You are here

योगी पुलिस की बरसती लाठियों की बीच आंदोलन हुआ उग्र, सरकार के रवैये से आक्रोशित हैं शिक्षा मित्र

नई दिल्ली/ लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो 

कोर्ट के फैसले से दुखी और आहत शिक्षामित्र आदित्यनाथ सरकार के रवैये से आक्रोशित होते जा रहे हैं। सरकार द्वारा शिक्षामित्रों पर लाठियां बरसाने से शिक्षामित्रों में फैल रहा आक्रोश कम होने की बजाए बढ़ता जा रहा है।

कई जिलों में शिक्षकों पर लाठियां बरसाई जा रही हैं तो कुछ की हार्ट अटैक से मौत हो रही है। सरकार समझाने की बजाए और शिक्षा मित्रों से सीधे संवाद करने की बजाए लाठी का सहारा लेकर उनके भूखे पेट और परिवार की आवाज को दबा देना चाहती है।

इसे भी पढ़ें-लाठीचार्ज के बाद शिक्षामित्रों को आई अखिलेश की याद, बोले योगी सरकार ने हमें जीते जी मार दिया है

गोरखपुर से लेकर वाराणसी तक बवाल- 

यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के शहर गोरखपुर से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी तक शिक्षामित्र प्रदर्शन कर रहे हैं. गोरखपुर में अपनी मांगों के लिए शिक्षा मित्र प्रदर्शन कर रहे थे तो पुलिस ने न सिर्फ शिक्षा मित्रों पर लाठियां बरसाईं बल्कि दो दर्जन शिक्षा मित्रों को हिरासत में भी ले लिया.

क्यों नाराज हैं शिक्षा मित्र- 

दरअसल 25 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द कर दिया था. कोर्ट ने शिक्षा मित्रों को शिक्षक भर्ती की औपचारिक परीक्षा में बैठने का आदेश दिया है. उन्हें ये परीक्षा ज्यादा से ज्यादा दो बार में पास करने को भी कहा गया है.

इसे भी पढ़े-गोरखपुर दंगा मामले में खुद को बचाने के लिए अपनी सरकार की पूरी ताकत झोंक दी है CM आदित्यनाथ ने !

खैर ये कोर्ट का मसला है इसमें सरकार से नाराजगी का क्या मतलब ? इस बारे में शिक्षामित्रों का आरोप हैं कि सरकार की नियत ठीक नहीं थी शिक्षामित्रों के प्रति इसलिए उन्होंने कोर्ट में उचित पैरवी नहीं की। शिक्षा मित्र इस फैसले के खिलाफ पूरे प्रदेश में आंदोलन कर रहे हैं.

इलाहाबाद में मौर्य के घर के बाहर प्रदर्शन- 

इलाहाबाद में शिक्षा मित्रों ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के घर के बाहर प्रदर्शन किया. एक हजार से ज़्यादा शिक्षामित्र तेज बारिश में भी मौर्य के घर के बाहर नारेबाजी करते रहे. करीब डेढ़ घंटे बाद अफसरों ने किसी तरह समझा-बुझाकर शिक्षामित्रों को वापस भेजा. इस दौरान पूरे इलाके को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया था.

लखनऊ से लेकर वाराणसी तक प्रदर्शन- 

शिक्षा मित्रों ने राजधानी लखनऊ में भी धरना-प्रदर्शन करके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इंसाफ की गुहार लगाई है. वहीं, पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पूर्वांचल के हजारों शिक्षा मित्रों ने पीएम के संसदीय कार्यालय के पास प्रदर्शन करके अपना विरोध जताया. पुलिस ने उन्हें संसदीय कार्यालय तक नहीं जाने दिया तो आंदोलनकारियों ने चक्काजाम भी कर दिया.

इसे भी पढ़ें- उनसे कह दो कि अभी डरे नहीं हैं हम, हारे हैं जरूर मगर मरे नहीं हैं हम…सूरज कुमार बौद्ध की कविता

नोयडा में महेश शर्मा के घर पर  प्रदर्शन- 

सहायक शिक्षकों ने शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री और गौतमबुद्धनगर के सांसद महेश शर्मा के आवास पर प्रदर्शन किया। यहां तक कि कई जगहों पर स्कूल भी जबरन बंद करवाए। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में पहुंचे शिक्षा मित्रों ने सड़कों पर जाम भी लगा दिया। मुरादाबाद में भी हजारों शिक्षा मित्र अपनी मांगों के समर्थन में सड़कों पर उतरे. जिससे कई जगह लंबा जाम भी लग गया.

Related posts

Share
Share