You are here

मोदी-योगी के उत्पीड़न का जवाब कुर्मियों को रामस्वरूप वर्मा के संघर्षों से देना होगा-हार्दिक पटेल

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

दो दिवसीय कार्यक्रम के तहत लखनऊ पहुंचे हार्दिक पटेल ने गोमती नगर में पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि  केन्द्र की नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार और प्रदेश की योगी आदित्यनााथ की सरकार दोनों का मकसद कुर्मी-किसान-पाटीदार-मराठा-पटेल का उत्पीड़न है।

किसान का मतलब कुर्मी-गुर्जर-मराठा-पाटीदार-पटेल-जाट-यादव। सरकार इन्हीं सब लोगों के विरोध में काम कर रही है. क्योंकि सरकार को पता है कि बहुसंख्यक आबादी वाला किसान अगर सक्षम होकर राजनीति में आ गया तो उसकी छलावापूर्ण राजनीति ज्यादा दिन टिकने वाली नहीं है. प्रदेश के कुर्मियों को योगी-मोदी सरकार के उत्पीड़न का जवाब रामस्वरूप वर्मा के सिद्धांतों के साथ देना होगा।

इसे भी पढ़ें-दो जुलाई को पटेल दिवस किसान महारैली में अपना दल के मंच पर होंगे पीएम मोदी के धुर विरोधी हार्दिक पटेल

इस दौरान पटेल नवनिर्माण सेना और जनतादल यू के राष्ट्रीय महासचिव अखिलेश कटियार, अपना दल की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पल्लवी पटेल, पीएनएस के संगठन मंत्री विनोद गंगवार, संगठन सचिव जय सिंह  पटेल, जेडीयू नेता सुशील कश्यप, राजेश्वर पटेल, ई.सुनील पटेल समेत सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।

इसे भी पढ़ें- नेशनल जनमत की अपील का असर, सांसद रामदास अठावले ने की क्रिकेट में आरक्षण की मांग

पटेलों पर लादे जा रहे हैं फर्जी मुकदमे- 

हार्दिक पटेल ने कहा कि प्रदेश में कुर्मी समाज लोगों की हत्याएं हो रही हैं. इनमें से जो गरीब किसान है वो आत्महत्या कर रहा है. जो सीधा-साधा किसान है उस पर फर्जी मुकदमे लादे जा रहे हैं। हार्दिक ने कहा कि मुझे पता है यूपी के पटेल भाई लोगों ने बीजेपी को खूब झोली भर भरके वोट दिया है उसके बदले में पटेल-कुर्मी-किसान भाईयों का उत्पीड़न किया जा रहा है।

युवाओं का आगे आना होगा- 

हार्दिक पटेल ने कहा कि इस उत्पीड़न के खिलाफ कुर्मी समाज की हर लड़ाई में मैं साथ खड़ा हूं लेकिन मुझे प्रदेश के युवाओं का साथ चाहिए। जोश से भरे युवाओं को इस अपमान और छलावे का बदला लेने के लिए संघर्ष का रास्ता अपनाना होगा।

इसे भी पढ़ें- भक्त बनना आसान नहीं, जानिए उच्च योग्यता का मोदी भक्त बनने की लंबी प्रक्रिया का राजनीति शास्त्र

महामना रामस्वरूप वर्मा की सोच से निकलेगा हल- 

हार्दिक पटेल ने कहा कि महामना रामस्वरूप वर्मा की सोच से ही आगे के रास्ते निकलेंगे। चौधरी चरण सिंह के प्रदेश के किसानों को फसल सड़को पर फेंकना पड़ा आत्महत्या करनी पड़ी इससे खराब बात और क्या हो सकती है।  हार्दिक ने कहा कि कृषि उत्पाद और मिल उत्पाद में समानता लानी होगी।

शासन-प्रशासन में चाहिए हिस्सेदारी- 

हार्दिक ने कहा कि शासन-प्रशासन मे हिस्सेदारी के लिए प्रदेश के युवाओं को साथ लेकर एक आंदोलन छेड़ा जाएगा। योगी सरकार में सिर्फ कुछ जातियों के अधिकारियों को मलाईदार विभागों में बैठाया जा रहा है ये अच्छी बात नही हैं.

इसे भी पढ़ें- देश को अर्घगुलामी, के प्रजाभाव में जी ररहा है, कहां गए हक छीनकर लेने वाले नेता, जिंदा तो हैं ना

हार्दिक का एयरपोर्ट पर स्वागत करने पहुंचीं पल्लवी पटेल-अखिलेश कटियार

इससे पहले हार्दिक पटेल के लखनऊ पहुंचने पर अपना दल और पीएनएस के कार्यकर्ताओं ने हार्दिक का एयरपोर्ट पर ही स्वागत किया। अपना दल  की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पल्लवी पटेल और पीएनएस के राष्ट्रीय महासचिव अखिलेश कटियार ने अपने लोगों के साथ एयरपोर्ट पहुंचकर हार्दिक का स्वागत किया।

इसे भी पढ़ें- भीड़तंत्र : ये वही लोग हैं जो दुर्गा पूजा की भीड़ में महिलाओं के अंगों को छूने के बहाने ढूंढंते हैं

Related posts

Share
Share