You are here

योगीराज: ठाकुरों ने दलित को पेशाब पिलाई, मूंछ उखाड़ दी, बोले मारो साले को “सरकार हमारी है”

लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार को जातिवादी बताकर सत्ता की सीढ़िया चढ़ने वाली बीजेपी सरकार के राज में मुख्यमंत्री के स्वजातियों का कहर बदस्तूर जारी है। सरकार पर तो भेदभाव के आरोप लग ही रहे हैं बची खुची कसर ‘ठाकुर साहब’ टाइप के लोग पूरी कर दे रहे हैं।

आलम ये है कि ‘जब सैंया भए कोतवाल तो डर काहे का’ की तर्ज पर आए दिन प्रदेश के किसी ना किसी हिस्से से दलित या पिछड़ों पर उत्पीड़न का कोई ना कोई मामला सामने आ ही जाता है।

रोंगटे खड़े कर देने वाला मामला उत्तर प्रदेश के बदायूं का है, जहां दबंगों पर दलित को पेशाब पिलाने का आरोप है। पीड़ित का कहना है कि दबंगों ने उसे खेत काटने को कहा था लेकिन उसने जब मना कर दिया तो जूते में पेशाब पिलाई और कहा कि इनका है कौन, सरकार हमारी है।

पीड़ित के परिवार का कहना है कि 23 अप्रैल को शाम पांच बजे गांव के ठाकुरों विजय सिंह, पिंकू सिंह, शैलेंद्र सिंह और विक्रम सिंह ने सीताराम से उनकी बीस बीघा फसल की कटाई करने के लिए कहा। बीमारी की वजह से सीताराम ने इसके लिए मना कर दिया।

इनकार की बात सुनकर गुस्साए ठाकुरों ने सीताराम से बुरी तरह मारपीट शुरू कर दी। जातिवादी शब्द कहे गए। सीताराम को गांव की चौपाल पर घसीटकर ले गए और नीम के पेड़ से बांध दिया। मूंछें उखाड़ दी और पेशाब पीने के लिए मजबूर किया गया।

पुलिस ने सीताराम पर ही ठोक दिया मामला- 

मामले में पीड़ित की पत्नी जयमाला ने बताया कि उसके नाबालिग बेटे ने ठाकुरों के सामने हाथ जोड़े कि वह उसके पिता को छोड़ दें लेकिन उनपर इसका कोई असर नहीं पड़ा। इसके बाद जयमाला ने 100 नंबर पर फोन कर पुलिस से मदद की गुहार लगाई।

सीताराम के छोटे भाई अनबीर वाल्मीकि ने बताया कि पुलिस टीम घटना स्थल पर पहुंची और सीताराम को आरोपियों को चगुंल से छुड़ाया और ठाकुरों को वहां से भगा दिया। लेकिन बाद में उसी रात हमारे घर पर दोबारा हमला किया गया। हमने दोबारा पुलिस से मदद की गुहार लगाई।

इस बार पुलिस ने धारा (151 सीआरपीसी) के तहत विजय सिंह और सीताराम के खिलाफ केस दर्ज किया। हालांकि एक रात जेल में रखने के बाद पुलिस ने सीताराम को जमानत पर छोड़ दिया। मामले में राम गुलाम बाल्मीकि का आरोप है कि पुलिस ने उनके बेटे को धमकाया।

फिलहाल इस मामले में चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया गया है।

लखनऊ: आरक्षण खात्मे के विरोध में सामाजिक न्याय सम्मेलन 6 मई को, देश भर से होगा दिग्गजों का जुटान

PM मोदी के OBC मिशन को BJP नेता ने लगाया पलीता, अंबेडकर और मोदी को बता दिया ‘ब्राह्मण’

विधानसभा अध्यक्ष त्रिवेदी का ज्ञान: राम क्षत्रिय, कृष्ण OBC थे उन्हे भगवान ब्राह्मणों ने बनाया

AIIMS ने लालू यादव को जबरन किया डिस्चार्ज, नाराज लालू बोले ये मोदी की राजनीति का घटिया स्तर

ये कैसा रामराज्य ! सिपाही भर्ती में भी भेदभाव, अभ्यर्थियों के सीने पर प्रशासन ने लिख दी उनकी जाति

 

Related posts

Share
Share