You are here

दलित उत्पीड़न के खिलाफ योगी को काला झंडा दिखाने वाले 500 दलितों पर एफआईआर

मुरादाबाद। नेशनल जनमत संवाददाता

यूपी में दलितों के खिलाफ बीजेपी सरकार और प्रशासन का दमनपूर्ण रवैया थमने का नाम नहीं ले रहा है. सहारनपुर और अलीगढ़ में दलित और ठाकुरों के बीच हिंसा में पुलिस प्रशासन पर दलितों के खिलाफ एक पक्षीय कार्रवाई करने के आरोप लग ही रहे हैं. अब मुरादाबाद में भी पुलिस ने 500 दलितों पर एफआईआर दर्ज कर ली है. जबकि प्रदर्शनकारी इसी उत्पीड़न के विरोध में आवाज बुलंद कर रहे थे.

सहारनपुर-अलीगढ़ में उत्पीड़न से नाराज थे दलित-

सहारनपुर हिंसा में दलितो पर की जा रही एकतरफा प्रशासनिक कार्रवाई से खफा दलित सीएम से मिलने पहुंचे लेकिन व्यस्ता का हवाला देकर उनसे मिलने के लिए मना कर दिया गया. इसके बाद दलितों ने योगी मुर्दाबाद के नारे लगाए और योगी को काले झंडे भी दिखाए. अब प्रशासन ने इस मामले में 500 दलितों पर एफआईआर दर्ज कर उनको खोजना शुरू कर दिया है. दलितों का कहना है कि लोकतंत्र में विरोध का अधिकार सबको है. विरोध के नाम पर एफआईआर तानाशाही है.

पुलिस उत्पीड़न का विरोध कर रहे थे प्रदर्शनकारी–

प्रदर्शनकारियों में से एक व्यक्ति ने प्रदर्शन की बजह पूछने पर कहा कि इस समय मनुवादी सरकार है जो दलितों का उत्पीड़न कर रही है. सहारनपुर में अभी दलित समाज का उत्पीड़न किया गया लेकिन प्रदेश सरकार इस मामले में कोई कार्रवाई करने की जगह चुपचाप देखती रही. जब तक यह सरकार दलितों का उत्पीड़न करना बंद नहीं करेगी हम इस सरकार का ऐसे ही विरोध करते रहेंगें.

Related posts

Share
Share