You are here

सनी लियोनी के बच्ची गोद लेने के निर्णय पर गंदे कमेंट करने वाले मनुवादी मानसिकता से पीड़ित हैं

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

फिल्म स्टार सनी लियोनी ने 21 महीने के एक गरीब बच्ची को गोद लेकर साहसिक निर्णय लिया है। नेशनल जनमत इस निर्णय की सराहना करता है। लेकिन वही पुरानी मनुवादी मानसिकता से ग्रसित कुछ लोग इस निर्णय को लेकर गंदे और भद्दे कमेंट करके अपने जन्मजात संस्कारों का बखान कर रहे हैं।

इस निर्णय पर सोशल मीडिया पर सनी लियोनी के निर्णय पर गालियां लिखने वालों को भारतीय मूलनिवासी संगठन के राष्ट्रीय महासचिव सूरज कुमार बौद्ध मनुवादी मानसिकता से ग्रसित इंसान बता रहे हैं, पढ़िए उनका पूरा लेख-

इसे भी पढ़ें-पेरियार की धरती पर ब्राह्मणवाद के ‘जनेऊ NEXUS’ के खिलाफ 7 अगस्त को सुअर का ‘जनेऊ संस्कार’

बच्ची गोद लेने पर सनी को गाली देने वाले लोग मनुवादी हैं- 

पुरुषवादी समाज महिलाओं के प्रति अपनी संकुचित मानसिकता को बदलने का नाम नहीं ले रहा। महिलाओं को दोयम दर्जे का नागरिक माना जाना तथा उनकी आजादी पर पाबंदी पुरुषवादी समाज का प्रमुख अंश है। अब सवाल यह उठता है कि समाज कब मानेगा कि एक औरत को वेश्या बनने पर मजबूर करने की असली वजह पुरुषवादी समाज ही है।

हाल में ही एक खबर आई है कि फिल्म स्टार सनी लियोनी ने 21 महीने की एक बच्ची को गोद लिया है। यकीनन सनी लियोनी का यह कदम काबिले तारीफ़ है। लेकिन समाज में कुछ ऐसे लोग भी हैं जो सनी लियोनी के इस अच्छे कदम को गलत ठहरा रहे हैं। फेसबुक पर तो मनुवाद की बीमारी से ग्रस्त कुछ लोग 21 महीने के बच्ची को “भविष्य की सनी लियोनी या भविष्य की वेश्या” करार दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-RTI में हुआ EVM गड़बड़ी का बड़ा खुलासा, निर्दलीय का वोट हो रहा था BJP को ट्रांसफर

सनी को क्यों हक नहीं है बच्ची गोद लेन का- 

एक बंदा टिप्पणी करता है कि सनी लियोन को कोई हक नहीं है किसी बच्चे को गोद लेने का तो दूसरा और भी आगे बढ़ते हुए टिप्पणी करता है की सनी लियोनी मां बनने लायक नहीं है। शर्म आती है ऐसे लोगों की सोच समझ पर। आखिर उनकी नजर में सनी लियोनी मां बनने लायक नहीं है तो क्या सनी लियोनी केवल इनकी काम पिपासा को तृप्त करने की को विषय वस्तु मात्र हैं।

इसे बी पढ़ें-‘जातिवाद- भ्रष्टाचार’ के गठजोड़ से बनी वकीलों की लिस्ट निरस्त करने के लिए OBC-SC वकीलों का प्रदर्शन

सनी का बच्ची गोद लिया जाना बाबा साहब की देन- 

बच्ची के गोद लिए जाने पर सनी लियोन कहती हैं कि “सामान्यतः एक बच्चे के लिए एक मां को 9 महीने का इंतजार करना पड़ता है लेकिन मैंने इस बच्ची के लिए 21 महीने का इंतजार किया है। हमने बच्ची को नहीं बल्कि बच्ची ने हमें मां-बाप के रुप में चुना है।”

बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर बिना किसी भेदभाव के देश की सभी महिलाओं के मान सम्मान और स्वाभिमान की लड़ाई लड़कर उन्हें बराबरी का हक दिलवाया। आज यह बाबासाहेब आंबेडकर के संविधान और हिंदू कोड बिल का वर्तमान कानूनी रूप हिंदू लॉ ही है जिसकी बदौलत एक महिला को बच्ची गोद लेने का अधिकार मिला है वरना महिलाओं को भोग उपभोग की सामग्री मानने वाला यह समाज सनी लियोनी को कैसे बच्ची गोद लेने देता।

यही वजह है कि बाबासाहेब आंबेडकर कहा करते थे कि उनकी संविधान निर्माण करने से अधिक रुचि हिंदू कोड बिल पारित कराने में है।

इसे भी पढ़ें-OBC पीएम का कैबिनेट सचिवालय बना जातिवाद का अड्डा, 53 अधिकारियों में एक भी OBC नहीं

काश तथागत गौतम बुद्ध से भी कुछ सीख पाते !

सनी लियोनी को गाली देने वाले यह मनुवादी लोग घर में सजाने के नाम  पर तथागत गौतम बुद्ध की तस्वीर तो लगा लेते हैं लेकिन उनसे कुछ नहीं सीख पाते। एक बार एक स्त्री तथागत गौतम बुद्ध के व्यक्तित्व एवं उनके सिद्धांतों से प्रभावित होकर अपने घर भोजन ग्रहण करने के लिए आमंत्रित करती है।

बुद्ध द्वारा निमंत्रण स्वीकार करने पर गांव वाले बुद्ध के पास आकर कहते हैं, हे तथागत ! उस स्त्री के हाथ का भोजन आप ग्रहण मत करें। वह स्त्री चरित्रहीन है, वेश्या है। इस पर तथागत गौतम बुद्ध कहते हैं “स्वयं चरित्रहीन कैसे हो सकती है जब तक इस गांव के पुरुष चरित्रहीन न हों। अगर गांव के सभी पुरुष अच्छे होते तो यह औरत ऐसी न होती। इसलिए इसके चरित्र के लिए यहां के पुरुष जिम्मेदार हैं।” महिलाओं पर हमेशा उंगली उठाने वाले अपने चरित्र में झांककर क्यों नहीं देखते हैं।

साहेब, एक मां 5 साल के बच्ची को साड़ी कैसे पहनाएं?

यहां के राजनेता तो सारी हदें पार करके बलात्कार की पीड़िता पर भी कटाक्ष करने से बाज नहीं आते हैं। गौरतलब है कि निर्भया गैंग रेप कांड पर बलात्कार का दोषी जेल की हवा खा रहा आसाराम बोला था कि “केवल पांच-छह लोग ही अपराधी नहीं हैं। बलात्कार की शिकार हुई बिटिया भी उतनी ही दोषी है जितने बलात्कारी। वह अपराधियों को भाई कहकर पुकार सकती थी। इससे उसकी इज्जत और जान भी बच सकती थी। क्या ताली एक हाथ से बज सकती है, मुझे तो ऐसा नहीं लगता.”

कभी कोई राजनेता बोलता है कि बलात्कार की घटनाएं इसलिए होती हैं क्योंकि महिलाएं मिनी स्कर्ट पहनती हैं साड़ी नहीं पहनती। साहेब, एक मां 5 साल के बच्ची को साड़ी कैसे पहनाए?

इसे भी पढ़ें-वित्त मंत्री बोले सैनिटरी पैड से नहीं हटेगा GST, लड़कियां बोलीं फिर स्वच्छ भारत की नौटंकी बंद करो

महिला विरोधी दृष्टिकोण मनुवाद की देन- 

असल में गलती उनकी नहीं है गलती उन धर्मशास्त्रों की है जो महिलाओं और शूद्रों को ढोल, गंवार, पशु के श्रेणी में रखता है। गलती उन शोषणकारी ग्रंथों की है जो हमे सिखाती है कि “पिता रक्षति कुमारी भ्राता रक्षति यौवने पुत्रा तो स्थविरे तस्मत न सती स्वातान्त्रयम अर्हति” (मनु स्मृति अध्याय 9 पद संख्या 3)।

खैर आज हम लोकतंत्र के युग में जी रहे हैं। देश किसी गीता, कुरान, पुराण या मनुस्मृति से न चलकर बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के संविधान से चलता है। बाबासाहेब अंबेडकर कहते हैं कि मैं किसी समाज का विकास इस मापदंड से मापता हूं कि उस समाज में महिलाओं ने कितनी प्रगति हासिल की है। इसलिए सभी देशवासियों को महिलाओं के प्रति संकुचित मानसिकता त्यागकर समता स्वतंत्रता बंधुता न्याय पर आधारित समतामूलक समाज की अवधारणा पर जोर देना चाहिए।

Related posts

Share
Share