You are here

जातिवाद खात्मे के लिए केन्द्रीय मंत्री का बयान, गैर बिरादरी में शादी करने से खत्म होगी असमानता

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

देश में जातिवाद, ऊंच नीच और सामाजिक गैरबराबरी की खाई को पाटने के लिए केंद्र सरकार के मंत्री ने बड़ा बयान दिया है। केंद्रीय मंत्री का कहना है कि सामाजिक असमानता और जातिवाद को मिटाने के लिए अंतर्जातीय विवाह करने चाहिए।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री रामदास अठावले ने कहा, दलितों पर हो रहे कथित अत्याचार का कारण जातिवाद है। उन्होंने आगे कहा, जातिवाद की समस्या को खत्म करने के लिए अंतर्जातीय विवाह को बढ़ावा देना चाहिए।

ये कैसा न्यू इंडिया PM साहब ? जो पत्रकार बीजेपी के खिलाफ लिखेगा वो मारा जाएगा- अखिलेश यादव

सेना में आरक्षण की मांग- 

केंद्रीय मंत्री ने रक्षा सेवाओं में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षण की मांग की। उन्होंने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, ‘सेना, नौसेना और वायुसेना में एससी और एसटी के लिए आरक्षण होना चाहिए। अगर सरकारी विभागों में एससी और एसटी के लिए आरक्षण है तो इसी तरह इसे रक्षा क्षेत्र में भी दिया जा सकता है।’

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री ने सरकारी नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में 75 फीसदी तक आरक्षण सीमा बढ़ाने की मांग की ताकि जाट, पटेल, मराठा और राजपूतों सहित सभी जातियों के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग को आरक्षण मुहैया कराया जा सके।

ये है 14 फर्जी बाबा: कोई शराब माफिया से बना महामंडलेश्वर, तो किसी के सेक्स रैकेट में 600 कॉल गर्ल

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने पत्रकारों पर हो रहे जानलेवा हमलों पर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा, पत्रकारों की रक्षा के लिए कानून बनना चाहिए। अगर पत्रकारों पर हमला होता है और किसी की मौत हो जाती है तो उसे मुआवजा दिया जाना चाहिए।

भविष्य में पत्रकारों पर हमला रोकने के लिए कड़ा कानून बनाए जाने की जरूरत है।

UPPSC के गेट पर ‘यादव आयोग’ लिखने वालों के राज में APO पद पर 40 फीसदी ब्राह्मणों का चयन

JNU छात्र संघ: जय श्रीराम-लाल सलाम के लिए मुसीबत बनता जा रहा है दलितों-पिछड़ों का संगठन बापसा

PM को गुंडा कहना मानहानि नहीं है, अगर कोई साबित कर दे कि प्रधानमंत्री वास्तव में गुंडा है

 

Related posts

Share
Share