You are here

अच्छा तो शर्मा जी को गाय के ऑक्सीजन छोड़ने का गौज्ञान आज तक की मैडम से मिला है

नई दिल्ली, नीरज भाई पटेल । (नेशनल जनमत)

राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस महेशचंद्र शर्मा ने अपने रिटायरमेंट से ठीक पहले एक ऐसा फैसला सुनाया है. जिसकी वजह से उन्हें सोशल मीडिया पर लगातार ट्रोल किया जा रहा है. बुधवार को अपने करियर की आखिरी सुनवाई में जस्टिस शर्मा ने अपने अन्तर्रात्मा की आवाज सुनते हुए सलाह दी कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कर दिया जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- सोशल मीडिया पर छा गई शर्मा जी की बकलोली खूब बन रहे हैं चुटकुले

साथ ही उन्होंने मोर के बारे में रहस्य का खुलासा करते हुए कहा कि वह कभी सेक्स नहीं करते और मोरनी मोर के आंसू से गर्भधारण करती है. खुद को शिवभक्त कहने वाले जस्टिस शर्मा यही नहीं रुके साइंस को चुनौती देते हुए उन्होंने कहा कि गाय ऑक्सीजन लेती भी है और छोड़ती भी है.

ये भी पढ़ें- जानिए मोरनी को आंसू से गर्भवती करने वाले शर्मा जी कैसे बन गए हाईकोर्ट में जज

आज तक ने प्रसारित किया था ये फर्जी ब्रह्मज्ञान- 

जब इस तथ्य की पड़ताल की गई तो पता चला की इसी प्रकार की कोरी गप्प खुद को सबसे तेज चैनल बताने वाला आज तक अपने एक कार्यक्रम में प्रसारित कर चुका है. इस प्रोग्राम में आज तक की एंकर श्वेता सिंह ने ये ब्नह्मज्ञान अपने दर्शकों तक पहुंचाया था कि गाय ऑक्सीजन लेती भी है छोड़ती है. जबकि साइंस के हिसाब से ये बिल्कुल गलत है. गाय भी मनुष्य की तरह ऑक्सीजन ही लेती है और कार्बन डाइ ऑक्साइड छोड़ती है.

इसे भी पढ़ें- कोर्ट परिसर में मनु की मूर्ति का प्रभाव जस्टिस शर्मा बोले मोरनी आंसू पीकर गर्भवती होती है

आइए डालते हैं गाय को लेकर उनकी जानकारी पर एक नजर-

मान्यता है कि गाय में 33 करोड़ देवी-देवता निवास करते हैं, इसीलिए गाय को विश्वमाता कहा जाता है.

– गाय समुद्र मंथन में लक्ष्मी के साथ निकली थी.

गाय सांस में ऑक्सीजन लेती है और छोड़ती भी ऑक्सीजन ही है.

– गाय खुद में एक अस्पताल है. उन्होंने कहा कि गोबर सालाना 45 सौ लीटर बायोगैस पैदा करती.

– गोमूत्र से दिल, दिमाग और लिवर स्वस्थ रहते हैं. इसे पीने से पाप धुल जाते हैं.

– दीवारों पर गोबर का लेप करना चाहिए, यह रेडिएशन से घर को बचाता है.

– गाय के रंभाने से वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया मर जाते हैं.

– गाय का दूध पीने से कैंसर नहीं होता है.

इसे भी पढ़ें- बीजेपी प्रवक्ता ने कहा लौटा दो मेरी यशभारती पेंशन उसी से होता है गुजारा

Related posts

Share
Share