You are here

पंडित केशव उपाध्याय के दुष्कर्म से बकरी की मौत, लोगों ने जमकर पीटा, पुलिस ने भेजा जेल

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो। 

उत्तर प्रदेश में जबसे सीएम योगी की अगुआई में भाजपा की सरकार बनी हैं तबसे हत्या, बलात्कार, लूट, गुंडागर्दी, छिनैती, मारपीट की घटनाओं की बाढ़ आ गई है। सरकार ने रोमियो दस्ते का गठन को लड़कियों की सुरक्षा के लिए किया था लेकिन जानवरों की सुरक्षा के लिए अब कौन सा दल गठन होगा। हाल तो ये है कि अब लड़कियां-महिलाएं ही नहीं, बकरी तक सुरक्षित नहीं हैं।

मऊ के सरायलखंसी थाना के बेलचौरा गांव में दुष्कर्मी पंडित केशव उपाध्याय पंडिताई का काम करता था। नशे में धुत पंडित ऐसा कामांध हो गया कि वो अपनी हवस बकरी के साथ ही मिटाने लगा। इसकी क्रूरता के कारण बकरी की मौके पर ही मौत हो गई।

इसे भी पढ़ें…गौभक्ति का दिखावा करने वाली भाजपा शासित राज्य हरियाणा में 30 गाऐं चारे-पानी के अभाव में मरीं

नशे में धुत्ता था उपाध्याय-  

पंडित केशव उपाध्याय ने बुधवार की शाम नशे में धुत होकर बकरी के साथ दुष्कर्म कर डाला। जब वह बकरी से दुष्कर्म कर रहा था तो बकरी के मालिक की पत्नी ने पंडितजी के कृत्य को देख लिया। आस-पास के लोगों ने भी पंडितजी को बकरी के साथ हैवानियत करते देखा, जिसके बाद लोगों ने पंडितजी की जमकर धुनाई कर डाली। लोगों ने आरोपी पंडितजी को पीटने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने बकरी के मालिक की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर आरोपी को जेल भेज दिया।

पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार आरोपी केशव उपाध्याय (45) पुत्र सहदेव गाजीपुर जिले के जंगीपुर थाने के पहेतियां गांव का निवासी है। पुलिस ने बताया कि बुधवार की शाम को आरोपी नशे में धुत होकर टहलते हुए बेलचौरा गांव की तरफ गया।

इसे भी पढ़ें- सीबीआई छापों के बाद लालू की मोदी-शाह को चेतावनी, फांसी पर चढ़ जाऊंगा पर दोनों का अहंकार जरूर तोड़ूंगा

वहां पर इसी गांव के रहने वाले पल्टू चौहान के पुत्र दुर्योधन चौहान की बकरियां खेत में चर रही थीं। जिसके बाद आरोपी ने एक बकरी को पकड़कर उसके साथ कुकर्म करना चालू कर दिया। तभी दुर्योधन चौहान की पत्नी लौजारी वहां पहुंच गईं। उन्होंने केशव को बकरी के साथ दुष्कर्म करते देखा और शर्म के मारे बिना कुछ बोले वहां से घर भाग आईं।

घर आकर लौजारी ने अपने पति दुर्योधन को पूरी घटना बताई। जिसके बाद दुर्योधन चौहान मौके पर पहुंचा। लेकिन तबतक उसके बकरी की मौत हो चुकी थी। इस दौरान दुर्योधन ने आरोपी को पकड़ लिया और गांव के लोगों के साथ मिलकर पंडितजी की धुनाई कर दी। धुनाई के बाद दुर्योधन चौहान मृत बकरी और आरोपी पंडितजी को लेकर थाने पहुंचे।

थानाध्यक्ष ने दुर्योधन की तहरीर पर थाने में रिपोर्ट दर्ज किया और आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही बकरी के मौत का कारण पता चल सकेगा। पुलिस ने बताया कि मामले की रिपोर्ट आप्राकृतिक दुष्कर्म और 429 के तहत दर्ज किया गया है।

इसे भी पढ़ें…रायबरेली में मारे गए हमलावरों को अपराधी कहते ही ब्राह्मण संगठन बने स्वामी प्रसाद मौर्या के दुश्मन

गौरक्षा की बात करता था केशव उपाध्याय- 

गांव वालों के अनुसार, केशव उपाध्याय शराबी प्रकृति का है, लेकिन आमतौर वह गौरक्षा और पशु रक्षा के कार्यक्रमों में शामिल होता रहता था। स्थानीय लोगों का कहना है कि केशव गांव और आस-पास के इलाकों में गौरक्षक दल बनाने के लिए भी युवाओं से कहा करता था। खुद भले ही केशव शराबी और दुष्कर्मी था लेकिन दिखावे के लिए वह पूजा-पाठ भी काफी करता था और पुजारी के नाम से पुकारा जाता था।

 

Related posts

Share
Share