You are here

यूपी में बढ़ रहा है सपा से जुड़े नेताओं की हत्या का ग्राफ, अब गोरखपुर में अजय यादव की हत्या

नई दिल्ली/ गोरखपुर। नेशनल जनमत ब्यूरो।

यूपी में सीएम योगी की अगुआई में भाजपा की सरकार बनते ही यादव जाति के खिलाफ हिंसा का दौर शुरू हो गया है। प्रदेश के कई जिलों में यादव जाति के लोगों के खिलाफ पुलिस उत्पीड़न शुरू हो गया है। आपको बता दें कि योगी सरकार बने एक महीना भी नहीं बीता था कि आगरा में सिपाही अजय यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

ताजा मामला सीएम योगी के गृह जनपद गोरखपुर का है। यहां के एक बड़े सपा नेता लाल बहादुर यादव के बेटे अजय यादव की हत्या कर उसकी लाश रेलवे ट्रैक पर फेंक दी। जानकारी के मुताबिक, सपा नेता लाल बहादुर यादव विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके हैं। उनकी वर्ष 2014 में हत्या कर दी गई थी। संदिग्ध बदमाशों ने उनके 24 साल के बेटे अजय यादव की भी हत्या कर उनकी लाश रेलवे ट्रैक पर फेंक दी।

इसे भी पढ़ें…बीजेपी विधायक कमलेश शुक्ला के साथ मकान कब्जे करने पहुंचे थे महुआ चैनल के मालिक, थाने पहुंचे गए

गांव वालों के मुताबिक, पुलिस को कुछ भी पता नहीं था। स्थानीय लोगों ने फोन कर 100 नंबर पर सूचना दी। इसके बाद पुलिस पहुंची है। इस हत्याकांड को चुनावी या जमीनी रंजिश से जोड़कर देखा जा रहा है।

इस घटना के कुछ दिन बाद ही प्रतापगढ़ में सिपाही राजकुमार यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इसके अलावा प्रतापगढ़ में भी यादव जाति के लोगों की हत्या की खबरें भी आ चुकी हैं। दो दिन पहले चित्रकूट में भी तीन यादवों को गोली मारकर पेड़ से बांधकर जिंदा जलाने की घटना घटी है। इसके अलावा अभी एक पखवाड़े पहले ही फैजावाद जिले में खनन से जुड़े मामले में दो यादव भाईयों को गोली मारी गई थी जिसमें से एक भाई की मौत हो गई थी।

इसके अलावा रायबरेली में यादव ग्राम प्रधान की हत्या करने के इरादे से आए ब्राह्मण जाति के लोगों के बिजली के खम्भे से टकराकर जलकर मरने के मामले में यादव ग्राम प्रधान समेत कई लोगों को पुलिस प्रशासन ने जेल भेज दिया है। योगीराज में यादव जाति के अधिकारियों को पहले ही महत्वपूर्ण जगह की तैनाती से हटाकर कार्यालय में अटैच कर दिया या पुलिस अधिकारियों को पुलिस लाइन से अटैच कर दिया।

इसके अलावा कई जिलों में राजनीतिक बदले की भावना से भी समाजवादी पार्टी के नेताओं की हत्या का मामला सामने आ रहा है।

इसे भी पढ़ें…मोदी को हो गई छपास की बीमारी, इसलिए झूठ की उल्टियां करते घूम रहे हैं – तेजस्वी यादव

 

Related posts

Share
Share