You are here

उपराष्ट्रपति बनकर भी दिल से नहीं गया BJP प्रेम, बोले दुर्गा रक्षा और लक्ष्मी वित्त मंत्री थीं

चंडीगढ़/नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

उपराष्ट्रपति बनने के बाद भी बीजेपी नेता रहे वेंकैया नायडू के मन से भगवा प्रेम नहीं जा रहा है। उपराष्ट्रपति का दिया गया भाषण उसी तरह नजर आ रहा है जैसे उत्तर प्रदेश का राज्यपाल बनने के बाद भी रामनाईक के मन में बार-बार बीजेपी नेता होने का ख्याल आ ही जाता है। सोशल मीडिया पर लोग इस बात की आलोचना भी कर रहे हैं।

शुक्रवार को दिए अपने भाषण में वेंकैया नायडू ने प्राचीन भारत का जिक्र किया। उन्होंने प्राचीन भारत के देवी देवाताओं के बारे में बताया। उपराष्ट्रपति के मुताबिक, प्रचीन भारत में दुर्गा रक्षा मंत्री और लक्ष्मी वित्त मंत्री थीं।

उपराष्ट्रपति ने ये बातें मोहाली के इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस में शिखर सम्मेलन के दौरान कहीं। उपराष्ट्रपति ने महिला सशक्तीकरण की बात करते हुए देवी-देवताओं के उदाहरण दिए।

उपराष्ट्रपति ने आगे कहा, हमें अपनी देश की विरासत पर गर्व करना चाहिए। हम दूसरी भाषा में बात करते हैं क्योंकि वह हमारी मातृभाषा को नहीं जानता। उपराष्ट्रपति ने राम राज्य को आदर्श राज्य बताया और कहा कि उस समय आदर्श शासन था।

उपराष्ट्रपति ने मोदी सरकार की तरफ इशारा करते हुए कहा आज के अच्छे शासन को लोग सांप्रदायिक दृष्टिकोण से देखते हैं। हालांकि उपराष्ट्रपति ने स्वीकार किया कि वह राजनीतिक दृष्टि से हमेशा सही नहीं थे। उन्होंने आगे कहा, मुझे मेरे पास बैठे लोगों ने आगाह किया कि मुझे अपने दिल से बात नहीं करनी चाहिए, क्योंकि मैं देश का उपराष्ट्रपति हूं। यह मेरे लिए ठीक नहीं होगा।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, देश में बढ़ती असहिष्णुता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर डिबेट हुई थी। लेकिन यह पूर्ण रूप से गलत थी कि देश असहिष्णुता की तरफ बढ़ रहा है।

उपराष्ट्रपति ने आगे कहा, कुछ लोगों ने अफजल गुरू पर अपने विचार रखे। एक प्रजातंत्र देश में सभी को अपने विचार रखने की स्वतंत्रता है। लेकिन इन विचारों को हम संवैधानिक दायरे के अंदर रख सकते हैं।

उपराष्ट्रपति के मुताबिक, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की सीमाएं हैं। उन्होंने कहा कि हमें जीने के लिए लोकतंत्र के मूल्यों की आवश्यकता है, व्यक्तिगत गरिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन ये देश की एकता और अखंडता से महत्वपूर्ण नहीं हो सकती।

क्या RSS के बाद PM मोदी- अमित शाह ने भी भांप लिया जनाक्रोश, 2019 से पहले करा सकते हैं आम चुनाव

सुप्रीम कोर्ट सख्त : गाय के नाम पर हिंसा करने वालों पर करें सख्त कार्रवाई, पीड़ितों को दें मुआवजा

PM के पहुंचने से पहले, छेड़खानी के विरोध में छात्राओं ने BHU गेट किया बंद, छात्रा ने मुंडवाया सिर

अपनों ने भी छोड़ा PM मोदी का साथ, हिंदू महासभा की धमकी, हम सरकार बनवा सकते हैं, तो गिरा भी सकते हैं

गोरखपुर: अपमानजनक सजा से आहत 5वीं के बच्चे ने सुसाइड नोट लिखकर आत्महत्या की

बाबा रे बाबा ! अब फलाहारी बाबा पर लॉ स्टूडेंट को जज बनवाने का झांसा देकर बलात्कार करने का आरोप

 

Related posts

Share
Share