You are here

योगी के मंत्री ने खोली सरकार के दावों की पोल, बोले “ऊर्जा मंत्री जी बिजली व्यवस्था ध्वस्त हो गई है “

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

योगी सरकार के प्रदेश में 24 घंटे बिजली बहाल करने के दावों की पोल उनकी ही सरकार के कैबिनेट मंत्री जय प्रताप सिंह ने खोल कर रख दी है। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को लिखे पत्र में आबकारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने साफ शब्दों में कहा है कि मंत्री जी बिजली व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। इससे पहले गुरुवार को पीएम से मुलाकात में सांसदों ने कहा था कि योगी सरकार के कामकाज से परेशान लोग विधायकों और हमारा मजाक उड़ा रहे हैं।

सीएम योगी ने कहा था 24 घंटे मिलेगी बिजली- 

योगी आदित्यनाथ ने बिजली के क्षेत्र में सूबे के सभी जिलों को 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने का बड़ा फैसला दो महीने पहले लिया था। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश जारी करते हुए कहा था कि सभी जिला मुख्यालयों में 24 घंटे, तहसील स्तर पर 20 घंटे और ग्रामीण क्षेत्रों में 18 घंटे बिजली मुहैया कराने के प्रबंध 14 अप्रैल से किए जाएं।

इसे भी पढ़ें-BJP सांसदों ने PM मोदी को दिखाया आईना, बोले जनता हमारा और विधायकों का मजाक बना रही है

योगी ने शास्त्री भवन में ऊर्जा विभाग के प्रस्तुतिकरण के दौरान वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिया था कि वे ग्रामीण क्षेत्रों में शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक हर हाल में निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करें, ताकि परीक्षा में सम्मिलित हो रहे विद्यार्थियों को कोई दिक्कत न हो।

आबकारी मंत्री ने दावे की हवा निकाली-

 

इसे भी पढ़ें- स्वास्थ्य सेवा निजी हाथों में देकर जिम्मेदारी और आरक्षण से दोनों से पल्ला झाड़ेगी मोदी सरकार

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को लिखे पत्र में स्पष्ट तौर पर आबकारी एवं मद्य निषेध के कैबिनेट मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि जनपद सिद्धार्थनगर की बिजली आपूर्ति पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। मुख्यमंत्री के आदेश के बाद भी बिजली आपूर्ति में कोई सुधार नहीं हो पाया है। स्थिति लगातार खराब होती जा रही है। शहर और ग्रामीण क्षेत्रों की बिजली आपूर्ति बाधित होने से सरकार की छवि खराब होती जा रही है।

कल ही सांसदों ने खोली थी सरकार के दावों की पोल-

प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान यूपी के सांसदों ने सरकार के दावों की पोल खोलते हुए क्या कहा था पढ़िए-

इसे भी पढ़ें- योगी के गोरखपुर में मेडीकल कॉलेज के 378 चिकित्सकों को पिछले चार महीने से वेतन नहीं

बीजेपी आने पर नहीं बदला कोई माहौल- 

पीएम मोदी से मिलने पहुंचे कई सांसदों ने कहा कि लगता था कि यूपी में भाजपा सरकार बनने पर माहौल बदलेगा। क्षेत्र में काम होगा तो अगले चुनाव के लिए संभावनाएं बेहतर बनेंगी, पर स्थिति उलट गई है। प्रदेश के कई मंत्री सुनते ही नहीं। बाहर से आए और अब मंत्री बने कुछ नेता अपने लोगों का काम करते हैं लेकिन भाजपा कार्यकर्ताओं की नहीं सुनते। अधिकारी तक फोन नहीं उठाते।

भ्रष्टाचार बरकरार है- 

विकास संबंधी कोई काम बताने पर उसमें तकनीकी अड़चनें बताकर बाधा डालते हैं। कुछ सांसदों ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास का मामला हो या हैंडपंप लगवाने का काम, अधिकारी पूरी तरह मनमानी करते हैं। भ्रष्टाचार का भी बोलबाला है। भाजपाइयों के साथ पुलिस का रवैया भी अच्छा नहीं है।

जनता भाजपा सांसदों-विधायकों पर तंज कस रही है- 

सांसदों ने कानून-व्यवस्था की बुरी स्थिति का  भी हवाला दिया। कहा कि इससे भाजपा और इसके जनप्रतिनिधियों की साख प्रभावित हो रही है। क्षेत्र में लोग भाजपा सांसदों व विधायकों पर तंज कसने लगे हैं। अधिकारियों की सलाह पर बनी प्रदेश सरकार की नीति से निर्माण सामग्री के दाम आसमान पर पहुंचते जा रहे हैं। इससे लोगों का घर बनवाना मुश्किल होता जा रहा है। लोगों में नाराजगी बढ़ती जा रही है।

Related posts

Share
Share