You are here

गरीबों के रक्षक थे सम्राट मिहिर भोज, जयंती पर गुर्जर महासभा ने गाजियाबाद में निकाली बाईक रैली

गाजियाबाद। नेशनल जनमत ब्यूरो  

अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा के तत्वाधान में गुरुवार को गुर्जर सम्राट मिहिर भोज जयंती का आयोजन गाजियाबाद के घंटाघर रामलीला ग्राउंड पर किया गया। इस दौरान सम्राट मिहिर भोज के महान शासन पर प्रकाश डाला गया। युवाओं ने सम्राट मिहिर भोज के सम्मान में सैकड़ों बाइकों के साथ रैली भी निकाली।

मुख्य अतिथि विधायक प्रशांत चौधरी ने कहा कि सम्राट मिहिर गरीबों की रक्षा करने वाले राजा थे जिन्होंने कभी विदेशी आक्रमणकारियों के सामने घुटने नहीं टेके। अपने समय में सम्राट मिहिर भोज के पास विश्व की सबसे बड़ी सेना थी।

मिहिर भोज के चित्र पर माल्यापर्ण करते विधायक प्रशांत चौधरी और मास्टर मनोज नागर

अखिल भारतीय गुर्जर कुर्मी महासभा के मास्टर मनोज नागर ने कहा कि मिहिर भोज की सेना में सभी वर्ग एवं जातियों के लोगो ने राष्ट्र की रक्षा के लिए हथियार उठाये और विदेशी आक्रान्ताओं से लड़ाई लड़ी। मिहिर भोज वो शासक थे जो अपनी सेना में भर्ती जाति देखकर नहीं शारीरिक क्षमता देखकर करते थे।

कार्यक्रम के बाद युवाओं ने बाईक रैली निकाली। जिसको झंडी दिखाकर विधायक प्रशांत चौधरी, मास्टर मनोज नागर, एडवोकेट जगत नागर आदि ने रवाना किया। इस दौरान पवन नागर, रामकुमार बैसला, श्याम बैसला, अमित गुर्जर, एकलव्य गुर्जर, विजय धामा, आनंद वर्मा, नाथुराम शर्मा, मानिक त्यागी, बॉबी त्यागी समेत सैकड़ों की संख्या में युवाओं ने भाग रैली में भाग लिया।

घंटाघर के व्यापारियों ने गुर्जर समाज के नेताओं का भव्य स्वागत किया। रैली का समापन रामलीला ग्रांउड कवि नगर में किया गया।

सम्राट मिहिर भोज- 

सम्राट मिहिर भोज प्रतिहार वंश के महान राजा थे। गुर्जर प्रदेश (गुजरात) व गुर्जरी भाषा बोलने के कारण इस वंश को गुर्जर प्रतिहार वंश कहा गया। इन्होने लगभग 50 साल तक राज्य किया था। इनका साम्राज्य अत्यन्त विशाल था और इसके अन्तर्गत वे क्षेत्र आते थे जो आधुनिक भारत के राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा, उड़ीसा, गुजरात, हिमाचल आदि राज्य कहलाते हैं।

Related posts

Share
Share