You are here

सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने सदन में कहा सहारनपुर के सांसद को गिरफ्तार करो

लखनऊ। नीरज भाई पटेल

एक के बाद एक बवाल ने सहारनपुर की शांति को भंग करके रख दिया है. सहारनपुर को सुलगाने के पीछे किसका हाथ है. इसका खुलासा करने में पुलिस भले ही कतरा रही हो. लेकिन पुलिस ने गांव सड़क दूधली में अंबेडकर शोभायात्रा निकालने के नाम पर हुए बवाल में जिन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी, उनमें बीजेपी सांसद राघवलखनपाल का नाम प्रमुख था. इसी बात को मुद्दा बनाते हुए समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और एमएलसी नरेश उत्तम ने सदन में कहा कि एसएसपी के घर तोड़फोड़ और हिंसा के सबूत पुलिस के पास मौजूद हैं तो बीजेपी सांसद की गिरफ्तारी क्यों नहीं हो रही ?

एसएसपी के आवास में तोड़फोड़ और हिंसा फैलाने का है आरोप-

बीजेपी सांसद राघवलखन पाल पर आरोप है कि बीजेपी 20 अप्रैल को डॉ. अंबेडकर के नाम पर ऐसे इलाके से शोभायात्रा निकालना चाहती थी, जहां पिछले सात सालों से शांति बनाए रखने के लिए यात्रा पर बैन लगा था. लेकिन प्रशासन की इजाजत ना मिलने के बावजूद भी बीजेपी ने यात्रा निकाली. इतना ही नहीं इजाजत ना देने पर एसएसपी लव कुमार के घर हंगामा किया और अपने समर्थकों के साथ आसपास की दुकानों में भी लूट-पाट की. वहीं जब दूसरे समुदाय के लोगों ने इसका विरोध किया, तो दो गुटों में हिंसक झड़प शुरू हो गई..

पुलिस वालों के घर हमला करने से कैसे संभलेगी कानून व्यवस्था- नरेश उत्तम

एमएलसी नरेश उत्तम ने कहा कि पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार सड़क दूधली में हुए बवाल में कमिश्नर एमपी अग्रवाल की गाड़ी तोड़ दी गई. कई दुकानों में लूटपाट हुई. एफआईआर में स्पष्ट है कि सांसद राघव लखनपाल शर्मा भीड़ के साथ एसएसपी के कैंप ऑफिस पहुंचे, कुर्सी तोड़कर वहां रखे दस्तावेजों को भी फाड़ दिया. सीसीटीवी कैमरे तोड़ दिए गए. एसएसपी की नेम-प्लेट तोड़ दी गई. हाइवे पर जाम लगाया और वाहनों से सवारियां उतारकर उनके साथ मारपीट की गई. इसके बाद भी सत्ता पक्ष का होने के नाते पुलिस उनको गिरफ्तारी की हिम्मत नहीं जुटा पा रही है। ऐसे प्रदेश में कानून का राज कैसे चल पाएगा?

Related posts

Share
Share