You are here

आरक्षण को सभी जगह से खत्म कर दो…

 सोशल मीडिया। नेशनल जनमत डेस्क 

आरक्षण को सभी जगह से ख़त्म कर देना चाहिए.

इसी आरक्षण ने समाज को नुकसान पहुचाया है.

लोग एकदूसरे को फूटी आँख नही सुहा रहे है.

रेलवे में आरक्षण, बस, ट्रेन और प्लेन में आरक्षण

इन सभी को ख़त्म कर देना चाहिए.

मंदिरो में जन्म जात पुजारियो का आरक्षण

वहां अन्य लोगो को घुसने भी नही दिया जाता है.

पुरोहित केवल ब्राम्हण ही है उस आरक्षण को भी ख़त्म करे.

शंकराचार्य की कुर्सी सदियो से ब्राह्मण वर्ग के लिए आरक्षित रखी है

उस आरक्षण को भी ख़त्म करे।

ब्राम्हणो के घर जन्म लेने वाला ब्राम्हण

क्षत्रियो के घर जन्म लेने वाला क्षत्रिय

वैश्यो के घर जन्म लेने वाला वैश्य

शुद्रों के घर जन्म लेने वाला शुद्र

जन्म के साथ जो जातिवादी आरक्षण का टैग लगा है उसे भी बन्द करें।

इन्ही आरक्षित वर्ग में शादी को भी बैन करना चाहिए.

और जाति विच्छेद द्वारा ब्राह्मण शूद्र से, क्षत्रिय वैश्य से,

वैश्य ब्राह्मण से, शुद्र क्षत्रिय से, अरेंज करके शादी करना चाहिए

ये भी जन्म जात आरक्षण है इसे भी बन्द होना चाहिए।

शिक्षा को समान बनाओ कोई कान्वेंट नही, कोई सरस्वती शिशु मंदिर नही,

कोई डीपीएस नही, कोई नेशनल नही, कोई इंटरनेशनल नही,

कोई स्टेट स्कूल नहीं  सभी के पाठ्यक्रम कॉमन हो समान हो.

केवल नौकरी में आरक्षण का विरोध क्यों सभी में समान रूप से विरोध करे।

तो मैं इस विरोध के समर्थन में हूँ ।

लेखक प्रेमशंकर चौधरी भारतीय रेलवे (एनआर) लखनऊ में कार्यरत हैं. .

 

Related posts

Share
Share