You are here

यूपी बोर्ड- नियमों को खूंटी पर टांग टॉप कर गई मिश्रा जी की बेटी, अब FIR की तैयारी

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो 

यूपी बोर्ड की 10 वीं की परीक्षा में भारी अनियमितता सामने आई है. किसी अधिकारी को कानों कान खबर नहींं हुई और प्रधानाचार्य राम मिश्रा ने अपनी बेटी को जिले का टॉपर भी बनवा लिया. फिलहाल जिला विद्यालय निरीक्षक जांच कर मुकदमा दर्ज करने की तैयारी कर रहे हैं.

जिला टॉप करना आया सवालों के घेरे में-

कानपुर देहात जिले की टॉपर शिवानी देवी का उसी केंद्र में परीक्षा देने का मामला सामने आया है, जिसमें उसके पिता राम मिश्रा केंद्र व्यवस्थापक थे. नियमानुसार यदि किसी शिक्षक और प्रधानाचार्य का कोई सगा संबधी परीक्षा दे रहा है तो उसे परीक्षा केंद्र में परीक्षा के दौरान कोई जिम्मेदारी नहीं दी जा सकती. इतना ही नहीं केंद्र व्यवस्थापक को इसका शपथ पत्र भी देना पड़ता है कि उसका कोई सगा संबंधी केंद्र पर परीक्षा में शामिल नहीं होगा. डीआईओएस ने मामले की जांच कराने के बाद केंद्र व्यवस्थापक पर मुकदमा दर्ज कराने की बात कही है.

इसे भी पढ़ें- योगीराज बीजेपी के मंत्री ठाकुर मोती सिंह से अपना दल की ब्लॉक प्रमुख कंचन पटेल को जान का खतरा

डीआईओएस को नहीं थी सूचना-

मामला श्रीराम लक्ष्मण जानकी इंटर कालेज पतरा संडवा (थाना गजनेर, ब्लाक सरवनखेड़ा) का है. छात्रा शिवानी देवी ने 92.67 प्रतिशत अंक पाकर जिले में टॉप किया है. शिवानी के पिता राम मिश्रा इसी कालेज में प्रधानाचार्य हैं. वह परीक्षा के दौरान केंद्र व्यवस्थापक भी थे. माध्यमिक शिक्षा परिषद के नियमों की बात की जाए तो परीक्षा केंद्र पर केंद्र व्यवस्थापक व शिक्षक का कोई सगा संबंधी परीक्षा दे रहा है तो वह इसकी सूचना डीआईओएस कार्यालय को देगा. अगर ऐसा है तो उसे वहां से कार्यमुक्त करने का प्रावधान है. परीक्षा से पहले केंद्र व्यवस्थापकों व कक्ष निरीक्षकों से इस बाबत शपथ पत्र लिया जाता है. अब सवाल यह है कि यहां के केंद्र व्यवस्थापक ने तथ्य छिपा कर बेटी को केंद्र में परीक्षा दिलवा दी और अधिकारियों को इसकी भनक नहीं लगी.

इसे भी पढ़ें- यूपीएससी विकलागों को भी नहीं छोड़ा लिखित में आगे हैं ओबीसी लेकिन इंटरव्यू में कम कर दिए मार्क्स

हर जगह छुपाया गया तथ्य-

बोर्ड परीक्षा के दौरान प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर रजिस्टर बनाया जाता है. जिसमें विद्यालय के शिक्षक, प्रधानाचार्य व बाहरी विद्यालयों से आए कक्ष निरीक्षकों के सगे संबंधियों के न होने का उल्लेख दर्ज किया जाता है. इसके साथ ही परीक्षा में शामिल होने वाले सभी कक्ष निरीक्षक उसमें हस्ताक्षर कर यह पुष्टि करते हैं कि उनका कोई सगा संबंधी इस केंद्र पर परीक्षा नहीं दे रहा है. बोर्ड परीक्षा का निरीक्षण करने वाले सचल दल उस रजिस्टर की भी जांच करते है. इसके साथ ही डेली डायरी में केंद्र की खामियां दर्ज करते हैं. लेकिन श्रीराम लक्ष्मण जानकी इंटर कालेज पतरा संडवा में पूरी परीक्षा के दौरान किसी अधिकारी ने पाल्य रजिस्टर की जांच नहीं की.

इसे भी पढ़ें- जानिए क्या यादव वाकई जातिवादी लोग हैं और सिर्फ यादवों को ही अपना नेता मानते हैं.

अब कर रहे हैं कार्रवाई की बात-

पतरा संडवा कालेज में राम मिश्रा केंद्र व्यवस्थापक रहे हैं। उनकी बेटी ने वहीं परीक्षा देकर जिले में टाप किया है। यह मामला संज्ञान में आया है। यह गंभीर अनियमितता है। मामले की जांच कराने के बाद केंद्र व्यवस्थापक पर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा- प्रेमप्रकाश मौर्य, डीआईओएस

Related posts

Share
Share