You are here

पटेलों की उपेक्षा से नाराज, ‘सरदारवादी’ विचारधारा के लोगों का लखनऊ के दारुल सफा में महाजुटान कल

नई दिल्ली, नीरज भाई पटेल (नेशनल जनमत) 

टुकड़ों में बंटी रियासतों को एकता के सूत्र में पिरोकर भारत को राष्ट्र का स्वरूप देने वाले राष्ट्रनिर्माता सरदार बल्लभ पटेल के अनुयायी कल यानि दो दिसंबर को लखनऊ में जुटेंगे।

उत्तर प्रदेश में पटेल समाज के लोगों की अच्छी खासी संख्या होने के बाद भी विभिन्न राजनीतिक पार्टियों द्वारा समाज की उपेक्षा से आहत ‘सरदारवादी’ लोग  एकजुट होकर राजनीति से परे नई रणनीति पर विचार विमर्श करेंगे।

कार्यक्रम आयोजकों के अनुसार प्रदेश के सभी राजनैतिक दलों व सामाजिक संगठनों से जुड़े लोग लखनऊ में राजनीति के केन्द्र दारुल सफा ए ब्लॉक कॉमन हॉल में 11 बजे एकत्रित होंगे।

इस महाजुटान में समाज के लोगों को दर्द बताकर उसके मर्ज का हल निकालने की कोशिश होगी। आयोजकों को कहना है कि विभिन्न राजनीतिक दलों में बंटे समाज के लोग एकजुटता ना होने के कारण समाज का भला करने में असमर्थ हैं।

समाज का दर्द और उसकी दवा का प्रयास- 

1- विभिन्न दलों ने पटेल समाज का वोट लिया लेकिन आज तक प्रदेश में कुर्मी समाज का कोई मुख्यमंत्री नहीं हुआ।

2- भारतीय जनता पार्टी की मौजूदा सरकार में 27 विधायक होने के बाद भी सिर्फ एक कैबिनेट मंत्री देकर उपेक्षा की गई।

3- समाज के लोगों का लगातार हो रहे राजनैतिक व सामाजिक उपेक्षा पर चर्चा होगी।

4- अलग-अलग दलों में बंटे समाज के लोगों को सरदारवादी विचारधारा के रूप में अखंड स्वरूप प्रदान करना।

5- सरदारवादी विचारधारा को देश प्रदेश के गांव -गांव तक स्थापित करना।

6- 31 दिसंबर को होने वाले सरदार पटेल महापरिनिर्वाण दिवस के उपलक्ष्य में विशाल सरदार वादी सम्मेलन आयोजित करना।

7- तमाम राजनैतिक व सामाजिक संगठनों के ऊपर उठकर सामाजिक आंदोलन पर विशेष चर्चा।

8- आरक्षण के नाम पर वर्तमान सरकारें समाज को दिखा रही हैं ठेंगा इस विषय पर मंथन।

BHU के द्रोणाचार्यों शर्म करो, एकलव्यों का अंगूठा काटना बंद करो’, PhD प्रवेश प्रक्रिया के खिलाफ फूटा गुस्सा

24 साल के हार्दिक के सामने 22 साल की BJP सरकार की चमक फीकी, वड़ोदरा में जुटे लाखों पाटीदार

गुजरात: रोड शो के बाद अब रैली में CM योगी की फजीहत, 100 लोग भी सुनने नहीं आए, खाली रहीं कुर्सियां

चुनाव खत्म होते ही योगी सरकार ने दिया जोर का झटका, 12 फीसदी बढ़े बिजली के दाम, किसान की आफत

ट्रंप की बेटी के स्वागत में सजी हैदराबाद की सड़कों को देखकर लोग बोले, ‘प्लीज मेरी गली भी आ जाओ’

 

Related posts

Share
Share