You are here

यूपी में भगवा गमछा बन रहा है सत्ता के दुरुपयोग का प्रतीक, विपक्ष ने उठाए सवाल

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो

केन्द्र सरकार ने लालबत्ती खत्म करके वीवीआईपी कल्चर खत्म करने पर जोर दिया है. पीएम नरेन्द्र मोदी ने 31वीं बार लोगों से मन की बातमें कहा कि देश में वीआईपी संस्कृति के खिलाफ लोगों में नफरत है. प्रधानमंत्री की बात अपनी जगह सही है. वीआईपी कल्चर केवल लाल और नीली बत्ती में ही नहीं है. किसी भी सरकार के आते ही उसके कार्यकर्ताओं में भी वीआईपी कल्चर आ जाता है. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के आते ही उनके द्वारा पहना जाने वाला ‘ भगवा गमछा’ वीवीआईपी कल्चर बन गया है.

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने उठाए सवाल- 

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर योगी सरकार पर कई बार निशाना साध चुके हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में भगवा गमछे की पहुंच बढ़ गई है, जिसे पहनने भर से पुलिस वालों को पीटने और थानों में तोड़फोड़ करने का लाइसेंस मिल जाता है. उनका बयान दक्षिणपंथी संगठनों के कार्यकर्ताओं द्वारा कन्नौज, आगरा और सहारनपुर में पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट करने और कानून अपने हाथ में लेने की घटनाओं की तरफ इशारा करते हुए था.

थानों से लेकर लग्जरी गाड़ियों तक भगवा ही भगवा- 

दो पहिया वाहनों से लेकर लग्जरी गाड़ियों तक और थानों में जाते हुए कार्यकर्ता भगवा गमछा जरूर पहन रहे हैं. बाइक की सवारी करने वाला धूप से बचने के लिये हेलमेट की जगह लाल गमछे का प्रयोग कर रहा है. इतना ही नहीं जब पुलिस कर्मियों पर रौब गांठना हो तो भगवा गमछा डालकर थाने पहुंच रहे हैं और अपने को किसी हिन्दू वादी संगठन से जुड़ा बता रहे हैं. पुलिस वाले भी हैरत में हैं नेताजी को अभी तक तो कभी देखा नहीं था आजकल बहुत मिलने आ रहे हैं.

सीएम योगी जता चुके हैं नाराजगी- 

हिंदू युवा वाहिनी के नाम पर गुंडागर्दी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गंभीरता से लिया है. गले में भगवा गमछा डालकर लोगों खुद को हिंदू युवा वाहिनी का कार्यकर्ता बता कर लोगों को परेशान करने वालों पर अब कार्रवाई होगी. मुख्यमंत्री योगी ने संगठन के अध्यक्ष से इसका दुरुपयोग करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के करने का भी निर्देश दिया है.

 

Related posts

Share
Share