You are here

आधार से बैंक खाता जोड़ा है तो सावधान, पढ़िए अवधेश यादव के साथ कैसे हुआ 45000 का फ्रॉड

इलाहाबाद। नेशनल जनमत ब्यूरो

अगर आप आधार कार्ड से अपना खाता लिंक कर रहे हैं तो सावधान हो जाइए. क्योंकि ऐसा होने पर सिर्फ आधार कार्ड का नम्बर जानने पर भी बैंक से आपका पैसा गायब हो सकता है. इलाहाबाद के ब्यॉज इंटर कॉलेज छिवकी में अध्यापक अवधेश कुमार यादव के साथ ऐसा ही हुआ है.  उनके स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के खाते से 45 हजार रुपये गायब कर लिए गए हैं.

जैसे ही अपना आधार नम्बर बताया, 45 हजार रुपया गायब- 

10 जून की शाम करीब 6 बजे अवधेश के मोबाइल नंम्बर 9450080069 पर 9934897231 नम्बर से फोन आया. फोन करने वाले व्यक्ति ने अवधेश को बैंक का कर्मचारी बताते हुए कहा कि आपका खाता बंद कर दिया गया है. आप अपना आधार कार्ड नंबर बताइए. अवधेश यादव जालसाजी को भांप नहीं पाए और अपना खाता नम्बर बता दिया.

इसे भी पढ़ें- चर्चित हो गई यादव जी की सामाजिक न्याय वाली शादी, बारातियों में बंटी गुलामगिरी और संविधान

थोड़ी देर में ही अवधेश के मोबाइल पर 20 हजार रुपए कटने का मैसेज आया. इस मैसेज के एक मिनट बाद 20 हजार रुपए कटने का एक और मैसेज आया. फिर एक मिनट के बाद 5 हजार रुपए कटे. कुल मिलाकर अवधेश के 45 हजार रुपये अकाउं से गायब हो गए. जब इसकी शिकायत अवधेश ने बैंक से की तो बैंक ने हाथ खड़े कर लिए. इसके बाद अवधेश ने पुलिस में एफआईआर कराई.

क्या किसी का आधार नम्बर जुगाड़ना इतना मुश्किल है-

जो घटना अवधेश यादव के साथ घटी उससे एक सवाल खड़ा हो गया कि क्या किसी का आधार नम्बर जुगाड़ना इतना मुश्किल है. आपने गैस सब्सिडी पाने के लिए अपना आधार नम्बर दिया होगा. आपने अपने आधार कार्ड की कहीं से फोटो कॉपी कराई होगी. आपने अपना आधार नम्बर किसी आधार कार्ड बनवाने वाले से निकलवाया होगा.

आपने मोबाइल की सिम खरीदने के लिए अपना आधार नम्बर बतौर आईडी प्रूफ के लिए दिया होगा. आपने ट्रेन में बतौर आईडी अपना आधार कार्ड किसी टीटी को दिखाया होगा. सोचिए इनमें एक भी आदमी बेईमान निकल गया और आपका आधार नम्बर नोट करके ऐसे ही किसी हैकर को थमा दिया तो आपकी मेहनत की कमाई तो गई.

इसे भी पढ़ें- कृषि मंत्रालय की वैज्ञानिक परीक्षा में बड़ा खेल ओबीसी की कट ञफ जनरल से भ ज्यादा कर दी गई

सिस्टम की मजबूती के बिना कैशलेस कैसे-

एक तरफ पीएम लगातार अपने भाषणों से केशलैस अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ भारत में ऑनलाइन ठगी भी लगातार बढ़ती जा रही है.अगर जल्द ही भारत में ऑनलाइन ठगी के अपराध पर लगाम नहीं लगाई गई तो देश का ऑनलाइन सिस्टम से भरोसा उठ सकता है. और इस तरफ की घटनाऐं ऑनलाइन सिस्टम पर से जनता का भरोसा उठाने के लिए काफी है.

खैर इन असुरक्षित योजनाओं और नियमो की वजह से ना जाने कितने अवधेश यादवों के अकाउंट से पैसे गायब हुए हैं.

इसे भी पढ़ें- पटना नगर निगम चुनाव : ब्राह्मण-भूमिहारो का सफाया, यादव-कुर्मी कोयरी समेत ओबीसी का जलवा

Related posts

Share
Share