सोशलिस्ट फैक्टर के सम्पादक फ्रैंक हुजूर के घर पर लगी मुलायम-अखिलेश की फोटो लफंगों ने उखाड़ी

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो।

भाजपा की सूबे मे सरकार बनते ही आपराधिक किस्म के लोग बेकाबू हो गए हैं. हालात ये हैं कि प्रदेश की राजधानी लखनऊ के पॉश इलाके दिलकुशा में अपराधी किस्म के लोगों ने दिलकुशा कॉलोनी के बंग्ला नम्बर बी-5 में सपा संस्थापक और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव और सपा मुखिया अखिलेश यादव की गेट पर लगी फोटो को तोड़ कर कहीं फेंक दीं और साथ ही गेट पर लगी सोशलिस्ट फैक्टर के बोर्ड को भी गायब कर दिया.

इसे भी पढ़ें…शर्मनाक, योगीराज में नहीं रुके बलात्कार,अब नशे का इंजेक्शन लगाकर वार्डबॉय ने किया बलात्कार

फ्रैंक हुजूर को लम्बे समय से मिल रही हैं धमकियां

दिलकुशा कॉलोनी का बी-5 बंग्ला जाने-माने लेखक और सामाजिक चिंतक फ्रैंक हुजूर का आवास है. फ्रैंक हुजूर अपनी समाजवादी और देश में दलितों,पिछड़ों, आदिवासियों, मुसलमानों, किसानों,मजदूरों, और वंचित वर्ग के आवाज उठाने के कारण लम्बे समय से मनुवादी और सामंती ताकतों के निशाने पर रहे हैं. पिछले साल उन्हें कुछ आसामाजिक तत्वों ने जान से मारने की धमकी भी दी थी. पर उस समय पुलिस ने धमकी देने वाले लोगों पर कोई कार्यवाही नहीं की थी.

इसे भी पढ़ें…जानिए आरक्षण विरोधी IAS मणिराम शर्मा क्यों बोले , 10 शब्द बोलता हूं उनमें से 8 गाली होते हैं

अब सूबे में भाजपा की सरकार बनते ही फ्रैंक हुजूर फिर से कुछ लोगों के निशाने पर आ गए हैं. फ्रैंक हुजूर से जुड़े लोगों का मानना है कि फ्रैंक हुजूर के बंग्ले के बाहर गेट पर लगी अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव की फोटो को गायब करने के पीछे भाजपा से जुड़े कुछ लोग हो सकते हैं. अपनी समाजवादी विचारधारा के चलते ही राजनीतिक विरोधियों ने फ्रैंक हुजूर के बंग्ले के गेट पर लगी अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव की फोटो गायब कर दी है.

इसे भी पढ़ें...भोपाल के बाद अब उत्तराखंड में भी भाजपा नेता निकली सेक्स रैकेट की सरगना, पार्टी से बाहर

जाने-माने लेखक औऱ सामाजिक चिंतक है फ्रैंक हुजूर

आपको बता दें कि फ्रेंक हुजूर ने जाने-माने पाकिस्तानी क्रिकेटर इमरान खान की वायोग्राफी इमरान वर्सेज इमरान लिखी. इसके बाद फ्रैंक हुजूर ने सपा के पूर्व मुखिया मुलायम सिंह यादव के जीवन संघर्ष के ऊपर अपनी लेखनी चलाई और बाद में सपा मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के राजनीतिक संघर्षों की दास्तान ‘टीपू स्टोरी’ लिखी. जो समाजवादी जगत में काफी लोकप्रिय किताब रही है.

1 Comment

  • GVK Biosciences , 14 July, 2017 @ 9:12 pm

    279779 313930if the buffalo in my head could speak german i would not know a god damm thing. What i do know is that the language of art is out of this world. 292937

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Share