You are here

BJP सांसद सुब्रमण्‍यम स्‍वामी बोले, दबाव बनाकर GDP के आंकड़े बदलवाती है मोदी सरकार, फर्जी हैं सब

नई दिल्ली/अहमदाबाद, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

छद्म माहौल बनाकर आंकड़ों की बाजीगरी पेश करके अपनी पीठ थपथपा भोली-भाली जनता को तो बेवकूफ बना सकते हैं लेकिन जागरूक इंसान हर बात समझता है। इस भ्रमजाल के आवरण के बीच घुट रहे लोग कई बार अपनी ही पार्टी और नेता के प्रति हमलावर हो जाते हैं।

बीजेपी के भाषणवीर स्टार प्रचारक के खिलाफ उनकी पार्टी के ही सांसद शत्रुघ्न सिन्हा, पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण शौरी के बाद अब हिंदुवादी नेता के बतौर पहचान बनाने वाले बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्‍यम स्वामी ने पीएम मोदी के मन की बात सुनते-सुनते अपने मन की बात भी कह दी।

सीएसओ के निदेशक पर दवाब डालने का आरोप- 

सुब्रमण्‍यम स्वामी ने एक बार फिर से नरेंद्र मोदी सरकार पर जुबानी हमला बोला है। स्‍वामी ने कहा क‍ि सरकार ने केंद्रीय सांख्यिकी संगठन (सीएसओ) के अधिकारियों पर बेहतर आर्थिक आंकड़े देने के लिए दबाव बनाया था, जिससे यह दिखाया जा सके कि नोटबंदी का अर्थव्‍यवस्‍था और जीडीपी पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा है।

स्वामी ने इन आंकड़ों को फर्जी बताया है। स्‍वामी के इस आरोप से मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। सुब्रमण्‍यम स्वामी ने शनिवार को अहमदाबाद में चार्टर्ड अकाउंटेंट के एक सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार पर सीएसओ के अधिकारियों पर अच्‍छे आंकड़े देने के लिए दबाव डालने का आरोप लगाया।

उन्‍होंने कहा, ‘कृपा करके जीडीपी के तिमाही आंकड़ों पर न जाएं। वे सब फर्जी हैं। यह बात मैं आपको कह रहा हूं, क्‍योंकि मेरे पिता ने सीएसओ की स्‍थापना की थी। हाल ही में मैं केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा (सांख्यिकी मंत्री) के साथ वहां गया था। उन्‍होंने सीएसओ अधिकारियों को आदेश दिया, क्‍योंकि नोटबंदी पर आंकड़े देने का दबाव था।

नोटबंदी के दुष्प्रभाव छुपाने के लिए फर्जी आंकड़े- 

स्वामी बोले सरकार जीडीपी के ऐसे आंकड़े जारी कर रहे हैं, जिससे यह पता चल सके कि नोटबंदी का कोई असर नहीं पड़ा। मैं घबराहट महसूस कर रहा हूं, क्‍योंकि मुझे पता है कि इसका प्रभाव पड़ा है। मैंने सीएसओ के निदेशक से पूछा था कि आपने उस तिमाही में जीडीपी के आंकड़ों का अनुमान कैसे लगाया था जब नोटबंदी का फैसला (नवंबर 2016) लिया गया था?’

बकौल स्‍वामी, सीएसओ निदेशक ने बताया कि वह क्‍या कर सकते हैं? वह दबाव में थे। उनसे आंकड़े मांगे गए और उन्‍होंने दे दिए। स्‍वामी ने बताया कि ऐसे में तिमाही आंकड़ों पर भरोसा न करें।

सुब्रमण्‍यम स्‍वामी का यह बयान ऐसे समय में आया है जब वित्‍त मंत्री अरुण जेटली नोटबंदी और जीएसटी के प्रतिकूल प्रभावों को लेकर जताई आशंका को खारिज कर चुके हैं। उन्‍होंने सितंबर 2017 में आर्थिक विकास की दर के 6.3 प्रतिशत रहने का भी हवाला दिया था। जून में यह 5.7 रहा था।

चारा घोटाला में जगन्नाथ मिश्रा बरी, लालू यादव दोषी, BJP सांसद शत्रुघ्न ने बताया ‘जनता का हीरो’

ब्राह्मणों को बताया भिखारी तो CM ने मांगा इस्तीफा, फिर कैबिनेट मंत्री को कर दिया बर्खास्त

सिर्फ अपने ‘मन की बात’ सुनाने वाले PM के राज में, BJP शासित छत्तीसगढ़ में 11 माह में 14 पत्रकार गिरफ्तार

BJP में 48 विधायकों का आंकड़ा लगाते रहे ‘पटेल’, अमित शाह ने कर दिया फैसला CM बनेंगे विजय रूपाणी

BJP सरकार की जातिवादी नीति के कारण, दलितों-पिछड़ों को झूठे मामलों मेें जेल भेजा जा रहा है- मायावती

तो क्या गुजरात चुनाव जीतने के लिए PM ने देशवासियों से झूठ बोला था ? कांग्रेस बोली माफी मांगे मोदी

 

 

Related posts

Share
Share