You are here

त्रिपुरा में BJP की ​जीत के बाद जगह-जगह हिंसा, भाजपाईयों ने बुलडोजर से ढहा दी लेनिन की मूर्ति

अगरतला/नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव में मिली जीत के 48 घंटे के भीतर ही अतिवादी मानसिकता से ओतप्रोत दक्षिणपंथियों ने अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है। पूरे राज्य की हिंसक झड़पों में सैकड़ों लोगों के घायल होने और घर जला दिए जाने की खबर है।

इसके अलावा दोयम दर्जे की राजनीतिक मानसिकता का परिचय देते हुए वामपंथ के अगुवा माने जाने वाले रूसी कम्युनिस्ट क्रांतिकारी व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति ढहाने की घटना भी सामने आई है।

फिलहाल जिस जेसीबी से लेनिन की प्रतिमा गिराई गई उसके चालक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। माकपा ने इस घटना के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं को ज़िम्मेदार ठहराया है।

शराब पिलाकर चालक से गिरवाई प्रतिमा- 

त्रिपुरा माकपा ज़िला सचिव तापस दत्ता ने कहा कि त्रिपुरा में माकपा की हार और भाजपा की जीत के बाद अगरतला से करीब 110 किलोमीटर दूर बेलोनिया में कॉलेज स्क्वायर में कथित तौर पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने पांच फुट लंबी प्रतिमा को गिरा दिया।

त्रिपुरा के एसपी कमल चक्रवर्ती (पुलिस कंट्रोल) ने जानकारी दी कि बीजेपी समर्थकों ने बुलडोज़र ड्राइवर को शराब पिलाकर इस घटना को अंजाम दिया.

कुछ महीना पहले पार्टी पोलित ब्यूरो सदस्य प्रकाश करात ने इस प्रतिमा का अनावरण किया था। दक्षिण त्रिपुरा जिले के पुलिस अधीक्षक मोनचक इप्पर ने बताया कि जेसीबी मशीन के चालक को गिरफ़्तार किया गया. बाद में जमानत पर उसे रिहा कर दिया गया।

ज़िला मजिस्ट्रेट मिलिंद रामटेके ने बताया कि चुनाव बाद हिंसा के कारण श्रीनगर, लेफुंगाख, मंडई, आमतली, राधापुर, अरूंधति नगर, जिरनिया, मोहनपुर सहित दक्षिण त्रिपुरा ज़िले के कई इलाकों में निषेघाज्ञा लागू कर दी गई है.

हाल में संपन्न विधानसभा चुनावों में भाजपा ने त्रिपुरा में वाम दुर्ग ढहा दिया है और अपने गठबंधन सहयोगी इंडीजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ इंडिया (आईपीएफटी) के साथ मिल कर दो तिहाई बहुमत हासिल किया है।

आतंक को बढ़ावा देने का आरोप- 

माकपा ने भाजपा और आईपीएफटी पर तीन मार्च को चुनाव परिणामों की घोषणा के बाद पूरे राज्य में एक ‘अभूतपूर्व आतंक’ को बढ़ावा देने का मंगलवार को आरोप लगाया है।

वहीं, माकपा नेता तापस दत्ता ने कहा, प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने मूर्ति गिराने के बाद उसे तोड़ना शुरू किया. वे लेनिन की प्रतिमा के सिर से फुटबॉल की तरह खेल रहे थे।

सोमवार को भी दो जगहों से हिंसा की खबर है जिसमें 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. कई थाना क्षेत्रों में धारा 144 भी लगाई गई है.

पांच मार्च को त्रिपुरा में हिंसा की घटनाओं में 514 लोग घायल हुए हैं, 1539 घरों पर हमले किए गए, 196 घरों में आग लगाई गई, माकपा के 134 पार्टी कार्यालयों को निशाना बनाया गया है और 208 पार्टी कार्यालयों पर क़ब्ज़ा किया गया।

उपेक्षा से नाराज कुर्मी महासभा का BJP को करारा जवाब, सपा प्रत्याशी नागेन्द्र सिंह पटेल को समर्थन का ऐलान

8 साल की बच्ची के रेप के आरोपियों को BJP मंत्रियों का साथ, बोले पुलिस ने गिरफ्तार किया तो आंदोलन करेंगे

पिछड़े वर्ग का तीसरा बौद्धिक सम्मेलन 18 मार्च को लखनऊ में, देश भर से जुटेंगे सामाजिक चिंतक

जिंदगी बचाने के लिए छतरपुर की कांस्टेबल रीना पटेल को मिलेगा राष्ट्रपति सम्मान उत्तम जीवन रक्षा पदक

OBC के बाद, SC-ST छात्रों को आर्थिक मदद बंद, मोदी सरकार दलित-पिछड़ों को उच्च शिक्षा से रोकना चाहती है

 

 

Related posts

Share
Share