुराम को शामिल कराने वाले शिक्षा मंत्री की घोषणा अब मोदी की जीवनी पढ़ेंगे बच्चे

जयपुर। नेशनल जनमत ब्यूरो

राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार के विवादित शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने पाठ्यक्रम में परशुराम का अध्याय जोड़ने की घोषणा के बाद अब एक नई घोषणा की है. इस घोषणा से बच्चे भले ही खुश ना हो लेकिन शिक्षा मंत्री के इस प्रयास से संघ और पीएम मोदी जरूर खुश हो जाएंगे. दरअसल घोषणा की गई है कि राजस्थान के सरकारी स्कूलों में अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और आरएसएस के संस्थापक केशव बलिराम हेडगेवार की जीवनी पढ़ने के लिए उपलब्ध होगी.

इसे भी पढ़ें-शिवराज की गोलियो से मरे किसानों में 5 पाटीदार, हार्दिक ने कहा पटेल विरोधी है बीजेपी

500 स्कूलों में उपलब्ध कराई जाएगी जीवनी-

राजस्थान के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी के अनुसार राज्य के 500 सरकारी स्कूलों में ये बॉयोग्राफी उपलब्ध कराई जाएगी. ये किताबें कक्षा 9-12 तक के बच्चे पढ़ेंगे. इसके अलावा 73 और किताबें सरकारी स्कूलों की लाईब्रेरी को दी जाएंगी.शिक्षा मंत्री के अनुसार, इन किताबों में हमारे राष्ट्रीय नायकों के बारे में जानकारी उपलब्ध होगी. इन किताबों में प्रमुख है आरएसएस से जुड़े लेखक विजय नाहर की किताब होगी। जिसमें पीएम मोदी की जीवन यात्रा के बारें में बताया गया है।

इसके अतिरिक्त अब्दुल कलाम की तेजस्वी मैन के साथ आरएसएस से भाजपा में आए राम माधव की ‘असहज पड़ौसी’ को भी सम्मलित किया गया है। नरेन्द्र मोदी की सामाजिक समरसता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की मेरी 51 कविताएं भी सरकारी स्कूल के पुस्तकालयों में पढ़ने के लिए उपलब्ध होंगी।

इसे भी पढ़ें- महिला सम्मान के लिए आगे आईं श्वेता और गीता यादव झुका दिया विश्व की बड़ी कंपनी को

परशुराम की जीवनी के लिए भी कर चुके है घोषणा-

अजमेर में परशुराम के जन्मदिवस पर आयोजित एक समारोह को सम्बोधित करते हुए देवनानी ने कहा था कि परशुराम के बारे में एक अध्याय को जोड़ने की प्रक्रिया इसी साल शुरू की जाएगी.और अगले शैक्षणिक सत्र से स्कूली शिक्षा पाठ्यक्रम में इसे जोड़ दिया जाएगा.

गौरतलब है कि राजस्थान के स्कूली ​पाठ्यक्रम में आरएसएस की विचारधार को थोपने का आरोप वासुदेव देवनानी पर कई बार लग चुका है. इसके अ​तिरिक्त देवनानी राजस्थान सरकार के सबसे विवादित मंत्री माने जाते है.

इसे भी पढ़ें- देश में आरएसएस का एजेंडा थोपने के लिए संवैधानिक पदों पर बैठाए जा रहे हैं संघी

Related posts

Share
Share