You are here

सुन लो मोदी जी ! मां के हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए 2 साल से हर घंटे आपको ट्विट करता है ये फौजी

नई दिल्ली। नीरज भाई पटेल (नेशनल जनमत ब्यूरो) 

 सर मैं एक सैनिक हूं. मुझे जन्म देकर भारत मां की रक्षा में सौंपने वाली मेरी मां की बड़ी बेरहमी, क्रूर और अमानवीय तरीके से हत्या कर दी गई. मेरी माँ को अपनी मां समझकर मेरी हेल्प कीजिए. मेरी माँ की दर्दनाक हत्या 5 साल पहले कर दी गई थी. तब से मैं न्याय के लिए दर-दर भटक रहा हूं. प्रधानमंत्री जी आप तो फौजियों की बात करते हैं आप तो मेरी पीड़ा सुन लो.

ये शब्द हैं महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले के निवासी सैनिक बनसोडे लक्ष्मण के जो  पिछले दो साल से हर घंटे अपनी मां के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पीएमओ को ट्विट करते हैं. ये वास्तविक चेहरा है खुद को राष्ट्रवादी और देशभक्त बताने वाली सरकार का.

देश की हर बड़ी चौखट का दरवाजा खटखटा चुके हैं- 

नांदेड़ जिले के निवासी बनसोड़े लक्ष्मण अभी हाल में ही पूर्व सैनिक हुए हैं. सेना में रहते हुए बनसोडे को जब भी मौका मिलता वो पीएम मोदी से अपनी मां से इंसाफ के लिए गुहार लगाने से नहीं चूकते. पिछले पांच सालों से सीएम से लेकर रक्षामंत्री और पीएम से लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय तक सबसे गुहार लगा चुके बनसोडे लक्ष्मण कहते हैं कि सरकार सिर्फ सैनिकों के नाम पर वोट लेना जानती है. सैनिकों के परिवार और सैनिकों की किसी को कोई चिंता नहीं.

सीएम देवेन्द्र फड़नवीस ने सीआईडी जांच की बात कहकर पल्ला झाड़ा-

महाराष्ट्र के सीएम देवेन्द्र फड़नवीस ने लगातार ट्विटर पर आ रही प्रतिक्रियाओं को देखते हुए ट्विट कर जवाब दिया कि सीआईडी जांच चल रही है. आरोपियों को कड़ी सजा दी जाएगी. इस बारे में बनसोड़े का कहना है कि आरोपी स्थानीय स्तर पर मजबूत लोग हैं, इसलिए सीआईडी जांच से कुछ नहीं होने वाला. मेरी मां के हत्यारों को सजा दो चाहे सीबीआई जांच करा लो.

मार्च 2012 में हुई थी बेरहमी से हत्या तब से न्याय के लिए भटक रहे हैं- 

सैनिक बनसोडे लक्ष्मण ने  नेशनल जनमत से फोन पर हुई बातचीत में अपना दर्द बयां किया. बोले साहब पहले मैं आर्मी पर्सन था दिन-रात देश के लिए धूप से लेकर आंधी-तूफान बारिश और बर्फ में ड्यूटी किया, उस समय गुहार लगाता रहा लेकिन मेरी फरियाद किसी ने नहीं सुनी. अब मैं पूर्व सैनिक हो गया हूं अब मेरी कौन सुनने वाला है.

बनसोडे ने बताया कि मार्च 2012 में उनकी मां की हत्या बहुत ही बेरहमी से पत्थर पर पटक-पटक कर गांव में ही कर दी गई थी. इतने से भी जब जालिमों का मन नहीं भरा तो उनको गर्म हथियार से पूरे शरीर में दागा गया. बनसोडे इतना बताते हुए फोन पर ही भावुक हो गए. बोले सरकार सिर्फ सैनिकों की भावनाओं को बेचती है. सैनिकों और उनके परिवार की फिक्र किसी को नहीं है. 

मां को न्याय दिलाने के लिए बनाया है ट्विटर और फेसबुक पेज- 

बनसोडे लक्ष्मण ने बताया कि उन्होंने अपनी मां के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए ही फेजबुक और ट्विटर पेज बनाया है. कई बार तो मैंने एक घंटे में पीएम साहब को दर्जनों ट्विट किए लेकिन मेरी सुनने वाला कोई नहींं. उन्होंने बताया कि वो दो साल से लगातार पीएम, रक्षा मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय को ट्विट कर रहे हैं लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है. बनसोडे ने बताया कि नांदेड़ जिले के नवघरवाडी में उनका घर है. इसी गांव के गजपत कारामुंगे व रंगराव गणपत कारामुंगे ने मेरी मां की हत्या की है.

मां ने जमीन बेचने से मना कर दिया था- 

बनसोडे ने बताया कि मां ने इन लोगों को अपनी जमीन बेचने से मना कर दिया था. इसके लिए ये लोग आए दिन मां के साथ गालीगलौच करते थे. फिर अंगूठा लगवाने का दवाब बनाने लगे. मां नहीं बनी तो उसे बुरी तरह जलाकर मार दिया गया.

@rohidas40 पर आप भी इस सैनिक की इंसाफ के लिए मदद कर सकते हैं.

Related posts

Share
Share