You are here

देश के दुश्मनों से निपटने के लिए RSS का ‘रक्षा ज्ञान’, गाय के गोबर से बना सकते हैं सीमा पर बंकर

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

राष्ट्रीय स्वयं संघ के कर्ता धर्ता अपने बयानों से बीच-बीच में ये साबित करते रहते हैं कि आरएसएस एक अवैज्ञानिक मान्यता वाला, अंधविश्वास को बढ़ावा देने वाला और आरक्षण विरोधी संगठन है। चीन-भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में गतिरोध जैसे गंभीर विषय पर भी आरएसएस अपनी पोगा पंथ वाली बातें करने से बाज नहीं आ रहा।

इसे भी पढ़ें-चीन से निपटने के लिए मोदी सरकार को RSS का ‘गुरु मंत्र’, 5 बार मंत्र का जाप करो मसला ही खत्म

समझ नहीं आ रहा है कि इस तरह की अतार्किक बातों के सहारे आरएसएस देशवासियों की समझ पऱखने की कोशिश करता है, या देश को अंधकार में ढ़केलने की। कुछ दिन पहले चीन को मंत्रों से परास्त करने देने की सलाह के बाद अब आरएसएस नेता सीमा पर गाय के गोबर से बंकर बनाने की सलाह दे रहे हैं।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता इंद्रेश कुमार ने गाय के मांस को जहर करार दिया और दावा किया कि इसके मूत्र से कैंसर जैसी बीमारियों का इलाज किया जा सकता है और गाय के गोबर को सीमा पर बंकर बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है.

चंडीगढ़ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता इंद्रेश कुमार ने बुधवार को गाय को मानवता की मां करार दिया और कहा कि इसके दूध और गोबर के काफी लाभ हैं तथा इन्हें विभिन्न कार्यों में इस्तेमाल किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें-25 सवाल जिनको सुनते ही RSS को सांप सूंघ जाता है, पढ़िए संघी क्यों घबराते हैं इन सवालों से ?

इंद्रेश ने दावा किया, विश्व की 90 प्रतिशत आबादी गाय के दूध पर निर्भर है और इसीलिए यह मानवता की मां कही जाती है. गाय जहरीली चीजों को अपने पास ही रखती है और हमें दूध तथा गोबर देती है.

उन्होंने कहा, गोबर को बंकर बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है. आम आदमी इसे मकान बनाने के लिए सीमेंट के रूप में भी इस्तेमाल करता है. इसके मूत्र में औषधीय तत्व होते हैं जो कैंसर जैसी बीमारियों का इलाज में काम आते हैं.

आरएसएस नेता ने कहा कि गाय का मांस जहर है और किसी भी धर्म में गोवध की अनुमति नहीं है. उन्होंने कहा, यदि कोई कहता है कि वह जहर यानी गाय का मांस खाएगा तो हम उसके लिए प्रार्थना कर सकते हैं कि उसे सही समझ आए.

वह यहां फोरम फॉर अवेयरनेस ऑफ नेशनल सिक्योरिटी द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे. यह पूछे जाने पर कि क्या वह लोगों से गोमांस नहीं खाने को कह रहे हैं, उन्होंने कहा कि वह सच्चाई बता रहे हैं. यूं तो तंबाकू को भी जहर कहा जाता है लेकिन लोग वह भी खाते हैं.

इसे भी पढ़ें-संसद में घिरी सरकार, विपक्ष बोला भीड़ में घुसकर गौरक्षकों को हत्या के लिए उकसाते हैं संघी

पहले भी मंत्र से चीन को परास्त करने का ज्ञान दे चुके हैं इंद्रेश- 

भारत और चीन के बीच दोकलाम चौराहे को लेकर हुए सैन्य गतिरोध को लगभग एक महीने से ज्यादा हो गए हैं। इसी बीच इस मुद्दे से निपटाने के लिए आरएसएस ने मंत्र जाप से चीन को काबू करने की सलाह दी थी। आरएसएस चीन की “असुर शक्ति” को एक खास मंत्र से काबू में करने की बात कह रहा है। हिंदू हो या मुसलमान, सघ ने मंत्र का जाप सभी धर्मों के लोगों से प्रार्थना करने से पहले करने की अपील की है।

मंत्र भी पढ़ लीजिए-

सभी भारतीयों से “कैलाश, हिमालय और तिब्बत चीन की असुर शक्ति से मुक्त हों” मंत्र का जाप पूजा या नमाज से पहले पांच बार करने की अपील की गई है। आरएसएस की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य इंद्रेश कुमार ने कहा था, “इससे न सिर्फ चीन को नुकसान पहुंचेगा, बल्कि यह हमारी आध्यात्मिक ऊर्जा को भी बढ़ाएगा और सकारात्मक प्रभाव होगा।”

इसे भी पढ़ें-BHU में OBC-SC-ST के आरक्षण को चालाकी से खत्म करने के विरोध में राष्ट्रपति के नाम खुला खत

Related posts

Share
Share