You are here

नरेश उत्तम पटेल के नेतृत्व में गरीबों के चेहरे पर मुस्कान बिखेरकर सपाईयों ने मनाई दिवाली

लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

सादगी और गरीबों के बीच थोड़ी सी खुशियां बांटने के मकसद के साथ समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल के नेतृत्व में लखनऊ में पार्टी कार्यकर्ताओं ने अनाथालयों, वृद्धाश्रमों, अस्पतालों में जाकर दिवाली मनाई.

इस दौरान कार्यकर्ताओं ने अनाथों, वृद्धों, विकलांगो, गरीब मरीजों और हजारों झुग्गी झोपड़ी वासियों के बीच मिठाई, खील-चूरा, मोमबत्ती, गट्टा-खिलौने और मिट्टी के दीपक और रुई की बत्ती के पैकेट बांटे।

प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि उत्सवों को सामूहिकता से ही मनाये जाने की परम्परा है. दीपावली के पर्व पर हम विकलांगो, असहायों, अनाथों और गरीबों के पास जाकर उनके साथ खुशियां बांटने पहुंचे हैं।

खुद ही पैकेट बनवा रहे थे प्रदेश अध्यक्ष- 

पार्टी कार्यालय में दिवाली के पैकेट की तैयारी करवा रहे नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि इस बार राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर हम सपा परिवार के लोगों ने दीपावली पर्व को सादगी और गरीबों, असहायों के साथ मनाने का निर्णय लिया है।

इसके बाद प्रदेश कार्यालय से समाजवादी झंडे लगी गाड़ियों में पैकेट बनवाकर उनमें दिवाली की सामग्री रखवाकर शहर के अनाथालयों, अस्पतालों और मलिन बस्तियों में जाकर वितरण किया गया।

मोदी सरकार के बेतुके फैसलों से गरीबों की दिवाली खराब हुई है- 

श्री उत्तम ने कहा कि मोदी सरकार के बेतुके फैसलों से, बढ़ती मंहगाई से, बढ़ती बेरोजगारी से इस दीप पर्व की खुशियां बीजेपी सरकार ने छीनने का काम किया है। नोटबंदी, जीएसटी की मार के साथ महंगाई से आम आदमी की जिंदगी दूभर हो गई है. गरीबों, किसानों और नौजवानों के मन में निराशा है.

सुनिए क्या बोले नरेश उत्तम- 

असहायों और कमजोर वर्ग के लिए बीजेपी नेतृत्व के मन में जरा भी संवेदना नहीं है. इस मरी हुई सरकार की संवेदनाओं को लोगों के बीच केवल हमारा नहीं हर जागरूक नागरिक का कर्तव्य है।

पिछड़ों, दलितों, आदिवासियों, मुस्लिमो के हित में बीजेपी-कांग्रेस दोनों का खात्मा जरूरी है !

यै कैसी ‘देशभक्त’ सरकार ? मोदी-राजनाथ पर सवाल उठाने वाला जवान निलंबित, फिर गिरफ्तार

CM योगी का मोदी पुराण, मोदी सरकार के कामों से देशवासियों को जो सुख मिल रहा है, वही रामराज्य है

शब्दों से भेदभाव मिटाने की निकली केरल सरकार, ‘दलित-हरिजन’ शब्दों के इस्तेमाल पर रोक

AU छात्र संघ: समाजवादी छात्रसभा की जीत सामाजिक न्याय की जीत है, 1 यादव, 1 पटेल, 1 दलित, 1 ठाकु

 

 

Related posts

Share
Share