You are here

ZEE NEWS के मालिक बोले पत्रकारिता की आड़ में धंधा चला रहे लोग, लोग बोले सुधीर तिहाड़ी के लिए कह रहे हो क्या?

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

ज़ी मीडिया ग्रुप के चेयरमैन और बीजेपी के सहयोग से राज्य सभा पहुंचे सांसद सुभाष चंद्रा ने ट्विटर पर पत्रकारिता की आड़ में गोरखधंधा चलाने वालों को निशाने पर लिया है। उन्होंने लिखा है, “पत्रकारिता की आड़ में गोरख अजेंडा चलाना ‘द कायर’ की पहचान है। कुछ समय पहले आर्मी चीफ़ की तुलना ‘द कायर’ ने डायर के साथ की थी।”

उनके इस ट्वीट पर कई लोगों ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है। कुछ लोगों ने तो उन्हें पहले अपने गिरेबान में झांकने की सलाह दी है तो कुछ लोगों ने उन्हे धंधेबाज भी कहा। एक यूजर  ने ट्विट किया सुधीर तिहाड़ी के लिए बोले रहे हैं क्या चंद्रा साहब।  

इसे भी पढ़ें-स्वंयूभू राष्ट्रवादी जी न्यूज के मालिक सुभाष चंद्रा के बेटे ने देश को लगा दिया 11 हजार करोड़ का चूना

 

11 हजार करोड़ के मामले में बेटे पर उठे हैं सवाल- 

वैसे तो सुभाष चंद्रा जी टीवी पर चलने वाले अपने शो में देशभक्ति पर बड़े-बड़े भाषण देते हैं। लेकिन हाल ही में उनके बेटे की एक कंपनी द्वारा मिजोरम में खेल करके देश को 11 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाने की खबर आई है।  खबर के अनुसार भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने चार निजी कंपनियों और मिजोरम सरकार के अधिकारियों को 2012-2015 के दौरान राज्य द्वारा चलाई जाने वाली लॉटरियों में हुई भीषण धांधलियों के लिए आड़े हाथों लिया है.

इन चार कंपनियों में से एक के तार बीजेपी के समर्थन से राज्यसभा सांसद बने जी न्यूज के मालिक सुभाषचंद्रा के नेतृत्व वाले एस्सेल समूह से काफ़ी नज़दीक से जुड़े हुए हैं, जिसके सबसे बड़े शेयरहोल्डरों में सुभाष चंद्रा के बेटे और भाई शामिल हैं.

जब सुभाष चंद्रा ने ट्विटर पर लिखा कि पत्रकारिता की आड़ में लोग गोरखधंधा चला रहे हैं।  तो लोगों ने सोशल मीडिया पर उनकी खूब खिंचाई की। लोगों ने कहा कि आपकी देशभक्ति की पोल खुल चुकी है। आप देशभक्ति की आड़ में देश को चूना लगा रहे हैं।

पढ़ें..योगीराज में सरकारी वकीलों की नियुक्ति में चला जातिवाद. 311 में से 216 वकील ब्राह्मण – ठाकुर, OBC,SC,ST गायब

सुधीर चौधरी को भेजा गया था तिहाड़- 

30 नवंबर 2012 को कोर्ट के आदेश पर जी न्यूज के दो संपादकों सुधीर चौधरी और समीर अहलूवालिया को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेजा गया था। उन पर कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल की कंपनी के कथित तौर पर कोयला घोटाले में शामिल होने की खबर प्रसारित नहीं करने के बदले में 100 करोड़ रुपये मांगने का आरोप है। अदालत ने दोनों संपादकों के तर्क को खारिज करते हुए दोनों को अन्य कैदियों की तरह रखने का आदेश दिया था।

इसलिए लोग कहते हैं सुधीर चौधरी को सुधीर तिहाड़ी- 

एक यूजर ने लिखा है, “सुभाष चंद्र जी आपको शायद पता नहीं लोगों ने आपके चैनल का नाम जी हुजूर चैनल रखा है।” दूसरे यूजर ने लिखा है, “द कायर क्या कर रहा है वह मैं नहीं जानता सुभाष जी पर आपके लोग 100 करोड़ की फिरौती मांगते हुए जेल जरूर गए थे।” एक यूजर ने लिखा है, “आपकी पत्रकारिता तो धन्य है, कभी खुद की गिरेबां झांक कर देख लो।” एक यूजर ने लिखा है, “यह आपका ही TV है जो 500 और 2000 के नए नोट में चिप्स है दिखला रहा था ना?”

Related posts

Share
Share