You are here

UP में असुरक्षित बेटियां: अब UGC ने भी माना छेड़छाड़ की घटनाओं में UP के विश्वविद्यालय अव्वल

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में हुई छेड़छाड़ की घटना के बाद विश्वविद्यालयों में यौन उत्पीड़न की घटनाओं पर अचानक से विमर्श शुरू हो गया है। यूजीसी के आंकड़ों की माने तो हर चार विश्वविद्यालयों में से एक विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश का होता है जहां यौन उत्पीड़न की घटना को अंजाम दिया जाता है।

पिछले हफ्ते बीएचयू में छेड़छाड़ से आहत एक छात्रा ने शिकायत दर्ज कराने का प्रयास किया लेकिन उसकी शिकायत दर्ज नहीं की गई। जिसके बाद सैकड़ों छात्राओं ने बीते शनिवार को विश्वविद्यालय परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। विरोध कर रहे छात्र छात्राओं पर बीएचयू में तैनात पुलिसकर्मियों ने लाठीचार्ज कर दिया, जिसमें कई छात्र घायल हो गये।

बीएचयू की जांच वाराणसी कमिश्नर को सौंपी गई अपनी जांच रिपोर्ट में कमिश्नर ने हिंसा के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन को दोषी ठहराया।

वहीं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग(यूजीसी) ने विश्वविद्यालयों में हो रहे यौन उत्पीड़न की घटनाओं पर गौर किया है। यूजीसी ने 1 अप्रैल 2016 से लेकर 31 मार्च 2017 तक के यौन उत्पीड़न के आंकड़े एकत्र किए। UGC के मुताबिक देश में सबसे ज्यादा यौन उत्पीड़न की घटनाएं उत्तर प्रदेेश के विश्वविद्यालयों में होती हैं।

इन आंकड़ों के आधार पर यूजीसी ने पाया कि देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में इस दौरान 103 छात्राओं के साथ यौन उत्पीड़न की घटनाएं हुईं। जिनमें छात्राओं के साथ यौन उत्पीड़न के 24 मामले अकेले उत्तर प्रदेश के विश्वविद्यालयों में हुए। इनमें बीएचयू का कोई मामला शामिल नहीं है।

यूपी के जिन विश्वविद्यालयों में छात्राओं के साथ यौन उत्पीड़न के मामले आए उनमें अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अंबेडकर विश्वविद्यायल और शारदा विश्वविद्यालय सहित कई अन्य यूनिवर्सिटी शामिल हैं।

इस दौरान पूरे पंजाब में छात्राओं के साथ यौन उत्पीड़न के 16 मामले हुए जिनमें 12 मामले अकेले पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ के हैं। वहीं हरियाणा में 8 जबकि केरल के यूनिवर्सिटी ऑफ कालीकट में छात्राओं के साथ 15 मामले यौन उत्पीड़न के दर्ज किए गए।
राष्ट्रीय अपराध रेकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार, यूपी के विश्वविद्यालयों में 33 फीसदी यौन उत्पीड़न के मामले बढ़े हैं। उत्तर प्रदेश में साल 2014 में 4,435 यौन उत्पीड़न की घटनाएं हुईं, वहीं 2015 में इनकी संख्या बढ़कर 5,925 हो गई।

यूजीसी के एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक, लड़कियों को परेशान करना,उनका पीछा करना,अश्लील संदेश भेजना जैसी घटनाओं में छात्रों के अलावा अध्यापक भी शामिल रहे हैं।

हिन्दु- मुस्लिम भाईयों, आपका मजहबी पिछड़ापन ही, आपका सबसे बड़ा दुश्मन है, पढ़िए कैसे ?

बेतुका बयान देने वाले चीफ प्रॉक्टर ओएन सिंह हटाए गए, VC बोले छुट्टी जाने से अच्छा है इस्तीफा दे दूं

बुंदेलखंड: बाबा साहेब की प्रतिमा पर डाली ‘जूतों की माला’, प्रदर्शनकारियों पर पुलिस का लाठीचार्ज

पाटीदारों और गुजरात की देन हैं सरदार पटेल’ जिन्होंने देश को संगठित कर आगे बढ़ाया- राहुल गांधी

अच्छे दिनः यूपी में प्राइमरी अध्यापक बनने की राह और भी कठिन, TET के बाद भी लिखित परीक्षा अनिवार्य

कमिश्वर की जांच में खुलासा, VC त्रिपाठी के गलत रवैये से भड़का छात्राओं का गुस्सा, दिल्ली तलब

देश की ही नहीं, विदेशी मीडिया को भी पता है कि अर्णब गोस्वामी का रिपब्लिक TV BJP का मुखपत्र है

पढ़िए ‘मोदी-शाह’ के काल में आपके भाजपाई होने के मायने …

Related posts

Share
Share