You are here

तालाब में पड़ी थी मरी गाय, गौगुंडों ने जमकर काटा बवाल, धार्मिक स्थलों पर की तोड़फोड़

नई दिल्ली/ बुलंदशहर, नेशनल जनमत ब्यूरो।

देश भर में इन दिनों गौरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। आय दिन कही न कहीं गौरक्षकों द्वारा की गई हिंसा से जुड़ी खबरों आ ही जाती हैं। गौरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा से खास वर्ग के लोग सदमे में हैं।

गौरक्षा पर फैलाई गई हिंसा का ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले से 10 किमी दूर अदौली गांव का है।  जहां पर तालाब में मरी गाय देखने के बाद स्थानीय लोगों का गुस्सा फूट पड़ा उन लोगों ने की घर लूट लिए धार्मिक स्थलों में तोड़फोड़ की।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, यह घटना शुक्रवार की है। एक ग्रामीण ने बताया कि करीब सौ की संख्या में लोगों ने गांव को निशाना बनाया था। अपना नाम गुप्त रखे जाने की शर्त पर एक उसने कहा, भीड़ ने कई घरों को लूटा और हमारे दो धार्मिक स्थलों में जमकर तोड़फोड़ की गई है।

गौरक्षकों द्वारा फैलाई गई हिंसा से डरे कई लोग अपने घरों में ताला लगाकर सुरक्षिति स्थानों पर  चले गए हैं। ताकि उनके परिवार पर इस तरह का हमला न हो पाए। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, सिटी एसपी प्रवीण रंजन के मतुाबिक, गांव में सुरक्षा को देखते हुए सात थानों की पुलिस समेत पीएसी की बटालियन तैनात कर दी गई है।

उन्होंने कहा, घटना को अंजाम देने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी, फिलहाल गांव में स्थिति नियंत्रण में है। वहीं ग्रामीण थाना क्षेत्र के एसपी प्रदीप कुमार तिवारी ने कहा, हमें अदौली गांव के तालाब में एक मरी गाय के होने की सूचना मिली थी।

पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर लोगों को शांत कराया और कुछ लोगों से पूछताछ करने के लिए थाने भी ले गई, गाय के शव का पोस्टमार्टम कराकर उसे जला दिया गया।

इसके बाद जब पुलिस घटना स्थल से वापस चली गई तो एकबार फिर गौरक्षक इकट्ठा हो गए। उन्होंने ग्रामीणों को निशाना बनाते हुए उन पर पत्थरबाजी की। घटना का जिक्र करते हुए सब्जी बेचने वाले आबाद अली ने बताया, रोज की तरह ही मैं अपने काम पर जा रहा था कि तभी अचानक भीडं मेरी तरफ दौड़ पड़ी।

भीड़ में से कुछ लोगों ने मेरे साथ मारपीट की तो कुछ लोगों ने मेरे ठेले से सब्जियां फेंकना शुरु कर दिया। आबाद के अलावा ऐसे कई लोग है जो इस भीड़ का शिकार हुए हैं।

Related posts

Share
Share