You are here

मोदी को हो गई है छपास की बीमारी, इसलिए झूठ की उल्टियां करते घूम रहे हैं- तेजस्वी यादव

पटना/नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

बिहार में इन दिनों भाजपा नेता सुशील मोदी और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के बीच ट्विटर पर जंग चल रही है। सुशील मोदी लगातार लालू यादव के परिवार पर आरोप लगा रहे हैं। जिसका तेजस्वी यादव मुखर होकर जवाब भी दे रहे हैं। पिछले दिनों सुशील मोदी ने लालू यादव के ऊपर 13 एकड़ जमीन होने का आरोप लगाया था। इस पर तेजस्वी ने जवाब देते हुए कहा है कि सुशील मोदी मंदिर में जाकर कसम खा दें कि जमीन लालू यादव की है न कि भाजपा नेता की।

इसे भी पढ़ें…हत्यारे गौगुंडों और गाय की राजनीति करने वालों के लिए नजीर हैं गााय के मसीहा मजदूर जफरुद्दीन

तेजस्वी ने दी सुशील मोदी को चुनौती-  

आपको बता दें कि बिहार के उप मुख्यमंत्री और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी को चुनौती है कि वो अगर सच्चे हिन्दू धर्मी हैं तो मंदिर में चलकर सबूत और कागजात के साथ कहें कि तथाकथित 13 एकड़ जमीन लालू परिवार की है बीजेपी सांसद की नहीं।

झूठ की उल्टियां करने से बाज नहीं आते सुशील मोदी-

ट्विटर पर ताबड़तोड़ कई पोस्ट शेयर करते हुए तेजस्वी ने आरोप लगाया है कि सुशील मोदी बेरोजगार हैं, इसलिए झूठ और अफवाह का ठेका उठाए हुए हैं। तेजस्वी ने लिखा है कि उनकी बातों में कोई सत्यता नहीं होती है, इसीलिए उनकी पीसी (प्रेस कॉन्फ्रेन्स) में बीजेपी का कोई वरिष्ठ नेता नहीं आता है। तेजस्वी ने लिखा है, “कोई आपको उपहार दे और आप लेना ना चाहें और वह उपहार लौटा दें, फिर भी 24 वर्ष बाद सुशील मोदी जैसे लोग झूठ की उल्टियां करने से बाज़ नहीं आते।”

पढ़ें…नीतीश कुमार ने आरएसएस-बीजेपी पर उठाए गंभार सवाल, बोले आजादी की लड़ाई में इस विचारधारा की क्या भूमिका थी

सुशील मोदी को है छपास की बीमारी- 

तेजस्वी यादव ने लिखा है, “सुशील मोदी को छपास की इतनी बीमारी है कि खबरों में आने के लिए मनगढ़ंत झूठ, कोरी बकवास करने और अफ़वाह का ढोल पीटने से भी बाज नहीं आएंगे।” उन्होंने आगे लिखा है, “सुशील मोदी अगर सच्चे धर्मी हैं तो बताये जिस 13 एकड़ ज़मीन का ज़िक्र वह कर रहे हैं क्या वह BJP सांसद रमा देवी व परिवार के नाम रजिस्टर्ड नहीं है।”

तेजस्वी यादव ने ट्विटर पोस्ट के माध्यम से मीडिया पर भी निशाना साधा है। उन्होंने लिखा है कि डील 1993 में ही कैंसिल की जा चुकी है, उनकी जमीन उन्हें वापस की जा चुकी है, बावजूद इसके समर्थित मीडिया को सच से कुछ लेना-देना नहीं है।

इसे भी पढ़ें- सामाजिक न्याय के पुरोधा सांसद शरद यादव को जेएनयू में दिया जाएगा अवार्ड फॉर सोशल जस्टिस

Related posts

Share
Share