You are here

छात्र-छात्राओं ने मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह के घर पर फेंके चिल्लर, बोले ऑक्सीजन के पैसे हमसे ले लो

नई दिल्ली/लखनऊ। नेशनल जनममत ब्यूरो 

सिद्धार्थनाथ सिंह द्वारा दिया गया असंवेदनशील बयान कि अगस्त माह में तो बच्चे मरते ही हैं. इस बयान की सोशल मीडिया में जबरदस्त आलोचना भी हुई। स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह के बयान से आहत छात्र-छात्राओं ने रविवार को उनके लखनऊ स्थित सरकारी आवास के बाहर प्रदर्शन किया।

चिल्लर उछालते हुए छात्र-छात्राओं ने कहा कि ऑक्सीजन के पैसे नहीं हैं तो हम से ले लो। इस दौरान पुलिसकर्मियों से छात्र-छात्राओं की झड़प भी हुई।

लखनऊ विश्वविद्यालय की छात्र नेत्री और प्रदर्शनकारी पूजा शुक्ला लिखती हैं कि-

देखिए वीडियो- 

आज हम सब मासूम बच्चो के हत्यारे सिद्धार्थनाथ सिंह के घर के बाहर प्रदर्शन किए, तमाम चोटो के बावजूद हम सिद्धार्थनाथ सिंह के घर के बाहर पहुंचे और हमने प्रदर्शन किए।

करुणेश भैया, अनिल भैया, हर्ष, विनीत भैया, मनन और मुझे गंभीर चोटें आईं, लेकिन इन सभी लोगो के जज्बे को सलाम। सैकड़ो की संख्या में हमारे समाजवादी साथी जुटे ,संजय यादव,राकेश समाजवादी ,अरविंद, सूरज , एसपी यादव, दुर्गेश, ददन, मिथिलेश यादव, अवनीश, जीत एसपी सिंह समेत सैकड़ो छात्रो को पुलिस ने बुरी तरह से खदेड़ दिया इनमे से भी कई लोगो को चोट आई हैं।

हम सबको जिस तरह से गिरफ्तार करके थाने ले जाया गया ऐसा सुलूक तो कोई बड़े मुजरिमो के साथ भी नही करता है। आज बेहद मन दुखी है कि एक ओर न जाने कितने मासूमो की जान चली गयी औऱ वही दूसरी ओर योगी जी को कोई फर्क नही, एक ओर मांओ के दिलो की पीड़ा है वही दूसरी ओर योगी जी, उनके मंत्रियों के लबो पर खुशी।

वो कहते है कि अगस्त में बच्चे मरते है तो हम भी उनसे ये पूछने गए थे कि साहब बतादो हमलोगों के मरने का कौन सा दिन है,लगातार मंत्रियों के तरफ से आरहे ये बेतुके बयान हमे तकलीफ देते है इसलिए हमने और हमारे साथियो ने तय किया है कि हम तब तक आंदोलन करंगे जब तक मासूम बच्चो को न्याय नही मिलता।

Related posts

Share
Share