You are here

चुनाव खत्म होते ही योगी सरकार ने दिया जोर का झटका, 12 फीसदी बढ़े बिजली के दाम, किसान की आफत

लखनऊ/नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

इसे कहते हैं चुनावी चाल। उत्तर प्रदेश में नगर निकाय चुनाव को ध्यान में रखते हुए योगी सरकार ने बिजली के बिलों की बढ़ोत्तरी को अभी तक लटका के रखा था। जैसी ही चुनाव सभी जगह समाप्त हुए बिजली के दाम बढ़ाने की घोषणा कर दी।

योगी सरकार ने किसानों को जोर का झटका देते हुए गांव की बिजली दरें लंबे समय से न बढ़ने का हवाला देते हुए सर्वाधिक बढ़ोतरी ग्रामीण उपभोक्ताओं की बिजली की दरों में की है।

उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव खत्म होते ही राज्य विद्युत नियामक आयोग ने बिजली दरों में बढ़ोतरी का ऐलान किया है। नई कीमतों के मुताबिक पहली 100 यूनिट के लिए तीन रुपये और इसके बाद 4़.50 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से बिल आएगा।

1 करोड़ 20 लाख उपभोक्ता प्रभावित- 

इस तरह कुल 12 फीसदी तक की बढ़ोतरी की गई है। विद्युत नियामक आयोग के चेयरमैन एस. के. अग्रवाल ने गुरुवार को बिजली दरों में करीब 12 फीसदी की बढ़ोतरी की जानकारी दी।

शहरी उपभोक्ताओं को अब 150 यूनिट तक 4.90 रुपये की दर से और 150 से 300 यूनिट तक 5.40 रुपये की दर से बिजली मिलेगी। अग्रवाल ने कहा, “बिजली दरों में 20 फीसदी बढ़ोतरी का प्रस्ताव था, लेकिन हम 12 फीसदी ही बढ़ोतरी को मंजूरी दे रहे हैं।

वर्तमान में एक करोड़ 20 लाख बिजली उपभोक्ता हैं, 2018-19 में यह संख्या बढ़कर 4 करोड़ होने जा रही है। गरीबों को बिजली का मुफ्त कनेक्शन दिया जाएगा, जिससे करीब 2 करोड़ उपभोक्ता बढ़ेंगे।”

कितने बढ़े दाम- 

उत्तर प्रदेश विद्युत नियामक आयोग ने वर्ष 2017-18 के लिए ग्रामीण अनमीटर्ड कनेक्शन का मासिक बिल 180 से बढ़ाकर 31 मार्च 2018 तक 300 रुपये और उसके बाद 400 रुपये कर दिया है। आयोग ने ग्रामीण घरेलू बिजली दरों में 6.3 फीसद, शहरी घरेलू में 8.49 फीसद, कमर्शियल में 9.89 और कार्यालयों की बिजली दरों में 13.46 फीसद की वृद्धि की है।

आयोग ने ओल्ड एज होम व अनाथालय या विशेष बच्चों के संस्थानों के दरों में राहत दी है और तीन साल के लिए लाइन लॉस का प्रतिशत भी निर्धारित कर दिया है।

लघु, मध्यम व भारी उद्योगों व लाइफ लाइन उपभोक्ताओं को छोड़कर अन्य सभी श्रेणियों के बिजली उपभोक्ताओं की बिजली महंगी होगी। गांव की बिजली दरें लंबे समय से न बढ़ने का हवाला देते हुए सर्वाधिक बढ़ोतरी ग्रामीण उपभोक्ताओं की बिजली की दरों में की गई है।

अब तक जहां ग्रामीणों को 180 रुपये प्रति किलोवाट प्रतिमाह देना होता है, वहीं अगले सप्ताह से 300 रुपये देने होंगे। पहली अप्रैल से यह 400 रुपये हो जाएगा। प्रति यूनिट दर 2़.20 रुपये से बढ़कर 100 यूनिट तक तीन रुपये और उससे अधिक अधिकतम 5़.50 रुपये होगी।

निजी नलकूप का फिक्स चार्ज 100 से बढ़कर 150 रुपये किया जा रहा है। इसी तरह शहरी घरेलू उपभोक्ताओं के लिए फिक्स चार्ज 90 से 100 रुपये तथा खपत के अनुसार प्रति यूनिट दर 4.90 से 6.50 रुपये हो जाएगी।

वाणिज्यिक उपभोक्ताओं का फिक्स चार्ज 600 से 1000 तथा मिनिमम चार्ज 375 से 500 रुपये बढ़कर 425 से 575 रुपये होगा। प्रति यूनिट अधिकतम दर 8.30 रुपये होगी।

पूरे देश में अंधश्रद्धा विरोधी कानून की जरूरत है, ताकि आस्था की दुहाई देकर गरीबों को छला ना जा सके

कुपोषण, बिजली आपूर्ति के मुद्दे पर BJP विधायकों ने सुषमा स्वराज और अपनी सरकार को सदन में घेरा

JDU सांसद का राज्यसभा से इस्तीफा, बोले ‘संघी’ हो चुके नीतीश कुमार के साथ नहीं रह सकता

जनलोकपाल: अन्ना हजारे ने लिखे PM को कई खत, जवाब ना मिलने से नाराज, 23 मार्च से करेंगे आंदोलन

गुजरात: बदलते मूड के संकेत, PM मोदी के अपने ही गृह राज्य की रैली में खाली पड़ी रहीं कुर्सियां

 

Related posts

Share
Share